0

रोचक प्रसंग : जब गुरु हरगोविंद सिंह जी ने पाइंदे खां को धूल चटाई

शुक्रवार,जून 5, 2020
sixth Gurus of the Sikh religion
0
1
पर्यावरण उन सभी भौतिक, रासायनिक एवं जैविक कारकों की कुल इकाई है जो किसी जीवधारी अथवा पारितंत्रीय आबादी को प्रभावित करते हैं तथा उनके रूप, जीवन और जीविता को तय करते हैं।
1
2
पूरे विश्व में 5 जून को पर्यावरण दिवस मनाया जाता है, संयुक्त राष्ट्र ने इस दिन को मनाने की शुरुआत की थी, जो प्रकृति को समर्पित दुनियाभर में सबसे बड़ा उत्सव है।
2
3
मेरी गुड़िया पाठ पढ़ेगी, नन्हें-नन्हें छोटे से। पापा लेकर आए कॉपी, मम्मी लाई पेन।
3
4
साड़ी एक गई, मैं दूसरी बना दूंगा। पर तुम्हारी ज़िन्दगी एक बार अहंकार में नष्ट हो गई तो दूसरी कहां से लाओगे तुम? तुम्हारा पश्चाताप ही मेरे लिए बहुत कीमती है।
4
4
5
स्वस्थ और तनावमुक्त रहने के लिए जितना योग बड़ों के लिए आवश्यक है, उतना ही बच्चों के लिए भी इसका नियमित अभ्यास करना जरूरी है। आइए जानते हैं बच्चों के लिए सरल और आसान योग टिप्स...
5
6
वीर सावरकर भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के अग्रिम पंक्ति के सेनानी एवं प्रखर राष्ट्रवादी नेता थे। वे विश्वभर के क्रांतिकारियों में अद्वितीय थे। वीर सावरकर का जन्म 28 मई 1883 को नासिक के भगूर गांव में हुआ। उनके पिता का नाम दामोदर पंत सावरकर था, जो गांव ...
6
7
वे एक महान क्रांतिकारी, इतिहासकार, समाज सुधारक, विचारक, चिंतक, साहित्यकार थे। उनकी किताबें क्रांतिकारियों के लिए गीता के समान थीं।
7
8
दुनिया के वे ऐसे पहले कवि थे जिन्होंने अंडमान के एकांत कारावास में जेल की दीवारों पर कील और कोयले से कविताएं लिखीं और फिर उन्हें याद किया। इस प्रकार याद की हुई 10 हजार पंक्तियों को उन्होंने जेल से छूटने के बाद पुन: लिखा
8
8
9
सावरकर क्रांतिकारी तो थे ही, लेकिन वे कवि थे, साहित्‍यकार और लेखक भी थे। हो सकता है, क्रांतिकारी मकसद की वजह से उन्‍होंने अपने इस हिस्‍से को हाशिए पर ही रख छोड़ा हो।
9
10
चीन का आक्रमण जवाहरलाल नेहरू के लिए एक बड़ा झटका था और शायद इसी वजह से उनकी मौत भी हुई। जवाहरलाल नेहरू की 27 मई 1964 को दिल का दौरा पड़ा जिसमें उनकी मृत्यु हो गई।
10
11
टेलीविजन पर पंडितजी जब पहली बार आए तब वहाi पर उपस्थित एक वृद्ध सज्जन ने उनसे पूछा, -पंडितजी, आप भी सत्तर से ऊपर हैं, मैं भी।
11
12
शहर छोड़ नानी घर आए। कूद नदी में खूब नहाए। पत्थर मार आम गिराए। नानी से सब सुनी कहानी। ठंडा है मटके का पानी।
12
13
भारत के पहले प्रधानमंत्री रहे पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 इलाहाबाद में हुआ था। उनका जन्मदिन बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। उनके पिता का नाम मोतीलाल नेहरू था, जो एक धनाढ्य परिवार के थे और माता का नाम स्वरूपरानी था.....
13
14
गर्मी के मौसम में जब सूरज की किरणें आग उगलने लगती हैं तो धरती के तापमान में वृद्धि होने लगती है। ऐसे में फिजा भी गर्म चलती है।
14
15
नेहरू के कार्यकाल में लोकतांत्रिक परंपराओं को मजबूत करना, राष्ट्र और संविधान के धर्मनिरपेक्ष चरित्र को स्थायी भाव प्रदान करना और योजनाओं के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था को सुचारु करना उनके मुख्य उद्देश्य रहे।
15
16
यहां पाठकों के लिए पेश हैं पंडित जवाहर लाल नेहरू के 12 अनमोल वचन :-
16
17
हम अपने शरीर को कितना जानते हैं,आइए आज इस पर चर्चा करते हैं... मानव शरीर में इतना सल्फर होता है कि एक कुत्ते पर मौजूद सारे कीटों को मार सके। 900 पेंसिल बनाने के लिए पर्याप्त कार्बन, एक खिलौना तोप को आग लगाने के लिए पर्याप्त पोटेशियम, साबुन के सात ...
17
18
कोल्ड ड्रिंक भले हो बिकता, भाता सबको पानी है, दादा-दादी ताऊ-ताई पानी पीती नानी है
18
19
लस्सी-शरबत-ठंडाई,पियो खूब, गर्मी आई! सड़कों पर है सन्नाटा-मारे लू सबको चांटा- दुबके रहे घरों में यार,
19