शुक्रवार, 27 जनवरी 2023
  1. खेल-संसार
  2. क्रिकेट
  3. समाचार
  4. Robin Uthappa announces retirement from all forms of Indian cricket
Written By
Last Updated: बुधवार, 14 सितम्बर 2022 (22:27 IST)

Robin Uthappa : स्टार इंडियन क्रिकेटर रॉबिन उथप्पा ने लिया संन्यास, टी-20 वर्ल्डकप विजेता टीम का थे अहम हिस्सा

नई दिल्ली। भारत की एक दिवसीय और टी-20 टीम के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज रॉबिन उथप्पा ने बुधवार को क्रिकेट के सभी प्रारूपों से सन्यास लेने की घोषणा की है। उथप्पा ने ट्वीट कर कहा कि अपने देश और कर्नाटक राज्य का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए बहुत सम्मानजनक क्षण रहे हैं। एक न एक दिन हर किसी को सन्यास लेना होता है और कृतज्ञ हृदय के साथ मैंने भारतीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का फैसला किया है। 
 
विकेटकीपर बल्लेबाज उथप्पा ने भारतीय टीम के लिए 46 एकदिवसीय और 13 टी-20 मुकाबले खेले हैं। वह हालांकि भारत की टेस्ट टीम में जगह बनाने में असफल रहे। उथप्पा (36) ने 9 अप्रैल 2006 को गुवाहटी के नेहरू स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ मैदान में उतर कर अपने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी। उनका आखिरी एक दिवसीय मुकाबला 14 जुलाई 2015 को हरारे में जिम्बाव्वे के खिलाफ था। उथप्पा ने 25.94 की औसत से 46 अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय मैचों में भारत के लिए 934 रनों का योगदान दिया जिसमें उनके पदार्पण मैच के 86 रन शामिल हैं।
 
कर्नाटक की विस्फोटक बल्लेबाज उथप्पा ने अपने टी-20 करियर की शुरुआत 13 सितंबर 2007 को स्काटलैंड के खिलाफ की जबकि अंतिम टी-20 मुकाबला 19 जुलाई 2015 को हरारे में जिम्बाव्वे के खिलाफ खेला। वे 2007 टी-20 विश्वकप विजेता टीम के सदस्य रहे। उथप्पा ने अपने टी-20 करियर में 118 के स्ट्राइक रेट से 249 रन बनाए। उथप्पा ने एकदिवसीय और टी-20 मैचों में कुल 1183 रन बनाए।
 
आईपीएल फ्रेंचाइजी के लिए उथप्पा पंसदीदा खिलाड़ी रहे। मुबंई इंडियन का साथ निभाकर उन्होने अपने आईपीएल करियर का आगाज किया मगर इस बीच उन्हें कोलकाता नाइट राइडर्स और रायल चैलेंजर बैंगलोर ने भी पसंद कर अपनी टीम में जगह दी। उन्होंने 205 आईपीएल मैचों में 130.25 के स्ट्राइक रेट से 4959 रन बनाये हैं जिसमें उनके 481 चौके और 182 छक्के हैं कि उनका खेलने का अंदाज विस्फोटक बल्लेबाज की तरह रहा है।
ये भी पढ़ें
वर्ल्ड चैंपियनशिप में रेसलर विनेश फोगाट ने ब्रॉन्ज जीता, इस टूर्नामेंट में 2 पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला