चीन में विकास की कीमत चुका रहे हैं हाथी, सड़कों पर भटकने को मजबूर

पुनः संशोधित सोमवार, 21 जून 2021 (19:02 IST)
ब्रिस्बेन। जंगली हाथी विस्मयकारी होते हैं, फिर चाहे वह आपको मारने की कोशिश ही क्यों न कर रहे हों, ऐसा मैंने 2004 में महसूस किया था। उस समय मैं कर रहा था कि कैसे शिकारी और लकड़हारे अफ्रीका के कांगो बेसिन में रहने वाले स्तनधारी जीवों को परेशान करते हैं। इसी क्रम में मैं जंगल के हाथियों के झुंड के करीब था, जब उन्होंने अचानक मुझ पर हमला किया, गुस्से में भरे बेकाबू बुलडोजर की तरह वह मेरी तरफ दौड़ पड़े।
उन गुस्सैल जानवरों से जान बचाने के लिए मैं सिर पर पैर रखकर भागा और लताओं के एक झुंड में छलांग लगाकर अपनी जान बचाई। डर के मारे मेरे रौंगटे खड़े हो गए थे, लेकिन उस सबमें भी एक अलग तरह का रोमांच था।

दक्षिणी चीन में रहने वाले बहुत से लोग भी ऐसा ही महसूस करते होंगे। वयस्क मादाओं के नेतृत्व में 15 एशियाई हाथियों का एक झुंड पिछले साल म्यांमार और लाओस के साथ लगी चीन की सीमा के पास स्थित ज़िशुआंगबन्ना नेशनल नेचर रिजर्व से निकला था। तब से उन्होंने उत्तर की ओर लगभग 500 किलोमीटर की यात्रा की है और अब वे कुनमिंग के हलचल भरे शहर और इसके 70 लाख निवासियों के पास आ रहे हैं।

हाथी कहां जा रहे हैं और क्यों जा रहे हैं, यह कोई नहीं जानता। लेकिन दो बातें स्पष्ट हैं, हाथी शायद अपने मूल निवास में जीवित रहने के लिए संघर्ष कर रहे थे और हाथियों को बचाने के चीनी प्रयास देश की निवेश और वैश्विक की आक्रामक रणनीतियों से टकरा रहे थे।

बेघरों के लिए आशा : मैंने अफ्रीका और दक्षिण पूर्व एशिया में देखा है कि भूखे जंगली हाथी भोजन की तलाश में फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं, बागों को कुचल देते हैं और बगीचों को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकते हैं।

चीन में अपने प्रवास के दौरान, यह विशाल पशु (जिसका वजन वयस्क होने पर पांच टन से अधिक (तीन कारों से अधिक) हो सकता है) दरअसल किसानों की फसलों और स्थानीय गांवों और कस्बों की अन्य सभी चीजों को चट्ट कर रहा है। वास्तव में, वह अब तक फसलों को दस लाख अमेरिकी डॉलर से अधिक का नुकसान पहुंचा चुके हैं।

इस पूरी यात्रा पर लाखों चीनी नागरिकों की नजर है। सरकारी प्रसारक सीसीटीवी में 24 घंटे का लाइव फीड दिखाया जा रहा है। पहली नज़र में, यह एक ऐसा परिदृश्य लगता है जो हाथियों के लिए बहुत बुरा हो सकता है। जब इनसान और यह विशाल जीव टकराते हैं, तो हाथी आमतौर पर हार जाते हैं। लेकिन भटकते हुए झुंड के लिए एक उम्मीद बनी हुई है। एशियाई हाथी चीन में कानूनी रूप से संरक्षित प्रजाति हैं।

ड्रोन द्वारा सहायता प्राप्त सैकड़ों पुलिस अधिकारी इन बेखौफ जानवरों की निगरानी कर रहे हैं, जबकि वन्यजीव अधिकारी उन्हें आबादी वाले क्षेत्रों से दूर भगाने की कोशिश कर रहे हैं। हाथियों के लिए रास्ता साफ करने के लिए अब तक करीब 3,500 लोगों को अस्थाई रूप से हटाया जा चुका है।

बड़ी तस्वीर नदारद : इस तरह के प्रयास प्रशंसनीय तो हैं लेकिन गलत हैं, क्योंकि वे केवल हाथियों के विस्थापित होने वाले पर्यावरणीय दबाव की ओर इशारा करते हैं, लेकिन चीन और उसके आगे तक हाथियों से जुड़ी समस्याओं के बारे में कुछ नहीं कहते।
ALSO READ:
मध्यप्रदेश में एक दिन में रिकॉर्ड 10 लाख लोगों का वैक्सीनेशन,मुख्यमंत्री शिवराज ने दी बधाई
सबसे पहले, इधर-उधर घूमते हाथियों को अपने प्राकृतिक आवास केवल इसलिए छोड़ देने पड़े क्योंकि दक्षिणी चीन में उनका घर मानव विकास से तबाह हो गया। 15 साल पहले भी, जब मैंने पहली बार ज़िशुआंगबन्ना क्षेत्र का दौरा किया था, तो वहां के स्थानीय वर्षावन तबाह हो रहे थे, क्योंकि उस जमीन को रबर के विदेशी वृक्ष लगाने के लिए साफ किया जा रहा था। नतीजतन, आज पूरे चीन में लगभग 300 जंगली हाथी ही बचे हैं।
दूसरा कारण यह है कि घरेलू हाथी दांत व्यापार पर 2018 में प्रतिबंध लगाए जाने के बाद, इसे रोकने के सरकारी प्रयासों के बावजूद, अवैध हाथी दांत का कारोबार अब भी खतरनाक हद तक चल रहा है। यह खूनी व्यापार एशिया और अफ्रीका में हाथियों के अवैध शिकार के मुख्य कारणों में से एक है। विदेशों में काम करने वाले चीनी नागरिक बड़े पैमाने पर अवैध हाथी दांत सहित वन्यजीव तस्करी गतिविधियों में व्यापक रूप से शामिल हैं।

अंत में, चूंकि यह नई सड़कों, बांधों और अन्य बड़े विकासों को बढ़ावा देता है, चीन की बेल्ट एंड रोड पहल, जो अब दुनियाभर में 139 देशों में फैली हुई है, हाथियों और अन्य देशी वन्यजीवों के प्राकृतिक आवास के विनाश और उन पर उत्पीड़न के प्रभावों को तेजी से बढ़ा रही है।(द कन्वरसेशन)



और भी पढ़ें :