Special Story : क्रिकेट के रोमांच की पराकाष्ठा को छूने वाले IPL के 3 'Super Over' मैच, दिल के मरीज रहें दूर...

Mayank Agarwal and Chris Gayle 2
13 (IPL-13) में खेले जा रहे मैचों का रोमांच जिस तरह अपने पूरे शबाब पर है, उसे देखकर कहना पड़ेगा कि जो लोग दिल के मरीज हैं, उन्हें कम से कम अपने टीवी सेट्‍स से दूर ही रहना चाहिए क्योंकि एक दिन में 3 'सुपर ओवरों' का होना आपके दिल को नुकसान पहुंचा सकता है। खेल में रोमांचक पल आते हैं, पहले भी आए हैं लेकिन ऐसे सनसनीखेज लम्हें तो पहली दफा देखने को मिल रहे हैं, जो नया इतिहास रच रहे हैं। कमोबेश पिछले 3 रविवार क्रिकेट को पसंद करने वाले युवाओं ने जो दृश्य मैदान पर देखे, उसने उनका 'सुपर संडे' का मजा दोगुना कर दिया है।
रविवार को आईपीएल के दोनों ही मुकाबले बेहतरीन थे लेकिन यह नहीं सोचा था कि आईपीएल इतिहास में एक दिन में 3 'सुपर ओवर' देखने वालों की शिराओं में दौड़ते खून के वेग को बढ़ाने वाले साबित होंगे। दोपहर बाद से शुरु हुआ कोलकाता नाइट राइडर्स और सन राइजर्स का मुकाबला अबु धाबी में था और अंधियारा गहराते खत्म हुआ, लेकिन इसने जो उजाला किया, वो जेहन में 'रचबस' गया होगा।

सिक्के की उछाल में जब वॉर्नर ने बाजी मारी तो उन्होंने गेंदबाजी चुनी। कोलकाता ने 5 विकेट पर 163 रन बनाए। जब से टीम की कमान दिनेश कार्तिक से छीनकर इंग्लैंड को विश्व कप का 'ताज' दिलाने वाले डेविड मोर्गन को सौंपी है, टीम में कुछ सुधार तो आया है।
ALSO READ:
: कोलकाता नाइट राइडर्स ने 'सुपर ओवर' में सनराइजर्स हैदराबाद को हराया
शुभमन गिल (36) और राहुल त्रिपाठी (23) ने अच्छी शुरुआत दिलाकर पहले विकेट के लिए 6 ओवर में 48 रन जोड़ लिए। नीतीश राणा (29) स्कोर को 87 तक ले गए। कप्तान मोर्गन ने 23 गेंदों पर 34 रन की पारी खेली जबकि दिनेश कार्तिक 14 गेंदों पर नाबाद 29 रन ठोंकने में कामयाब रहे।

हैदराबाद के कप्तान ने प्रयोग करते हुए सलामी जोड़ी बदली, बेयरेस्टो के साथ केन विलियम्सन को भेजा। इस जोड़ी ने 6.1 ओवर में 58 रन जब जोड़ दिए, तब लगा कि हैदराबाद 164 का लक्ष्य आसानी से हासिल कर लेगा क्योंकि चौथे नंबर पर उतरे डेविड वॉर्नर गेंद पर नजरें जमा चुके थे लेकिन दूसरे छोर से विकेटों के पतझड़ ने उनकी चिंताएं बढ़ा दी।
Loki Ferguson
19वें ओवर में शिवम मावी ने अब्दुल समद (23) को पैवेलियन भेज दिया। मैदान पर वॉर्नर का साथ निभाने आए राशिद खान। अंतिम 6 गेंद शेष, हैदराबाद जीत से 17 रन दूर था और अंतिम गेंद पर उसे जीत के लिए 2 रन की जरूरत थी। यही पर कहानी में ट्‍विस्ट आया और वॉर्नर आंद्रे रसेल की गेंद पर लेग बाय का 1 रन ही ले सके।

