क्‍या ‘वाशिंगटन पोस्‍ट’ के पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या की मंजूरी दी थी?

rince Mohammed bin Salman
Last Updated: रविवार, 28 फ़रवरी 2021 (14:18 IST)
अमेरिकी पत्रकार खशोगी प्रिंस मोहम्मद के एक आलोचक थे जो वाशिंगटन पोस्ट के लिए लिखते थे। उन्हें अक्टूबर 2018 में इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में लालच देकर बुलाया गया था, फिर उनकी हत्या कर लाश को टुकड़ों में काट दी दिया गया था।

अमेरिका ने सऊदी अरब के राजकुमार प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पर असंतुष्ट पत्रकार जमाल खशोगी की भीषण हत्या को मंजूरी देने का आरोप लगाया है।

संयुक्त राज्य अमेरिका ने शुक्रवार (26 फरवरी) को पहली बार सार्वजनिक रूप से सऊदी अरब के राजकुमार प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पर असंतुष्ट पत्रकार जमाल खशोगी की भीषण हत्या को मंजूरी देने का आरोप लगाया है।

अमेरिकी रिपोर्ट में पत्रकार को दिए गए दंड के बारे में खुलासा किया है। हालांकि सीधे तौर पर प्रिंस को टारगेट नहीं किया गया है।

जो बाइडेन प्रशासन द्वारा नवगठित एक इंटेलिजेंस टीम की रिपोर्ट में कहा गया है, सऊदी राजकुमार, जो लंबे समय तक अमेरिकी सहयोगी और तेल प्रदाता देश के वास्तविक शासक हैं, ने सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी को पकड़ने या मारने के लिए इस्तांबुल (तुर्की) में एक ऑपरेशन को मंजूरी दी थी"

अमेरिकी अधिकारियों की रिपोर्ट ने कहा गया है कि प्रिंस मोहम्मद के प्रभाव को देखते हुए, यह इस बात की संभावना नहीं थी कि 2018 में की गई हत्या उनकी मंजूरी के बिना हो सकती था।

रिपोर्ट में कहा गया है, यह हत्या "विदेश में मौन असंतुष्टों के लिए हिंसक उपायों का उपयोग करने के लिए राजकुमार के समर्थन के एक पैटर्न" पर भी फिट बैठती है।

हालांकि सऊदी युवराज इस बात से इनकार करते रहे हैं कि उन्होंने जमाल खशोगी की हत्या के आदेश दिए थे। बता दें कि अमेरिकी पत्रकार खशोगी प्रिंस मोहम्मद के एक आलोचक थे जो वाशिंगटन पोस्ट के लिए लिखते थे। उन्हें अक्टूबर 2018 में इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में लालच देकर बुलाया गया था, फिर उनकी हत्या कर लाश को टुकड़ों में काट दिया गया था।



और भी पढ़ें :