बचपन में रामायण और महाभारत सुना करते थे बराक ओबामा

Last Updated: मंगलवार, 17 नवंबर 2020 (11:05 IST)
वॉशिंगटन। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि वे में इंडोनेशिया में गुजारे वर्षों के दौरान हिन्दू महाकाव्यों एवं की कथाएं सुना करते थे इसलिए उनके मन में भारत के लिए हमेशा विशेष स्थान रहा है। ओबामा ने 'ए प्रॉमिज्ड लैंड' नामक अपनी पुस्तक में भारत के प्रति आकर्षण के बारे में लिखा है।
ALSO READ:
ओबामा ने मनमोहन को सराहा, कहा- आधुनिक भारत की गाथा कई मायनों में सफल
उन्होंने कहा कि हो सकता है कि यह उसका (भारत) आकार है (जो आकर्षित करता है), जहां दुनिया की जनसंख्या का 6ठा हिस्सा रहता है, जहां करीब 2 हजार विभिन्न जातीय समुदाय रहते हैं और जहां 700 से अधिक भाषाएं बोली जाती हैं।

ओबामा ने बताया कि उन्होंने 2010 में राष्ट्रपति के रूप में भारत की यात्रा की थी और वे इससे पहले कभी भारत नहीं गए थे। उन्होंने कहा कि लेकिन इस देश का मेरी कल्पना में हमेशा विशेष स्थान रहा।

ओबामा ने कहा कि इसका एक कारण यह भी हो सकता है कि इंडोनेशिया में अपने बचपन का कुछ हिस्सा मैंने हिन्दू महाकाव्यों रामायण और महाभारत की कथाएं सुनते हुए बिताया या इसका कारण पूर्वी धर्मों में मेरी रुचि हो सकती है या इसका कारण कॉलेज के मेरे पाकिस्तानी एवं भारतीय मित्रों का समूह है जिन्होंने मुझे दाल और कीमा बनाना सिखाया और मुझे बॉलीवुड की फिल्में दिखाईं।

'ए प्रॉमिज्ड लैंड' में ओबामा ने 2008 के चुनाव प्रचार अभियान से लेकर राष्ट्रपति के रूप में अपने पहले कार्यकाल के अंत में एबटाबाद (पाकिस्तान) में अलकायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को मारने के अभियान तक की अपनी यात्रा का विवरण दिया है। इस किताब का दूसरा भाग भी आएगा। (भाषा)



और भी पढ़ें :