पाकिस्तान को ध्वस्त कर भारत के युवा लड़ाके Under-19 World Cup के फाइनल में

Last Updated: बुधवार, 5 फ़रवरी 2020 (08:19 IST)
पौचेफस्ट्रूम। ओपनर (नाबाद 105) के बेहतरीन शतक और उनकी दिव्यांश सक्सेना (नाबाद 59) के साथ पहले विकेट के लिए 176 रन की जबरदस्त साझेदारी के बदौलत गत चैंपियन भारत ने चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को मंगलवार को एकतरफा अंदाज में 10 विकेट से धूल चटाकर आईसीसी (Under-19 World Cup) क्रिकेट टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में प्रवेश कर लिया।

बाएं हाथ के तेज गेंदबाज सुशांत मिश्रा (28 रन पर 3 विकेट) की अगुवाई में गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन से भारत ने पाकिस्तान को 43.1 ओवर में 172 रन पर ढेर करने के बाद 35.2 ओवर में बिना कोई विकेट खोए 176 रन बनाकर ना केवल शानदार जीत हासिल की बल्कि देश को जश्न मनाने का मौका भी दे दिया। यशस्वी ने भारत के लिए विजयी छक्का मारा और अपना शतक भी पूरा कर लिया।

भारतीय टीम लगातार तीसरी बार और कुल सातवीं बार फाइनल में पहुंची है। भारत ने इससे पहले 2000, 2008, 2012 और 2018 में फाइनल में पहुंचकर खिताब जीता था जबकि वह 2006 और 2016 में फाइनल में पहुंचकर उपविजेता रहा था। भारत का फाइनल में बांग्लादेश
और न्यूजीलैंड के बीच गुरुवार को होने वाले दूसरे सेमीफाइनल के विजेता से नौ फरवरी को के इसी मैदान पर मुकाबला होगा।
पाकिस्तान की टीम जिस तरह 172 रन पर सिमटी थी, उससे लग रहा था कि भारतीय टीम को जीत हासिल करने के लिए पसीना बहाना पड़ेगा लेकिन भारतीय ओपनरों ने कमाल का प्रदर्शन किया और एकतरफा अंदाज में 10 विकेट से मैच निपटा दिया।

भारत की सीनियर टीम पिछले वर्ष इंग्लैंड में हुए एकदिवसीय विश्वकप के सेमीफाइनल में हारकर फाइनल में नहीं पहुंच पाई थी लेकिन युवा भारतीय लड़ाकों ने गजब का प्रदर्शन करते हुए खिताबी मुकाबले में जगह बना ली जबकि पाकिस्तान का पांचवीं बार फाइनल में पहुंचने का सपना टूट गया।

यशस्वी ने शानदार शतकीय पारी खेली और साथ ही वह टूर्नामेंट में 300 रन पूरे करने वाले पहले बल्लेबाज भी बन गए। यशस्वी ने 113 गेंदों पर आठ चौकों और चार छक्कों की मदद से नाबाद 105 रन की मैच विजयी पारी खेली। दिव्यांश ने उनका बखूबी साथ दिया और 99 गेंदों पर छह चौकों की मदद से नाबाद 59 रन बनाए।
यशस्वी ने आमिर अली की गेंद पर विजयी छक्का मारा और टीम को शानदार जीत दिलाने के बाद अपने गले में लटके लॉकेट को चूम लिया। दोनों ओपनरों ने एक दूसरे को गले लगाकर इस जीत की बधाई दी और विजयी छक्का लगते ही पूरा भारतीय खेमा मैदान में दौड़ पड़ा। यशस्वी ने टूर्नामेंट में भारत की तरफ से पहला शतक जमाया।

इससे पहले पाकिस्तान ने इस मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। लेकिन उसकी शुरुआत खराब रही और उसने 34 रन तक दो विकेट गंवा दिए। मिश्रा ने मोहम्मद हुरेरा (4) को और रवि बिश्नोई ने फहद मुनीर (0) को आउट किया। पाकिस्तानी टीम इन झटकों के बाद वापसी नहीं कर पाई।

हैदर अली ने कप्तान रोहेल नजीर के साथ 62 रन की साझेदारी कर पारी को संभालने की कोशिश की लेकिन लेग स्पिनर यशस्वी जायसवाल ने अली को आउट कर जैसे ही इस साझेदारी को तोड़ा पाकिस्तान के अगले बल्लेबाज आयाराम गयाराम की तर्ज पर पैवेलियन लौटते रहे।

अली ने 77 गेंदों पर नौ चौकों की मदद से 56 रन बनाए। कासिम अकरम 9 रन बनाकर चौथे बल्लेबाज के रुप में 118 के स्कोर पर रन आउट हो गए। नजीर ने मोहम्मद हारिस के साथ पांचवें विकेट के लिए 28 रन जोड़े लेकिन अर्थव अंकोलेकर ने हारिस को आउट कर दिया। हारिस ने 15 गेंदों पर 21 रन में एक चौका और एक छक्का लगाया।
Rohail Nazir
मिश्रा ने नजीर को आठवें बल्लेबाज के रुप में 169 के स्कोर पर आउट किया। नजीर ने 102 गेंदों पर 62 रन की पारी में 6 चौके लगाए। तेज गेंदबाज कार्तिक त्यागी ने निचले क्रम में 2 विकेट निकाले जबकि मिश्रा ने आमिर अली को 44वें ओवर की पहली गेंद पर आउट कर पाकिस्तान की पारी 172 रन पर समेट दी।

मिश्रा ने 8.1 ओवर में 28 रन पर तीन विकेट, कार्तिक ने 32 रन पर 2 विकेट, बिश्नोई ने 46 रन पर 2 विकेट, अंकोलेकर ने 29 रन पर 1
विकेट और जायसवाल ने 11 रन पर 1 विकेट लिया।

संक्षिप्त स्कोर : पाकिस्तान 43.1 ओवर में 172 रन
भारत : 35.2 ओवर में बिना कोई विकेट खोए 176 रन


और भी पढ़ें :