मैच 'टाई' हुआ और 'सुपर ओवर' में क्रिस ग्रीन की जगह शामिल किए ने करिश्माई गेंदबाजी का मुजाहिरा करते हुए 2 विकेट लेकर हैदराबाद को 2 रन ही बनाने दिए। फर्ग्यूसन ने इससे पहले 4 ओवर में 15 रन देकर 3 विकेट झटकने का कारनामा किया था। बहरहाल, कोलकाता में 3 रनों का लक्ष्य हासिल कर डाला।
'सुपर संडे' का रोमांच : कोलकाता के मैच खत्म होने के बाद 'सुपर संडे' का रोमांच अभी शेष था, जो मुंबई इंडियंस और किंग्स इलेवन पंजाब के मैच में देखने को मिला। कहावत पुरानी है कि 'जिसने लाहौर नहीं देखा, उसने कुछ नहीं देखा'। हम कहेंगे कि जिसने मुंबई और पंजाब का मैच नहीं देखा, उसने कुछ नहीं देखा...
दुबई इंटरनेशल स्टेडियम में रविवार को जो कुछ भी मैदान पर हुआ, उसने क्रिकेट के दीवानों को 'डबल' मजा दिया। 2 सुपर ओवर के बाद परिणाम आया वह हैरतअंगेज था। दोनों टीमों ने 20-20 ओवर में समान रूप से 6 विकेट पर 176 रन बनाकर मैच को 'टाई' करके सुपर ओवर में धकेला। सुपर ओवर में दोनों ने समान रूप से 5 रन बनाए। पंजाब ने जहां निकोलस पूरन और का विकेट खोया तो मुंबई ने आखिरी गेंद पर डी कॉक का। मुंबई के गेंदबाज बुमराह थे तो पंजाब के मोहम्मद शमी।
ALSO READ:#SuperOver : 'डबल सुपर ओवर' में पंजाब ने मुंबई को हराया, के इतिहास में पहली बार 3 'सुपर ओवर'
दूसरे सुपर ओवर में मुंबई ने 11 रन बनाए क्रिस जॉर्डन के ओवर में। जब मैच में जीत के लिए 6 रन भी नहीं बन रहे हो तो ऐसे में 12 रन बनने की बात सोचना भी बेमानी थी लेकिन पंजाब के लिए और ने तस्वीर ही बदल डाली। ट्रेंट बोल्ट की पहली गेंद को गेल ने आसमान का सफर कराते हुए छक्के के लिए भेजी और दूसरी गेंद पर 1 रन लेकर मयंक को मौका दिया। मयंक ने तीसरी गेंद पर चौका जड़कर स्कोर को 11 पर पहुंचा दिया और चौथी गेंद पर फिर से चौका जमाकर इस रोमांच का पटाक्षेप किया।
इससे पहले पंजाब की पारी में कप्तान केएल राहुल की 77 रनों की जुझारु पारी का जिक्र करना भी जरूरी है क्योंकि उन्हीं के कारण यह मैच रोमांच की पराकाष्ठा तक पहुंचा। सलामी बल्लेबाज राहुल जब 18वें ओवर की तीसरी गेंद पर आउट हुए, तब स्कोर 5 विकेट पर 153 हो चुका था। उन्होंने 51 गेंदों में 7 चौके के अलावा 3 छक्के जमाए। दूसरी तरफ मुंबई के सलामी बल्लेबाज डी कॉक ने 43 गेंदों में 53 रनों की पारी खेली।

इस मैच का परिणाम भले ही पंजाब की झोली में गिरा हो लेकिन मैच में जितने भी उतार और चढ़ाव आए, उसकी कल्पना किसी ने सपने में भी नहीं की थी। यह पैसा वसूल मैच था..क्रिकेट के रोमांच की हदें पार करने वाला और सांस रोककर देखने वाला...



और भी पढ़ें :