भारत ने नॉटिंघम टेस्ट में इंग्लैंड को 203 रनों से हराया

नॉटिंघम| Last Updated: बुधवार, 22 अगस्त 2018 (19:40 IST)
नॉटिंघम। ने के खिलाफ तीसरे क्रिकेट टेस्ट में जीत की औपचारिकता 5वें और अंतिम दिन बुधवार सुबह पूरी करते हुए यह मुकाबला 203 रनों के बड़े अंतर से जीतकर 5 मैचों की का स्कोर 1-2 कर दिया। भारत की नॉटिंघम के ट्रेंटब्रिज मैदान पर पिछले 59 वर्षों में यह दूसरी जीत है।
भारत ने इंग्लैंड के सामने 521 रनों का विशाल लक्ष्य रखा था। इंग्लैंड ने मंगलवार को 9 विकेट पर 311 रन बनाकर भारत की जीत का इंतजार अंतिम दिन के लिए बढ़ा दिया था। ऑफ स्पिनर रविचन्द्रन अश्विन ने आखिरी बल्लेबाज जेम्स एंडरसन को अजिंक्य रहाणे के हाथों कैच कराकर इंग्लैंड की पारी 104.5 ओवरों में 317 रनों पर समाप्त कर दी और इसके साथ ही भारत ने सीरीज में दमदार वापसी कर ली।

भारत की इंग्लैंड की जमीन पर रनों के लिहाज से यह दूसरी सबसे बड़ी जीत है। भारत ने इससे पहले जून 1996 में लीड्स में इंग्लैंड को 279 रनों से हराया था। भारत की ट्रेंटब्रिज पर आखिरी जीत जुलाई 2007 में थी जब भारत 7 विकेट से जीता था।
भारत ने जून 1959 में पहली बार ट्रेंटब्रिज में मुकाबला खेला था और उसके बाद से इस मैदान पर उसने अपनी दूसरी जीत हासिल की। पहले 2 टेस्ट क्रमश: 31 रन और पारी तथा 159 रन से गंवाने के बाद किसी को टीम इंडिया से ऐसी वापसी की उम्मीद नहीं थी। लेकिन भारतीय बल्लेबाजों और गेंदबाजों दोनों ने इस मुकाबले में दमदार प्रदर्शन किया।

टीम इंडिया ने 5वें दिन की सुबह खेल शुरू होने के बाद इंग्लैंड की पारी को निपटाने में 17 गेंदों का समय दिखाया। अश्विन ने एंडरसन को रहाणे के हाथों कैच कराकर इस मैच में अपना पहला विकेट हासिल किया। लेग स्पिनर आदिल राशिद 64 गेंदों में 5 चौकों और 1 छक्के की मदद से 33 रन बनाकर नाबाद रहे। भारत इस मैच को मंगलवार को ही निपटा सकता था लेकिन राशिद और एंडरसन ने अंतिम कुछ ओवर निकालकर मुकाबला 5वें दिन पहुंचा दिया।
इंग्लैंड की दूसरी पारी में जसप्रीत बुमराह 29 ओवरों में 85 रनों पर 5 विकेट लेकर सबसे सफल रहे। ईशांत शर्मा ने 70 रनों पर 2 विकेट लिए जबकि अश्विन ने 44 रनों पर 1 विकेट, मोहम्मद शमी ने 78 रनों पर 1 विकेट और हार्दिक पांड्या ने 22 रनों पर 1 विकेट लिया। बुमराह ने मंगलवार को अंतिम सत्र में इंग्लैंड के 4 विकेट निकालकर भारत की जीत का मार्ग प्रशस्त कर दिया था।

भारत ने टॉस हारने के बाद कप्तान विराट कोहली के 97 और रहाणे के 81 रनों की बदौलत पहली पारी में 329 रन बनाए थे। ऑलराउंडर पांड्या ने अपने करियर में पहली बार 5 विकेट लेकर इंग्लैंड को 161 रनों पर ढेर कर दिया। पांड्या का यही स्पैल इस मैच में निर्णायक साबित हुआ। भारत को पहली पारी में 168 रनों की बढ़त मिली थी।
भारत ने कप्तान विराट के 103 और चेतेश्वर पुजारा के 72 रनों के दम पर अपनी दूसरी पारी 7 विकेट पर 352 रनों पर घोषित कर इंग्लैंड के सामने 521 रनों का असंभव लक्ष्य रख दिया। भारत की दूसरी पारी में पांड्या के नाबाद 52 रनों का भी योगदान रहा।

मैच के चौथे दिन इंग्लैंड ने पहले सत्र में 4 विकेट गंवाए। लेकिन दूसरे सत्र में भारत को कोई विकेट नहीं मिला। अंतिम सत्र में बुमराह के कहर से भारत ने 5 विकेट निकाले। भारत ने जीत की औपचारिकता अंतिम दिन पूरी की और इस सीरीज को रोमांचक बना दिया। दोनों देशों के बीच चौथा टेस्ट साउथम्पटन में 30 अगस्त से खेला जाएगा, जहां भारत का लक्ष्य सीरीज में 2-2 की बराबरी हासिल करना होगा। (वार्ता)




और भी पढ़ें :