करीब 1 साल के बाद भारतीय दर्शक स्टेडियम में चियर करेंगे टीम इंडिया को, BCCI ने शेयर किया वीडियो

Last Updated: शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2021 (21:04 IST)
कोरोना वायरस ने क्रिकेट पर ऐसा ब्रेक लगाया कि लोग महीनों क्रिकेट देखने को तरस गए थे। ने कोराना काल में क्रिकेट शुरु करने का जोखिम लिया। इंग्लैंड में खेली गई तमाम सीरीज से बीसीसीआई की हिम्मत बढ़ी और आईपीएल 2020 का आयोजन संयुक्त अरब अमीरात में हुआ, लेकिन स्टेडियम में दर्शकों का प्रवेश प्रतिबंधित रहा।
हालांकि ऑस्ट्रेलिया में क्रिकेट खेलने गया लेकिन स्वदेशी जमीन पर अपने घरेलू दर्शकों के सामने खेले हुए टीम इंडिया को 1 साल से ज्यादा का वक्त हो गया है।

वायरस की दस्तक से पहले भारत 19 जनवरी 2020 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बैंगलूरू के चिन्नास्वामी स्टेडियम पर तीसरा वनडे अपने घरेलू दर्शकों के सामने खेला था। स्टेडियम दर्शकों से खचा खच भरा हुआ था और टीम इंडिया यह मैच जीती भी।
वहीं टेस्ट की बात करें तो भारतीय दर्शकों ने सफेद लिबास में टीम इंडिया की हौसला अफजाई बांग्लादेश के खिलाफ 22 नवंबर 2019 को कोलकाता के इडन गार्डन्स में की थी। यह भारत का पहला डे नाइट टेस्ट था जिसे टीम इंडिया ने पारी और 46 रन से जीता था।

दूसरे टेस्ट में भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) और तमिलनाडु क्रिकेट संघ (टीएनसीए) ने इंग्लैंड के खिलाफ चार मैचों की श्रृंखला के दूसरे टेस्ट में में 50 प्रतिशत दर्शकों को आने की अनुमति देने का फैसला किया है। प्लास्टिक की कुर्सियां सजनी पहले टेस्ट से ही शुरु हो गई थी।

बीसीसीआई और टीएनसीए ने फैसला किया था कि पहले दो मैच दर्शकों के बिना खेले जाऐंगे। लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंधों में ढील देने की केन्द्रीय गृह मंत्रालय के ताजा दिशानिर्देशों के बाद इसमें बदलाव किया गया।अधिकारी ने कहा कि शुरुआती टेस्ट के लिए दर्शकों के प्रवेश की अनुमति देने के लिए बहुत कम समय था।लेकिन फिर 50 फीसदी दर्शकों के प्रवेश पर सहमति बन गई।

बीसीसीआई ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक वीडियो ट्वीट किया जिसमें खाली कुर्सियां रखी हुई हैं जो कल कम से कम 50 प्रतिशत तो भर ही जाएंगी। इस वीडियो में यह बताया गया कि बीसीसीआई
और टीम इंडिया को दर्शकों की कमी खली।
वैसे भी टीम इंडिया को इस समय दर्शकों के प्रोत्साहन की सख्त जरूरत है क्योंकि पहला टेस्ट भारतीय टीम 227 रनों से हार गई है और आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल दांव पर है (वेबदुनिया डेस्क)



और भी पढ़ें :