चीन ने माना, कोरोना वायरस से 17 लोगों की मौत, अलर्ट जारी

Last Updated: बुधवार, 22 जनवरी 2020 (22:39 IST)
बीजिंग। ने स्वीकार किया है कि खतरनाक की वजह से 17 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है और अब तक देश में इसके करीब 444 मामले सामने आ चुके हैं। चीन ने अलर्ट जारी करते हुए कहा कि यह बीमारी छुट्टियों के मौसम में और फैल सकती है।
ALSO READ:
अमेरिका पहुंचा चीन का कोरोना वायरस, सामने आए 440 मामले
सरकारी समाचार पत्र 'चाइना डेली' की खबर के अनुसार इस वायरस के कारण 17 मौत की नींद सो चुके हैं। कोरोना वायरस के जरिए फैलता है और इससे 'वायरल म्यूटेशन' होने तथा रोग के और फैलने की आशंका बनी है।
चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि कोरोना वायरस (2019-एनसीओवी) के कारण हुए निमोनिया के 444 मामलों की पुष्टि हुई है। फिलहाल चीन के वुहान शहर में इससे जुड़े सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं।
1 करोड़ से अधिक की आबादी वाला वुहान एक प्रमुख परिवहन केंद्र है। इस सप्ताह के अंत में शुरू हो रही चीनी नववर्ष की वार्षिक छुट्टियों के लिए बड़ी संख्या में लोगों के चीन पहुंचने का अनुमान है। ज्यादातर लोग यहां से होकर अपने गंतव्य तक पहुंचेंगे।
नए विषाणु की सभी जानकारी सार्वजनिक करने की मांग : की राष्ट्रपति त्सई इंग-वेन ने चीन से अपील की है कि वह हाल में फैले नए कोरोना वायरस की जानकारी सार्वजनिक करे और इसको फैलने से रोकने के लिए ताईवान के साथ मिलकर काम करे। उन्होंने डब्ल्यूएचओ से भी ताईवान को अपनी बैठकों में शामिल होने की अनुमति देने की मांग की।
चीन के दबाव के चलते ताईवान विश्व स्वास्थ्य संगठन का सदस्य नहीं है और इसलिए उसे किसी भी बैठक में शामिल होने की अनुमति नहीं है, हालांकि बड़ी संख्या में ताईवानी चीन में रहते हैं या वहां की यात्रा करते हैं, जहां पर यह कोरोना वायरस फैला है और सैकड़ों लोग संक्रमित हुए हैं।
ALSO READ:
से आई रहस्यमय बिमारी के बाद भारत समेत पूरी दुनिया में Alert
चीन के प्रतिबंधों के बावजूद ताईवान रोग नियंत्रण केंद्र ने इस महीने के शुरू में कहा था कि चीनी समकक्ष ने 15 जनवरी को विषाणु फैलने की जानकारी दी और उसने बीमारी को बेहतर तरीके से समझने के लिए अपने 2 विशेषज्ञों को वुहान के स्वास्थ्य केंद्रों के दौरे पर भी भेजा था, हालांकि त्सई ने इसका उल्लेख बुधवार को नहीं किया।
त्सई ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय का सदस्य होने के नाते मैं चीन से अपील करती हूं कि उसे कोरोना वायरस के फैलने पर पारदर्शिता बरतने की अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करना चाहिए और वह ताईवान के साथ सटीक सूचना साझा करे।

उन्होंने कहा कि पूर्व में अज्ञात कोरोना वायरस के एक मामले की पुष्टि ताईवान में हुई है। मकाऊ, दक्षिण कोरिया, जापान, थाईलैंड और अमेरिका में भी मामले सामने आए हैं। ताईवानी मरीज कारोबारी है और हाल में वुहान से लौटा है और अब उसकी सेहत में सुधार हो रहा है।
त्सई ने कहा कि सूचना साझा करना चीनी आबादी और बीजिंग के लिए भी महत्वपूर्ण है और अपने लोगों की रक्षा के लिए राजनीतिक चिंताओं को ऊपर नहीं रखना चाहिए। उल्लेखनीय है कि चीन ताईवान को अपना हिस्सा बताता है और उसका कहना है कि अधिकतर अंतरराष्ट्रीय निकायों में वह प्रतिनिधित्व के योग्य नहीं है।

भारत में कोरोना वायरस का कोई मामला नहीं : नई दिल्ली में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की सचिव प्रति सूदन ने कहा कि अभी तक चीन से आए यात्रियों की जांच में नोवल कोरोना वायरस का एक भी मामला सामने नहीं आया है।
सूदन ने कहा कि जनवरी 21 तक कुल चीन से 43 फ्लाइटों से आए 9,156 यात्रियों की जांच की गई है और किसी में भी इस वायरस के संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है। हम पूरी तरह अलर्ट हैं और हमारी तैयारियां पूरी हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि चीन से आने वाले यात्रियों को यह भी आग्रह किया गया है कि किसी भी तरह की कोई दिक्कत होने पर वे तुरंत अपने आसपास के जन स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर रिपोर्ट करें। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा नागर विमानन मंत्रालय की ओर से किए गए उपायों के तहत स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर एक 'ट्रेवल एजवाइजरी' जारी की गई है।


और भी पढ़ें :