अफगानिस्तान समेत पश्चिम एशिया से अमेरिकी सैनिकों की जल्द वापसी चाहते हैं ट्रंप

Last Updated: गुरुवार, 12 नवंबर 2020 (10:28 IST)
वॉशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति के कार्यकाल के अब केवल कुछ महीने की शेष हैं और इस दौरान ट्रंप प्रशासन समेत पश्चिम एशिया के अन्य हिस्सों से अमेरिकी सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया को तेज करना चाहता है। अमेरिका की समाचार वेबसाइट एक्जियोस ने बुधवार को अपनी एक रिपोर्ट में सरकारी अधिकारियों के हवाले से यह जानकारी दी।
ALSO READ:
Fact Check: क्या TIME मैगजीन ने चुनाव हारने के बाद डोनाल्ड ट्रंप का इस तरह उड़ाया मजाक, जानिए पूरा सच
रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप अमेरिकी सैनिकों की वापसी की गति धीमी होने से रक्षामंत्री मार्क एस्पर से नाराज चल रहे थे इसलिए उन्होंने एस्पर को हटाकर क्रिस्टोफर मिलर को देश का नया रक्षामंत्री नियुक्त किया है। ट्रंप चाहते हैं कि जल्द से जल्द अफगानिस्तान समेत पश्चिम एशिया के अन्य क्षेत्रों से अमेरिकी सैनिकों की वापसी सुनिश्चित हो।
अमेरिकी राष्ट्रपति संभवत: इसलिए पेंटागन में शीर्ष अधिकारियों को बर्खास्त कर नए अधिकारियों को नियुक्त कर रहे हैं। नए ने सेना के रिटायर्ड कर्नल डगलस मैकग्रेगोर को अपना वरिष्ठ सलाहकार नियुक्त किया है। मैकग्रेगोर अफगानिस्तान और सीरिया से अमेरिकी सैनिकों की वापसी को लेकर काफी मुखर रहे हैं।
गौरतलब है कि ट्रंप ने अक्टूबर में एक ट्वीट कर कहा था कि क्रिसमस तक अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी हो जाएगी। इसके विपरीत अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ ब्रायन ने कहा था कि हजारों सैनिकों को वापस बुलाने की प्रक्रिया चल रही है और यह 2021 के शुरुआती महीनों तक चलेगी।

तालिबान के साथ बनी सहमति के बाद अमेरिका अफगानिस्तान में लगातार अपने सैनिकों की संख्या कम कर रहा है और जनवरी 2021 तक वहां मौजूद अमेरिकी सैनिकों की संख्या 2500 तक कर दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि अमेरिका मई 2021 तक अफगानिस्तान से अपने सभी सैनिकों की वापसी की योजना पर काम कर रहा है, हालांकि इसको लेकर अभी तक कोई आधिकारिक आदेश जारी नहीं किया गया है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :