IPL 2020 : KKR के पास आक्रामक खेल दिखाने के अलावा कोई विकल्प नहीं था : मोर्गन

Last Updated: सोमवार, 2 नवंबर 2020 (02:24 IST)
दुबई। (KKR) के कप्तान ने इंडियन प्रीमियर लीग (2020) में रविवार को यहां (RR) पर 60 रन की जीत के साथ में जगह बनाने की उम्मीद बरकरार रखने के बाद कहा कि उनकी टीम इस मुकाबले में आक्रामकता के साथ खेलने उतरी थी क्योंकि उनके पास कोई और रास्ता नहीं था।
कोलकाता के 192 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए रॉयल्स की टीम कमिंस (34 रन पर चार विकेट), शिवम मावी (15 रन पर दो विकेट) और वरूण चक्रवर्ती (20 रन पर दो विकेट) की धारदार गेंदबाजी के सामने नौ विकेट पर 131 रन ही बना सकी। रॉयल्स की ओर से जोस बटलर (35) और राहुल तेवतिया (31) ही टिककर बल्लेबाजी कर पाए।

नाइट राइडर्स ने मोर्गन की 35 गेंद में 6 छक्कों और 5 चौकों की मदद से नाबाद 68 रन की पारी से 7 विकेट पर 191 रन बनाए। राहुल त्रिपाठी (39) और शुभमन गिल (36) ने भी पहले ओवर में झटका लगने के बाद दूसरे विकेट 72 रन जोड़कर टीम को शानदार मंच मुहैया कराया।
मोर्गन ने मैच के बाद कहा, ‘मैंने सोचा था कि 191 रन का स्कोर प्रतिस्पर्धी रहेगा। मुझे लगता है कि आउट होकर लौटे प्रत्येक बल्लेबाज ने कहा था कि विकेट बल्लेबाजी के लिए शानदार है। वैसे भी हम पूरी आक्रामकता के साथ खेलने के इरादे से उतरे थे क्योंकि इसके अलावा हमारे पास कोई रास्ता नहीं था। जब हम बल्लेबाजी कर रहे थे तो अधिक जोखिम उठाने के लिए तैयार थे।’ मोर्गन ने कहा कि ‘ओस उम्मीद से काफी पहले गिरने लगी इसलिए वे फायदे की स्थिति में नहीं थे।’
रॉयल्स के कप्तान ने स्वीकार किया कि पावर-प्ले में 5 विकेट गंवाने के बाद जीत दर्ज कर पाना बेहद मुश्किल था। स्मिथ ने कहा, ‘मुझे लगा कि यह 180 रन के आसपास का विकेट था। थोड़ी ओस थी। पावर-प्ले में विकेट गंवाने के बाद वहां से वापसी करना काफी मुश्किल था। कमिंस ने अच्छी लाइन और लेंथ के साथ गेंदबाजी की और हमें अच्छी गेंदों को भी खेलना पड़ा।’
उन्होंने कहा, ‘हमने काफी तेज शुरुआत की लेकिन इसके बाद काफी सारे विकेट एक साथ गंवा दिए। टूर्नामेंट का अंत दुर्भाग्यपूर्ण रहा। हमने काफी अच्छी शुरुआत की थी और इस मैच से पहले भी 2 मैच जीते। बीच के चरण में हम राह से भटक गए।’ स्मिथ ने टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करने वाले तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर और ऑलराउंडर राहुल तेवतिया की तारीफ की।

उन्होंने कहा, ‘जोफ्रा ने लगभग सभी मैचों में शानदार प्रदर्शन किया। तेवतिया पूरे टूर्नामेंट के दौरान कुछ नया करते रहे लेकिन बाकी खिलाड़ी इनका समर्थन नहीं कर पाए।’



और भी पढ़ें :