भारत के डे-नाइट टेस्ट से इंकार की सीए ने की पुष्टि

पुनः संशोधित मंगलवार, 8 मई 2018 (13:40 IST)
मेलबर्न। भारत के साथ आगामी टेस्ट सीरीज़ का पहला मैच दिन-रात्रि प्रारूप में खेलने के इच्छुक क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने मंगलवार को आधिकारिक रूप से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के इससे इंकार की पुष्टि कर दी। सीए ने मंगलवार को जारी बयान में कहा कि भारतीय बोर्ड ने एडिलेड में सीरीज़ के पहले टेस्ट को दिन-रात्रि प्रारूप में खेलने से इंकार कर दिया है इसलिए अब इसे दिन में ही खेला जाएगा।

इससे एक दिन पहले ने भी कहा था कि वह इस मैच को दिन-रात्रि प्रारूप में नहीं खेलेगा क्योंकि उसे अभी गुलाबी गेंद से खेलने को लेकर कुछ चिंताएं हैं। ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड को उम्मीद थी कि भारत छह से 10 दिसंबर तक एडिलेड ओवल में सीरीज़ का पहला टेस्ट गुलाबी गेंद से खेलने को तैयार हो जाएगा जहां मेजबान टीम ने इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड को पिछले तीन घरेलू सत्रों में हराया है, लेकिन काफी चर्चा और अपील के बावजूद बीसीसीआई ने अपने पक्ष को बनाए रखा।

सीए ने कहा, हम इस बात की पुष्टि कर सकते हैं कि बीसीसीआई से हमें यह सलाह मिली है कि भारत एडिलेड में प्रस्तावित दिन-रात्रि टेस्ट के लिए तैयार नहीं है। ऐसे में अब इस मैच को दिनी प्रारूप में ही खेला जाएगा। कई टेस्ट राष्ट्रों ने दिन-रात्रि प्रारूप में खेलने का स्वागत किया है लेकिन भारत ने शुरुआत से ही इससे इंकार किया है। गुलाबी गेंद से टेस्ट प्रारूप के अभ्यस्त हो चुके ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विराट कोहली की कप्तानी वाली दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम के लिए इस नए प्रारूप में खेलना चुनौतीपूर्ण माना जा रहा है।

दक्षिण अफ्रीका ने भी वर्ष 2016 में पहले इस प्रारूप में खेलने से इंकार किया था, लेकिन फिर उसने इसके लिए सहमति दी और उसे सात विकेट से मैच गंवाना पड़ा था। ऑस्ट्रेलिया की मेजबानी में भारतीय टीम पर्थ, मेलबर्न और सिडनी में भी टेस्ट खेलेगा। ऑस्ट्रेलिया हालांकि ब्रिसबेन में श्रीलंका के साथ दिन-रात्रि प्रारूप में टेस्ट खेलने उतरेगा। दोनों टीमों के बीच दो टेस्टों की सीरीज़ जनवरी में होनी है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :