मोदी का बड़ा हमला, 10 जनपथ बना हुआ था दलालों और बिचौलियों का पथ

Last Updated: बुधवार, 8 मई 2019 (21:31 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र ने राजधानी के रामलीला मैदान में कांग्रेस पर तगड़ा हमला करते हुए बुधवार को कहा कि 10, जनपथ दलालों और बिचौलियों का पथ बना हुआ था। भाजपा की सरकार आने के बाद 5 साल में सत्ता के इन दलालों को बाहर का रास्ता दिखाया गया।

उन्होंने पर हमला बोलते हुए कहा कि राजीव गांधी और उनके ससुराल वालों को छूट दी गई। राजीव गांधी के साथ छुट्टी मनाने वालों में उनकी ससुराल वाले यानी इटली वाले भी शामिल थे। सवाल ये कि क्या विदेशियों को भारत के पर ले जाकर तब देश की सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं किया गया था?
मोदी ने कहा कि कांग्रेस के नामदार परिवार ने का टैक्सी की तरह व्यक्तिगत इस्तेमाल किया, उसका अपमान किया था। ये बात तब की है, जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे और 10 दिन की छुट्टियां मनाने निकले थे। क्या आपने सुना है कि कोई अपने परिवार के साथ युद्धपोत से छुट्टियां मनाने जाए?
आप इस सवाल से हैरान मत होइए, ये हुआ है और हमारे ही देश में हुआ है। देश की रक्षा करने वालों को अपनी जागीर कौन समझता रहा है? जब एक परिवार ही सर्वोच्च हो जाता है, तब देश की सुरक्षा दांव पर लग ही जाती है। जब एक परिवार ही सर्वोच्च हो जाता है, तो आम नागरिकों की सुरक्षा की चिंता भी नहीं रह जाती।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नामदार परिवार की चौथी पीढ़ी को आज देश देख रहा है, लेकिन ये वंशवादी प्रवृत्ति सिर्फ एक परिवार तक ही सीमित नहीं रही है। जो इस परिवार के करीबी रहे, उन्होंने भी वंशवाद का झंडा बुलंद रखा। महाराष्ट्र में पवार वंश तो कर्नाटक में देवेगौड़ाजी का वंशवाद फल-फूल रहा है।
दिल्ली में दीक्षित वंश, हरियाणा में हुड्डा वंश से लेकर भजनलालजी और बंसीलालजी तक सिर्फ वंशवाद की ही सियासत चल रही है। पंजाब में बेअंतसिंह परिवार, राजस्थान में गहलोत और पायलट परिवार, मध्यप्रदेश में सिंधिया, कमलनाथ और दिग्विजयजी वंशवाद का नारा बुलंद कर रहे हैं।

वंशवाद की ये विकृति कांग्रेस के साथ दूसरे महामिलावटी दलों में भी फैली हुई है। जम्मू-कश्मीर में अब्दुल्ला वंश और मुफ्ती वंश चल रहा है। यूपी में मुलायमसिंहजी, तो बिहार में लालूजी के परिवार के नाम पर ही पार्टियां चल रही हैं।
तमिलनाडु में करुणानिधिजी का वंश राजनीतिक धुरी तो आंध्रप्रदेश में नायडूजी भी उसी वंशवाद का झंडा उठाए हुए हैं। वंशवाद की ये विकृति कांग्रेस के साथ दूसरे महामिलावटी दलों में भी फैली हुई है। जम्मू-कश्मीर में अब्दुल्ला वंश और मुफ्ती वंश चल रहा है इसलिए आज जब मैं इनके वंशवाद पर सवाल खड़े करता हूं, तो इन्हें दिक्कत होने लगती है।

 

और भी पढ़ें :