इस साल 5.95 करोड़ से अधिक आयकर रिटर्न दाखिल

Last Updated: बुधवार, 13 जनवरी 2021 (00:18 IST)
नई दिल्ली। इस साल दाखिल करने वालों की संख्या करीब 5 प्रतिशत बढ़कर लगभग 6 करोड़ तक पहुंच गई। ज्यादा संख्या में कंपनियों और इकाइयों द्वारा भरे गए रिटर्न के कारण आयकर रिटर्न की संख्या बढ़ी है। के अनुसार 31 मार्च, 2020 को समाप्त वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 10 जनवरी 2021 तक 5.95 करोड़ से अधिक आयकर रिटर्न दाखिल किए गए।
ALSO READ:
असम में डॉक्टरों के खिलाफ छापेमारी, आयकर विभाग को मिला 100 करोड़ रुपए का काला धन
व्यक्तिगत तौर पर आयकर रिटर्न दाखिल करने की समयसीमा 10 जनवरी तक थी जबकि कंपनियों के लिए यह 15 फरवरी है। कर विभाग ने ट्विटर पर लिखा है कि आकलन वर्ष 2020-21 के लिए 10 जनवरी, 2021 तक 5.95 करोड़ आईटीआर भरे गए। वहीं पिछले आकलन वर्ष के लिए 10 सितंबर, 2019 तक 5.67 करोड़
आईटीआर भरे गए थे।
वित्त वर्ष 2019-20 के लिए कुल रिटर्न पिछले वर्ष के मुकाबले 33.5 लाख अधिक दाखिल किए गए। पिछले साल आयकर रिटर्न भरने की अंतिम तिथि 31 अगस्त, 2019 तक 5.61 करोड़ आईटीआर भरे गए थे।
आयकर विभाग ने करदाताओं और कर पेशेवरों का आभार जताया है और कहा कि आकलन वर्ष 2020 -21 के लिए आईटीआर के जो आंकड़े दिए गए हैं, वह 10 जनवरी, 2021 तक के हैं।
आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि 2019-20 के लिए व्यक्तिगत तौर पर भरे गए कर रिटर्न की रफ्तार धीमी रही है जबकि कंपनियों तथा द्वारा भरे गए रिटर्न की संख्या बढ़ी है। आयकर विभाग के अनुसार इस साल 10 जनवरी तक व्यक्तिगत रिटर्न के तौर पर 2.99 करोड़ से अधिक आईटीआर-1 भरे गए जो 10 सितंबर, 2019 तक भरे गए 3.11 करोड़ के मुकाबले कम है, वहीं 10 जनवरी तक 1.49 करोड़ आईटीआर-4 भरे गए हैं जो 10 सितंबर, 2019 तक 1.29 करोड़ थे।
आईटीआर-1 सहज फॉर्म है जिसे कोई भी सामान्य निवासी जिसकी सालाना आय 50 लाख रुपए से अधिक नहीं है, अपनी व्यक्तिगत आय के बारे में जानकारी देते हुए भर सकता है। वहीं आईटीआर- 4 सुगम फॉर्म को ऐसे निवासी व्यक्ति, हिंदू अविभाजित परिवार और फर्म (एलएलपी को छोड़कर) द्वारा भरा जा सकता है जिनकी व्यवसाय और किसी पेशे से अनुमानित आय 50 लाख रुपए तक है।
आंकड़े के अनुसार 46.12 लाख आईटीआर-2, 10 जनवरी तक भरे गए। जबकि 10.50 लाख आईटीआर-5 और 4.72 लाख आईटीआर-6 भरे गए। पिछले साल 10 सितंबर, 2019 तक 49,398 आईटीआर-6 और 5.89 लाख आईटीआर-5 भरे गए थे। वहीं 10 जनवरी, 2021 तक 1.46 लाख आईटीआर-7 भरे गए जबकि पिछले साल यह संख्या 65,298 रही थी।
आईटीआर-6 व्यवसायियों के लिए, आईटीआर-2 आवासीय संपत्ति, पूंजी लाभ और विदेशी संपत्ति से आय प्राप्त करने वाले लोगों द्वारा भरा जाता है। आईटीआर-5 फॉर्म एलएलपी और एसोसिएशन ऑफ पर्सन के लिए, वहीं आईटीआर-7 उन लोगों के लिए है जिन्हें ट्रस्ट अथवा अन्य कानूनी दायित्वों के तहत रखी गई संपत्ति से आय प्राप्त होती है। (भाषा)



और भी पढ़ें :