इन बातों को ध्यान में रखकर चुनें सबसे बेहतर EarBuds

Last Updated: शनिवार, 2 जुलाई 2022 (17:48 IST)
हमें फॉलो करें
प्रथमेश व्यास
2022 की शुरुआत से ही स्मार्टफोन्स में से 3.5 mm के हेडफोन जैक गायब होते दिखाई दे रहे हैं। अब लगभग सभी कंपनियां अपने फोन में सिर्फ यूएसबी-सी टाइप चार्जिंग सॉकेट ही दे रही हैं। इसी वजह से वायरलेस इयरफोन, इयरबड्स, नैकबैंड आदि ब्लूटूथ हेडसेट हर जगह ट्रेंड कर रहे हैं। बोट, जेबीएल, पी-ट्रोन और स्नोकोर के साथ-साथ एप्पल, रियलमी, शाओमी जैसी कई स्मार्टफोन ब्रैंड्स भी खुद के इयरबड्स बना रही हैं, लेकिन फिर भी यूजर्स के लिए सबसे बेहतर इयरबड्स चुनना मुश्किल हो गया है। अगर आप भी अपने लिए वायरलेस इयरबड्स खरीदना चाहते हैं, तो इन बातों का ध्यान जरूर रखिएगा। आइए जानते हैं ....

इयरबड्स का डिजाइन:
वैसे तो इयरबड्स कई तरह के डिजाइन में आते हैं। लेकिन, मुख्य रूप से दो डिजाइन मिलते हैं - स्टेम और स्टेमलेस। 'स्टेम' असल में इयरबड्स का वो हिस्सा होता है जो कानों के बाहर लटकता रहता है। दोनों तरह की डिजाइन के अपने फायदे-नुकसान हैं। अब ये आपके ऊपर है कि आपको कैसी डिजाइन पसंद आती है।
ज्यादातर स्टेम इयरबड्स का माइक उनके सबसे निचले भाग पर लगा होता है, जिससे आप कॉल पर बेहतर ढंग से बात कर पाते हैं। वहीं स्टेमलेस इयरबड्स थोड़े हल्के और छोटे होंगे, जो आपको ज्यादा कम्फर्ट प्रदान करेंगे। स्टेमलेस इयरबड्स को लंबे समय तक इस्तेमाल कर सकते हैं। स्टेमलेस इयरबड्स से जिम, वर्कआउट और स्पोर्ट्स से संबंधित एक्टिविटीज के दौरान आपको पसीना भी कम आएगा।


इयरबड्स के केस का डिजाइन:
इयरबड्स का चार्जिंग केस सबसे ज्यादा उलझन में डालने वाली चीजों में से एक है। क्योकि, इयरबड्स का केस भी इयरबड्स जितना ही जरूरी होता है। इसके ठीक ना होने से इयरबड्स को ना ढ़ंग से चार्ज किया जा सकेगा ना ही रखा जा सकेगा। इसलिए आप ऐसे इयरबड्स का चयन करें जिनका केस नीचे से फ्लैट हो, ताकि जब आप इसे टेबल पर रखे तो ये लुढ़क कर टूटने से बचे। कर्व बॉटम वाले इयरबड्स भले ही देखने में ज्यादा अच्छे लगें, लेकिन इन्हे संभाल कर रखने में थोड़ी परेशानियां हो सकती हैं।
आपको ऐसा केस चुनना है, जिसका चार्जिंग पोर्ट आपके फोन से मिलता हो। आप यूएसबी-सी टाइप पोर्ट वाला केस ले सकते हैं, क्योकि आजकल ज्यादातर स्मार्टफोन्स के साथ यही चार्जिंग पोर्ट आ रहा है। इससे आपको ट्रेवल के दौरान दो चार्जर कैर्री नहीं करने पड़ेंगे। इस बात का भी ध्यान रहे कि आप मैट-फिनिश वाला केस खरीदें, जो आसानी से स्क्रैच ना किया जा सके। केस पर चार्जिंग इंडिकेटर लाइट का होना बड़ा फायदेमंद होता है।

साउंड क्वालिटी:
कई सारे बजट इयरबड्स भी
बढ़िया साउंड क्वालिटी प्रदान करते हैं। लेकिन, फिर भी आप वेबसाइट पर यूजर्स के रिव्यु देखकर साउंड क्वालिटी के बारे में जानें। किसी ब्रांडेड स्टोर पर जाकर इयरबड्स ट्राई करके देखना अच्छा तरीका हो सकता है। आपको एक संतुलित साउंड वाले इयरबड्स चुनना है, जो ना ही ज्यादा लाउड हो और ना ही बिल्कुल कम आवाज पहुंचाने वाले। संतुलित साउंड पहुंचाने वाले इयरबड्स की मदद से आप तरह-तरह की श्रेणियों जैसे जैज, हिपहॉप, क्लासिकल आदि गाने सुन सकते हैं। ऐसे इयरबड्स लेना ठीक होगा जिन्हे किसी बाहरी एप द्वारा ट्यून किया जा सके।

इसके अलावा इयरबड्स के माइक की क्वालिटी का भी चेक कर लें, जिससे वीडियो कॉल, जूम मीटिंग आदि के दौरान आप अच्छे से बातें कर पाएं। अगर आप नॉइस कैंसलेशन चाहते हैं, तो ANC इयरबड्स खरीदें।

कनेक्टिविटी:
कनेक्टिविटी भी एक बड़ा पॉइंट है, जिसे ध्यान में रखकर इयरबड्स खरीदना बहुत जरूरी है। आप ऐसे इयरबड्स कभी नहीं खरीदना चाहेंगे, जिनमे सब कुछ अच्छा हो, लेकिन वो बार-बार डिसकनेक्ट हो जाएं। कॉल के दौरान अगर आपकी कनेक्टिविटी टूट गई तो आपको उसे रीकनेक्ट करने में समय लगाना पड़ेगा। इसलिए, अपने इयरबड्स की कनेक्टिविटी के बारे में अच्छे से जान लें।

चार्जिंग और बैटरी लाइफ:
आपके नए इयरबड्स किसी काम के नहीं होंगे अगर उनकी बैटरी लाइफ अच्छी ना हो। इसलिए नए इयरबड्स लेते समय उनकी बैटरी की क्षमता को जांच लें। इयरबड्स और चार्जिंग केस दोनों की कैपेसिटी के बारे में मालूम होना जरूरी है। इसके अलावा ये भी पता करें कि आपके इयरबड्स कितनी देर में चार्ज होते हैं। आजकल कई इयरबड्स के साथ फास्ट चार्जिंग फीचर आ रहा है, जो आपके इयरबड्स को 10-15 मिनट में पूरी तरह चार्ज कर देंगे।



और भी पढ़ें :