बाल कविता : गर्मी आई

FILE


गर्मी आई,
धूप‍‍‍ पसीना लेकर आई।

सिर पर चढ़ आता है,
अग्नि के बम बरसाता है।

मुझे नहीं यह बिलकुल भाई।
गर्मी आई गर्मी आई।

चलो बरफ के गोले खाएं,
ठेले से अंगूर ले आएं।

मम्मी दूध मलाई लाई।

गर्मी आई गर्मी आई।


WD|
- रुद्र श्रीवास्तव‌



और भी पढ़ें :