यमन भीषण अकाल की चपेट में, संयुक्त राष्ट्र ने की दानदाताओं से मदद की अपील

Last Updated: गुरुवार, 25 फ़रवरी 2021 (12:56 IST)

(फ़ाइल चित्र)
संयुक्त राष्ट्र। के मानवतावादी अभियानों के प्रमुख मार्क लोवकॉक ने कहा है कि युद्ध प्रभावित देश में हालत तेजी से बिगड़ रहे हैं और अगर दानदाताओं खासतौर पर खाड़ी के उसके पड़ोसी देशों ने संयुक्त राष्ट्र की 3.85 अरब डॉलर की मांग पर उदारतापूर्वक दान नहीं दिया तो यमन को अब तक के सबसे भयानक अकाल का सामना करना पड़ेगा। लोवकॉक ने बुधवार को कहा कि खाड़ी देशों खासतौर पर सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात ने वर्ष 2018 और 2019 में उदारतापूर्वक दान दिया था लेकिन पिछले वर्ष उन्होंने इसमें जबर्दस्त कटौती की थी।
ALSO READ:
UN शरणार्थी एजेंसी ने कहा, अंडमान सागर में भटक रही नौका को तलाश रहा है भारत
उन्होंने कहा कि इससे एजेंसी वर्ष 2020 में प्रतिमाह केवल 90 लाख लोगों को खाद्य पदार्थ और अन्य मानवीय सहायता मुहैया करा पाई थी जबकि वर्ष 2019 में खाद्य पदार्थ और मानवीय सहायता पाने वाले लोगों की संख्या 1 करोड़ 30 लाख से 1 करोड़ 40 लाख व्यक्ति प्रतिमाह थी।
लोवकॉक ने कहा कि वे 40 लाख लोग जिन्हें पिछले वर्ष भोजन नहीं मिला, वे उन लोगों में शामिल हैं, जो भुखमरी की ओर बढ़ रहे हैं। इस कोष के बिना और लोग काल के गाल में समा जाएंगे। अब जो देश के हालात हैं, जहां कुछ इलाकों में पहले ही अकाल है, उसमें अकाल की विभीषिका और बढ़ेगी और ऐसा अकाल दुनिया ने दशकों में नहीं देखा होगा। तो इस लिहाज से बहुत कुछ दांव पर है।

गौरतलब है कि अरब के इस सर्वाधिक निर्धन देश में संघर्ष 2014 में उस वक्त शुरू हुआ, जब ईरान समर्थित हुती विद्रोहियों ने यमन की राजधानी सना और देश के उत्तरी इलाकों पर कब्जा कर लिया था। लोवकॉक ने कहा कि सोमवार को वे यमन के लिए चौथा सम्मेलन करेंगे और उन्हें उम्मीद है कि इसमें अन्य देशों के विदेश मंत्रियों सहित उच्च स्तर के प्रतिनिधि भाग लेंगे, साथ ही इसमें खाड़ी देशों से भी मजबूत सहयोग मिलेगा। (भाषा)



और भी पढ़ें :