गुरुवार, 22 फ़रवरी 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. अंतरराष्ट्रीय
  4. Craze of 0.5 or half selfie is increasing in Youth Worldwide
Written By
Last Modified: शनिवार, 25 जून 2022 (11:53 IST)

क्या है ये 0.5 सेल्फी? जिसका दुनियाभर के युवाओं में बढ़ रहा क्रेज

क्या है ये 0.5 सेल्फी? जिसका दुनियाभर के युवाओं में बढ़ रहा क्रेज Craze of 0.5 or half selfie is increasing in Youth Worldwide - Craze of 0.5 or half selfie is increasing in Youth Worldwide
Photo - Twitter
वॉशिंगटन। इंटरनेट, स्मार्टफोन की दुनिया में हमने 30 सेकंड में गाने की बीट पर कपड़े बदलने से लेकर चेहरों पर कुत्ते-बिल्ली के कान-नाक लगाने तक के ट्रेंड्स देखे हैं। सोशल मीडिया पर कोई भी विचित्र सी चीज आती है, तो लोग उसे ट्रेंड मानकर फॉलो करने लग जाते हैं। ऐसी ही एक और चीज आजकल खूब चर्चाओं में है और वो है 0.5 सेल्फी। जानते हैं आखिर ये 0.5 Selfie है किस चिड़िया का नाम?
 
अमेरिका सहित कई पश्चिमी देशों के युवा आजकल मोबाइल के बैक-कैमरे से 0.5 या आधी सेल्फी लेना बहुत पसंद कर रहे हैं। उनका मानना है कि इस तरह की अनियमित (Random) और अधूरी-सी लगने वाली सेल्फी उन्हें कूल बनाती है। रोजमर्रा के साधारण काम करते हुए युवा 0.5 सेल्फी खींचते हैं और उसके नीचे फनी कैप्शन लिखकर पोस्ट करते हैं। 
 
कैसी ली जाती है 0.5 सेल्फी?
0.5 सेल्फी लेना साधारण सेल्फी लेने से थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि ऐसी सेल्फी लेने के लिए आपको अपने फोन को जितना हो सके, उतना दूर ले जाना पड़ता है। ये सेल्फी आपको उस समय की याद दिलाएगी, जब सेल्फी का चलन पहली बार दुनिया में आया था और आप अपने कीपैड वाले फोन के बैक-कैमरा से सेल्फी खींचने की कोशिश किया करते थे।
0.5 सेल्फी में हम Fake नहीं लगते:
आधी सेल्फी खींचने के ट्रेंड को लेकर युवाओं का मानना है कि साधारण सेल्फी में हमें स्क्रीन पर अपना चेहरा दिख जाता है जिसके हिसाब से हम अपने बाल, कपड़े और चेहरे के हाव-भाव को व्यवस्थित कर लेते हैं। लेकिन 0.5 सेल्फी की ये खासियत है कि इसमें हम जैसे असली में होते हैं, ठीक वैसे ही फोटो में दिखते हैं। दूसरे शब्दों में ऐसी सेल्फी में हम ज्यादा ओरिजिनल लगते हैं।
 
वाइड एंगल मोड से ले सकते हैं बेहतर हॉफ सेल्फी:
दोस्तों के साथ 0.5 या आधी सेल्फी खींचने के लिए अब बैक-कैमरा के वाइड एंगल मोड का भी प्रयोग होने लगा है जिसे नेचर, लैंडस्केप और ऐतिहासिक इमारतों की फोटो खींचने के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। इस तरह की ओरिजिनल और रैंडम तस्वीरों को जब व्यक्ति कुछ सालों बाद देखता है, तो उन दिनों को याद करके उसके चेहरे पर हल्की-सी मुस्कुराहट आ ही जाती है।
ये भी पढ़ें
योगी सरकार ने किया बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, 21 आईपीएस अफसरों के तबादले