कर्नाटक और गुजरात पहुंचे विजय हजारे ट्रॉफी के सेमीफाइनल में

Last Updated: सोमवार, 8 मार्च 2021 (23:35 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली:कप्तान प्रियांक पांचाल (134) की जबरदस्त शतकीय पारी और लेफ्ट आर्म तेज मध्यम तेज गेंदबाज अरजन नागवासवाला (4/30) की शानदारी गेंदबाजी की बदौलत ने आंध्र प्रदेश को विजय हजारे ट्रॉफी के सोमवार को पहले क्वार्टर फाइनल मुकाबले में 117 रन से हरा कर में प्रवेश किया।


गुजरात ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में सात विकेट पर 299 रन बनाकर आंध्र प्रदेश को 300 रनों का मुश्किल लक्ष्य दिया। जवाब में आंध्र प्रदेश की टीम 41.2 ओवर में 182 रन पर ही ऑलआउट हो गई। प्रियांक ने अपनी पारी में 10 चौकों और दो छक्कों की मदद से 131 गेंदों पर 134 रन बनाए, जिसकी बदौलत गुजरात बड़ा लक्ष्य देने में कामयाब हुआ। राहुल वी शाह (36) और रिपल पटेल (35) ने भी अच्छी पारी खेली। राहुल ने तीन चौकों की मदद से 59 गेंदों पर 36, जबकि रिपल ने दो चौकों और दो छक्कों की मदद से 24 गेंदों पर 35 रन बनाए।
गेंदबाजी के मोर्चे पर लेफ्ट आर्म मध्यम तेज गेंदबाज अरजन नागवासवाला का जलवा छाया। गुजरात की तरफ से नागवासवाला ने आठ ओवर में 30 रन देकर चार विकेट झटके। लेफ्ट आर्म स्पिनर पीयूष चावला ने भी 8.2 ओवर में 33 रन पर तीन विकेट लिए। चिंतन गाजा, हार्दिक पटेल और करन पटेल के खाते में 1-1 विकेट आया।

आंध्र प्रदेश की टीम ने गेंदबाजी के माेर्च पर तो गुजरात को कुछ हद तक नियंत्रण में कर लिया, लेकिन बल्लेबाजी में उसकी टीम पस्त हो गई। केवल विकेटकीपर बल्लेबाज रिक्की भुई (67) ने अर्धशतकीय पारी खेली। उन्होंने तीन चौकों और चार छक्कों की मदद से 76 गेंदों पर 67 रन बनाए, जबकि अन्य कोई बल्लेबाज बड़ा स्कोर नहीं बना पाया, हालांकि मध्यक्रम के तीन बल्लेबाजों नरेन रेड्डी, हार्दिक पटेल और शोएब मोहम्मद खान ने क्रमश: 28, 23 और 25 रन की पारी खेली, लेकिन ये रन पर्याप्त साबित न हुए और टीम को हार का सामना करना पड़ा।
रविकार समर्थ, देवदत्त पाडिकल के शानदार शतक से सेमीफाइनल में कर्नाटक

ओपनर एवं कप्तान रविकुमार समर्थ (192) और देवदत्त पाडिकल (101) की शानदार शतकीय पारियों और तेज गेंदबाज रोनित मोरे की घातक गेंदबाजी की बदौलत ने केरल को विजय हजारे ट्रॉफी के सोमवार को दूसरे क्वार्टर फाइनल मुकाबले में 80 रन से हरा कर अपनी सेमीफाइनल की टिकट कटाई।

कर्नाटक ने पहले खेलते हुए 50 ओवर में तीन विकेट 338 रन का विशाल स्कोर बनाया। जवाब में केरल की टीम 43.4 ओवर में 258 रन पर ऑलआउट हो गई। कप्तान रविकुमार समर्थ ने तूफानी पारी खेलते हुए 22 चौकों और तीन छक्कों की मदद से 158 गेंदों पर 192 रन बनाए, जबकि युवा बल्लेबाज देवदत्त पाडिकल ने 10 चौकों और दो छक्कों की मदद से 101 रन बनाए। समर्थ और पाडिकल के बीच पहले विकेट के लिए 249 रनों की शानदार और महत्वपूर्ण साझेदारी हुई, जिसने टीम का बड़ा स्कोर सुनिश्चित किया। गेंदबाजी के मोर्चे पर रोनित मोरे ने कहर ढाया। उन्होंने नौ ओवर में 36 देकर पांच विकेट चटकाए। श्रेयस गोपाल और कृष्णप्पा गौतम को दो-दो और प्रसिद्ध कृष्णा को एक विकेट मिला।

केरल की तरफ से मध्यक्रम के बल्लेबाज वाथसल गोविंद ने सर्वाधिक 92 रन बनाए, जिन्होंने 96 गेंदों पर 92 रन की पारी में छह चौके और तीन छक्के जड़े। उनके अलावा विकेटकीपर बल्लेबाज मोहम्मद अजहरुद्दीन ने आतिशी अर्धशतकीय पारी खेली। अजहरुद्दीन ने पांच चाैकों और दो छक्कों की मदद से 34 गेंदाें पर 52 रन बनाए। गेंदबाजी में केवल एनपी बासिल को छोड़कर अन्य सभी गेंदबाज असहाय दिखाए दिए। बासिल ने आठ ओवर में 57 रन पर तीन विकेट चटकाए। (वार्ता)



और भी पढ़ें :