Aaron Finch ने कहा, दिमाग से उतारना होगा Jasprit Bumrah का हौव्वा

पुनः संशोधित शुक्रवार, 10 जनवरी 2020 (19:23 IST)
मुंबई। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने शुक्रवार को कहा कि के खिलाफ तीन एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों की श्रृंखला में उनकी टीम के लिए महत्वपूर्ण होगा वे अपने दिमाग में का हौव्वा नहीं बनाए रखे।

फिंच के अनुसार भारत का प्रमुख तेज गेंदबाज सम्मान का हकदार है लेकिन उन्होंने कहा कि उनकी टीम के लिए यह महत्वपूर्ण होगा कि वह अपने मजबूत पक्षों पर ध्यान दे।

फिंच ने कहा, ‘मेरा मानना है कि खिलाड़ी जितना अधिक उसका सामना करेंगे उतना उन्हें पता चलता रहेगा कि वह कैसी गेंदबाजी करता है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम इसको लेकर ज्यादा हौव्वा न बनाएं।’

धमाकेदार बल्लेबाज डेविड वॉर्नर के साथ पारी का आगाज करते हुए फिंच को बुमराह का सामना करना होगा।
फिंच ने कहा, ‘वह निश्चित तौर पर बेहतरीन गेंदबाज है। वह ऐसा गेंदबाज है कि जब आप उसके खिलाफ नहीं खेल रहे हों तो आप उसे गेंदबाजी करते हुए देखना पसंद करेंगे। वह तेज और आक्रामक गेंदबाज है और वह अपनी रणनीति पर बहुत अच्छी तरह से अमल करते हैं।’
बुमराह 3 महीने तक चोट से बाहर रहने के बाद वापसी कर रहे है और ऑस्ट्रेलियाई टीम 14 जनवरी से मुंबई में शुरू होने वाली श्रृंखला में उनका सामना करने को लेकर सतर्क हैं।

फिंच ने कहा, ‘हम एक बल्लेबाजी इकाई के रूप में क्या है हमें इस पर ध्यान देना होगा तथा प्रत्येक खिलाड़ी के कमजोर और मजबूत पक्ष होते हैं। इसलिए हमें मानसिक तौर पर इस चुनौती के लिए तैयार रहना होगा।’ दूसरा वनडे 17 जनवरी को राजकोट और तीसरा वनडे 19 जनवरी को बेंग्लुरु में खेला जाएगा।
Team India
बेहतरीन फार्म में चल रहे मार्नस लाबुशेन टेस्ट क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन के बाद वनडे में पदार्पण के लिए तैयार हैं और उनका बुमराह की अगुवाई वाले आक्रमण से रोमांचक मुकाबला होने की संभावना है।

फिंच ने कहा, ‘हां यह मुकाबला रोमांचक होगा। हमने पिछले 12 महीनों में मार्नस के खेल में आमूलचूल सुधार देखा है और यह उसके स्कोर और टेस्ट क्रिकेट में छोड़े गए प्रभाव से भी पता चलता है। सीमित ओवरों में उसका घरेलू रिकॉर्ड शानदार है। उम्मीद है कि टेस्ट श्रृंखला की उनकी फार्म वनडे में भी बरकरार रहेगी।’

फिंच ने कहा कि भारत में उनके खिलाड़ियों को बेसिक्स पर ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा, ‘भारत में आपको वास्तव में अपने बेसिक्स के साथ अनुशासित होना होगा। अगर आप चीजों को लेकर परेशान होते हो तो यह सही नहीं है।’


और भी पढ़ें :