IPL के इतिहास में पहली बार हुआ यह वाक्या, अश्विन रिटायर आउट होकर खुद चल पड़े पवैलियन

Last Updated: सोमवार, 11 अप्रैल 2022 (18:35 IST)
हमें फॉलो करें
अनुभवी ऑलराउंडर रविचंद्रन अश्विन इतिहास में रणनीति के तहत रिटायर्ड आउट होने वाले पहले बल्लेबाज बन गए हैं।

टीम प्रबंधन ने रविवार को यहां लखनऊ सुपर जायंट्स के खिलाफ 2022 आईपीएल के 20वें मैच में विकेटों का पतन रोकने के मकसद से 10वें ओवर में अश्विन को नंबर छह पर बल्लेबाजी करने भेजा था। अश्विन ने रणनीति के तहत खेलते हुए एक छोर पर विकेट बचाया। वह आठ ओवर तक क्रीज पर जमे रहे और दो छक्कों की मदद से 23 गेंदों 28 रन बनाए। उन्हाेंने हालांकि 18वें ओवर में रिटायर्ड आउट होने का निर्णय लिया।

अश्विन के बाद रियान पराग, जो बड़े शॉट लगाने के लिए जाने जाते हैं। पराग हालांकि ज्यादा बड़ा योगदान नहीं दे पाए और एक छक्के के सहारे चार गेंदाें पर आठ रन बनाकर आउट हुए।

दुनिया की बड़ी टी-20 क्रिकेट लीगों में से एक आईपीएल में यह रणनीति के तहत रिटायर्ड आउट का पहला निर्णय था। टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में हालांकि पहले ऐसा हो चुका है। 2019 में दक्षिण एशियाई खेलों में भूटान के सोनम टौबगे मालदीव के खिलाफ 19वां ओवर खत्म होने के बाद रिटायर्ड आउट हो गए थे।

टी-20 क्रिकेट में यह फैसला लिया जा सकता जाता है, क्योंकि टी-20 क्रिकेट में पारी बहुत छोटी होती है और टीमें चाहती हैं कि इसमें जितना फायदा उठाया जा सके उठाएं। टीमें नहीं चाहती हैं कि एक अहम परिस्थिति में उस हालात का विपरीत बल्लेबाज ज्यादा देर तक बल्लेबाजी करे, हालांकि कुछ कोच मानते हैं कि यह कदम अभी दूर है।

कुमार संगाकारा ने की अश्विन की तारीफ

राजस्थान रॉयल्स के क्रिकेट निदेशक कुमार संगकारा का मानना है कि रविचंद्रन अश्विन ने लखनऊ सुपर जायंट्स के खिलाफ सही समय पर ‘रिटायर आउट’ होकर मैच स्थिति को अच्छी तरह से संभाला लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि रियान पराग को रासी वान डर डुसेन से पहले नहीं भेजना गलती थी।

सत्र में अपना पहला मैच खेल रहे दक्षिण अफ्रीका के वान डर डुसेन को शिमरोन हेटमायर, अश्विन और पराग से पहले नंबर चार पर भेजा गया लेकिन वह केवल चार रन बना पाये जबकि पराग ने आखिरी ओवर में छक्का जड़कर टीम को 165 रन तक पहुंचाया था। रॉयल्स ने यह मैच तीन रन से जीता था।

संगकारा ने मैच के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘ऐसा करने के लिये यह सही समय था। अश्विन ने स्वयं यह फैसला किया। हमने इससे पहले इस पर चर्चा की थी कि क्या करना है।’’

संगकारा ने कहा, ‘‘कोच के रूप में मैंने एक गलती की जो मैंने रियान पराग को रासी वान डर डुसेन से पहले नहीं भेजा। इससे हम रियान का पूरा फायदा नहीं उठा पाये। लेकिन अश्विन ने स्थिति को अच्छी तरह से संभाला। उन्होंने टीम हित में अपने विकेट का बलिदान दिया और बाद में शानदार गेंदबाजी भी की।’’

लखनऊ को अंतिम ओवर में 15 रन की दरकार थी लेकिन तेज गेंदबाज कुलदीप सेन ने दबाव में अच्छा प्रदर्शन किया और संगकारा ने भी उनकी जमकर प्रशंसा की।उन्होंने कहा, ‘‘आखिरी ओवर से पहले मेरी कुलदीप से बात नहीं हुई थी। वह संजू (सैमसन), जोस (बटलर) और अन्य खिलाड़ी थे जिन्होंने उसका हौसला बढ़ाया। कुलदीप ने दबाव में सबसे मुश्किल ओवर किया और हमारे लिये शानदार भूमिका निभायी।’’

लखनऊ शीर्ष क्रम नहीं चलने के बावजूद मार्कस स्टोइनिस (12 गेंदों पर 28) की बदौलत अंतिम ओवर तक मैच में बना रहा।

लखनऊ के कप्तान केएल राहुल ने कहा,‘‘पूरे 20 ओवर में हमारा विश्वास बना रहा है कि हम मैच जीत सकते हैं। हमारी बल्लेबाजी में गहराई है। स्टोइनिस आठवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिये उतरे। हमें विश्वास है कि स्टोइनिस किसी भी नंबर पर उतरकर हमारे लिये मैच जीत सकते हैं।’’

स्टीवन फ्लेमिंग ने यह दिया बयान

चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के मुख्य कोच स्टीवन फ्लेमिंग से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने क्रिकइंफो को बताया कि यह तो मुकाबले का हिस्सा है। उन्होंने कहा, “ अगर आप अच्छे से हिट भी नहीं कर पा रहे हो तो भी समय आने पर एक अच्छी लड़ाई दिखेगी। कुछ खिलाड़ी खराब शुरुआत करते हैं और अंत एक बेहतरीन शतक के साथ करते हैं, आपने देखा भी होगा। मुझे वो लड़ाई पसंद है। यही इसकी खूबसूरती है, लेकिन किसी को ऐसा नहीं करना चाहिए, केवल इसलिए कि वह ऐसा कर सकता है। यह कहते हुए कि आज मेरा दिन नहीं है, मैं आउट हो रहा हूं।



और भी पढ़ें :