युवराज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया संन्यास, मां की आंखों में आए आंसू

Last Updated: सोमवार, 10 जून 2019 (15:41 IST)
मुंबई। प्रसिद्ध क्रिकेटर और रिकॉर्डों के बादशाह युवराजसिंह ने सोमवार को से लेने का ऐलान कर दिया। युवराज करीब 17 साल तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते रहे।
युवराज ने कहा कि मैंने कभी हार नहीं मानी। खेल से मेरा लव और हेट का रिश्ता रहा है। युवराज जब संन्यास की घोषणा कर रहे थे, तब सामने बैठीं उनकी मां शबनम की आंखों में आंसू छलक आए।

युवराज भारत के लिए 40 टेस्ट, 304 वनडे और 58 ट्वंटी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेल चुके हैं, जिनमें उन्होंने क्रमश: 1900, 8701 और 1177 रन बनाए हैं। युवराज ने अपना आखिरी ट्वंटी-20 मैच फरवरी 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ और वनडे जून 2017 में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था।

उम्दा बल्लेबाज युवराज ने गेंदबाजी में हाथ आजमाए। उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 9, वनडे मैचों में 111, टी-20 में 28 और आईपीएल में 36 विकेट लिए।कैंसर के खिलाफ जंग लड़ने वाले युवराज ने कहा कि अब वे कैंसर पीड़ितों की मदद करेंगे।
12 दिसंबर 1981 को चंडीगढ़ शहर में जन्‍मे के पिता योगराज भी भारतीय टीम के लिए खेल चुके हैं। बचपन में स्केटिंग का शौक रखने वाले युवराज को क्रिकेट खेलने की प्रेरणा अपने पिता से ही मिली। उन्‍होंने बेहद कड़ाई से युवराज को इस खेल में करियर बनाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने युवराज के लिए घर में ही पिच बनवा दी थी। युवराज ने बचपन में एक पंजाबी फिल्‍म 'मेहंदी शगणा दी' में भी काम किया था।

 

और भी पढ़ें :