इंग्लैंड दौरे की तैयारी से संतुष्ट नहीं है भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच पोवार, दिया यह बयान

पुनः संशोधित बुधवार, 2 जून 2021 (17:36 IST)
मुंबई:के मुख्य कोच ने कहा है कि इंग्लैंड दौरे के लिए टीम की तैयारी आदर्श नहीं है, लेकिन टीम सकारात्मक सोच रही है।
पोवार ने मंगलवार को इंग्लैंड रवाना होने से पूर्व एक प्रेस वार्ता में कहा, “ हमें टेस्ट, वनडे और टी-20 क्रिकेट खेलने को मिल रहा है। यह 45 दिनों का लंबा दौरा है। शारीरिक रूप से तैयारी करना संभव नहीं है, लेकिन मानसिक तौर पर मजबूत होने से फर्क पड़ेगा। जब भी मैं एक नई टीम लेता हूं तो मैं कोशिश करता हूं और एक उद्देश्य ढूंढता हूं। मैंने मुंबई की टीम के साथ भी कुछ ऐसा ही किया था, लेकिन भारतीय महिला टीम के साथ मुझे उद्देश्य गायब लगा। महिला खिलाड़ियों को कभी भी टी-शर्ट नहीं दी गई थी और न ही उन्हें महिला क्रिकेट के सफर के बारे में बताया गया था। ”
समझा जाता है कि रमेश पोवार और भारतीय महिला टीम की कप्तान मिताली राज ने बीते दिनों दावा किया था कि 2018 टी-20 विश्व कप में भारत के सेमीफाइनल से बाहर होने के बाद उनके बीच सार्वजनिक रूप से हुए विवाद को लेकर सुलह हो गई है। दोनों ने यह भी कहा था कि जब वे लगभग तीन साल बाद इंग्लैंड दौरे के लिए फिर से नेशनल ड्यूटी पर लौटे तो दोनों ने पूरी टीम में सकारात्मक माहौल बनाने का प्रयास किया। इतना ही नहीं पोवार ने भारतीय महिला टीम के सभी खिलाड़ियों को विशेष जर्सी सौंपने के लिए एक समारोह का भी आयोजन किया था। टीमें में कई खिलाड़ी करियर का पहला टेस्ट मैच और कुछ खिलाड़ी चार साल बाद अपना पहला टेस्ट खेलने के लिए तैयार हैं। समारोह से पहले उन्होंने महिला क्रिकेट के इतिहास और उन लोगों की यात्रा के बारे में बताया, जिन्होंने क्रिकेटरों की वर्तमान पीढ़ी के लिए मार्ग प्रशस्त किया है।
पोवार ने कहा, “ जब आप भारत की टी-शर्ट पहनते हैं तो आपके पास एक उद्देश्य होना चाहिए। यह समझने के लिए कि आप यह खेल क्यों खेल रहे हैं, आप इस टीम के आसपास क्यों हैं और आगे क्या उद्देश्य है। अगर आपके पास कोई उद्देश्य नहीं है तो आप टीम में ऐसा माहौल नहीं बना पाएंगे और लंबे समय तक लगातार प्रदर्शन नहीं कर पाएंगे। निश्चित रूप से मैं पूरी दुनिया में और अधिक टेस्ट मैच चाहता हूं और यह एक अच्छी शुरुआत है। आइए कदम से कदम मिलाकर चलें और महिला खिलाड़ियों को उस क्षेत्र में न धकेलें, जहां आप टेस्ट क्रिकेट में बहुत अधिक चीजों की मांग करते हैं। यह एक ऐसा प्रारूप है जो पिछले 10 वर्षों में लगातार नहीं खेला गया है। ऐसे में इंतजार करना और यह देखना होगा कि खिलाड़ी कैसी प्रतिक्रिया देते हैं। हमें आश्चर्य होगा जब वे मौका मिलने पर बेहतर प्रदर्शन करेंगे। ”
उल्लेखनीय है कि भारतीय महिला टीम अपना एकमात्र टेस्ट में 16 जून से खेलेगी। नतीजतन उसके पास परिस्थितियों के अनुकूल होने के लिए न तो पर्याप्त समय होगा और न ही कोई अभ्यास मैच। भारत के घरेलू क्रिकेट सत्रों में दिन का क्रिकेट न होने के कारण नवनियुक्त कोच के लिए खिलाड़ियों को आवश्यक कौशल और मानसिकता के लिए प्रशिक्षित करना एक कठिन चुनौती होगी, हालांकि पोवार सकारात्मक तरीके से सोच रहे हैं।(वार्ता)



और भी पढ़ें :