बुरी खबर! IPL 2021 के लिए टेस्ट सीरीज का एक भी मैच कम नहीं करेगा इंग्लैंड

Last Updated: गुरुवार, 27 मई 2021 (22:59 IST)
लंदन:पुरुष क्रिकेट टीम के प्रबंध निदेशक ने कहा है कि इंग्लैंड आईपीएल के लिए विंडो देने के लिए अपनी योजनाओं में कोई बदलाव करने की योजना नहीं बना रहा है।
जाइल्स ने यह स्वीकार करते हुए कहा कि कुछ खिलाड़ियों को बंगलादेश और पाकिस्तान के दौरों से आराम दिया जा सकता है, जो आईपीएल के शेष सत्र के फिर से शुरू होने के साथ ही होने की संभावना है, हालांकि इसका मतलब यह नहीं है कि वे कहीं और जाकर क्रिकेट खेलें। जाइल्स ने इस बात की भी पुष्टि की कि इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) की अपने शैड्यूल में बदलाव करने की कोई योजना नहीं है। विशेष रूप से भारत के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला के शैड्यूल में तो नहीं।
उल्लेखनीय है कि भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज के आखिरी मैच का पांचवा दिन फिलहाल 14 सितंबर के लिए निर्धारित है और तब इंग्लैंड के पास बंगलादेश दौरे पर जाने के लिए एक हफ्ते से भी कम समय होगा। वहां से टीम दो टी-20 मुकाबलों के लिए पाकिस्तान जाएगी। ये दोनों मैच 14 और 15 अक्टूबर के लिए निर्धारित हैं, जबकि आईपीएल के 18 सितंबर को फिर से शुरू होने और 12 अक्टूबर तक चलने की संभावना है।

जाइल्स ने एक बयान में कहा, “ मुझे शैड्यूल में बदलाव को लेकर किसी भी आधिकारिक अनुरोध के बारे में पता नहीं है, जहां तक हमारा विचार है, मैच उसी हिसाब से होंगे जैसे तय हैं। मुझे इस बात की हैरानी नहीं है कि हर तरह की अटकलें चल रही हैं। हर कोई अपने क्रिकेट टूर्नामेंट में खेलना चाहता है, लेकिन हमें अब तक कोई भी आधिकारिक आग्रह प्राप्त नहीं हुआ है और हम आगे बढ़ रहे हैं। हमारे पास पूरा शेड्यूल है। अगर हम सितंबर में पांचवें और आखिरी टेस्ट की समाप्ति के हिसाब से आगे बढ़ते हैं तो हम 19 या 20 सितंबर को बंगलादेश के लिए रवाना होंगे। वहां से हम पाकिस्तान जाएंगे और इसके बाद टी-20 विश्व कप खेलेंगे।

इस वर्ष अक्टूबर-नवंबर में टी-20 विश्व कप के आयोजन के चलते बीसीसीआई के पास आईपीएल का आयोजन करवाने के लिए 20 से 23 दिन का ही विंडो है और ऐसे में बीसीसीआई सीजन को पूरा करवाने के लिए कई डबल हेडर मुकाबलों का आयोजन कर सकता है। समय और आयोजन स्थल के अलावा बीसीसीआई और सभी फ्रेंचाइजी के लिए शेष सत्र के आयोजन के दौरान विदेशी खिलाड़ियों की उपलब्धता भी चिंता का विषय है, हालांकि वेस्ट इंडीज के खिलाड़ियों के खेलने की उम्मीद है, क्योंकि सीपीएल 19 सितंबर को खत्म हो जाएगा और ऐसे ही दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी भी खेलने आ सकते हैं, लेकिन क्रिकेट कैलेंडर के अलावा यहां अन्य और कारण भी हैं।

उदाहरण के तौर पर दिल्ली कैपिटल्स की तरफ से खेले ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी स्टीव स्मिथ एक करोड़ रुपए के लिए आईपीएल में आने को लेकर बहुत ज्यादा उत्साहित नहीं हो सकते, जबकि ऑस्ट्रेलिया के पैट कमिंस और ग्लेन मैक्सवेल खुद को उपलब्ध करा सकते हैं, क्योंकि अगर वे लीग के दूसरे हिस्से में नहीं खेलते हैं तो उन्हें सात-आठ करोड़ रुपए का नुकसान हो सकता है। उल्लेखनीय है कि कमिंस को कोलकाता नाइट राइडर्स ने 15.50 करोड़ और मैक्सवेल को रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने 14.25 करोड़ रुपए में खरीदा था। बहरहाल आगामी महीनों में विदेशी खिलाड़ियों की स्थिति स्पष्ट हो जाएगी, लेकिन बीसीसीआई की सर्वोच्च प्राथमिकता शेष लीग का मंचन करना होगा, क्योंकि वह ऐसा करने में विफल रहता है तो उसे भारी वित्तीय नुकसान होगा।

अब इंग्लैड क्रिकेट बोर्ड द्वारा कार्यक्रम में फेरबदल ना करने के फैसले से बोर्ड के लिए और भी बड़ा संकट आन पड़ा है। अब हो सकता है बीसीसीआई आईपीएल 2020 के मेजबान संयुक्त अरब अमीरात की तरफ रुख करे।(वार्ता)



और भी पढ़ें :