आज ही के दिन (3 मार्च) हुई थी इंदौर की स्थापना

corona in indore
पुनः संशोधित बुधवार, 3 मार्च 2021 (20:23 IST)
इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी का आज यानी बुधवार को 305वां जन्मदिन है। एक जानकारी के मुताबिक इन्दौर की स्थापना राव राजा नन्दलाल मंडलोई (जमींदार) ने 3 मार्च, 1716 में की थी। मल्हारराव होलकर को तत्कालीन मराठा शासक ने मालवा प्रांत का सूबेदार नियुक्त किया था। इंदौर की राजधानी महेश्वर थी, लेकिन कालांतर में होलकरों ने अपनी राजधानी इंदौर को बनाया।
मंडलोई ने ही इंदौर को कर मुक्त व्यापार क्षेत्र बनाने के लिए तत्कालीन दिल्ली के बादशाह को अर्जी भेजी और उन्हें 3 मार्च 1716 को अनुमति मिल गई। यहां कारोबार में कर छूट की सुविधा से कई व्यवसायी और उत्पादक सियागंज (तब शिवागंज) से लेकर नंदलालपुरा तक के क्षेत्र में बसने लगे। सियागंज तब ‘सायर’ (चुंगी नाका) के नाम से जाना जाता था और नंदलालपुरा नाम अपने संस्थापक नंदलाल मंडलोई के कारण पड़ा।
ऐसा कहा जाता है कि एक संत की प्रेरणा से नंदलाल के दादा ने खान (तब का नाम ‘ख्याता’) नदी
के किनारे 1800 ई. में बड़ा रावला का निर्माण किया था। उस समय नदी पर पाल बांधी गई ताकि पानी इतना गहरा हो जाए कि हाथियों को नहलाया जा सके। वह स्थान ‘हाथीपाला’ कहलाया।

इंदौर का इतिहास : इंदौर के इतिहास से पता चलता है कि शहर के संस्थापकों के पूर्वज मालवा के वंशानुगत जमींदार और स्वदेशी भूस्वामी थे। इन जमींदारों के परिवारों ने शानदार जीवन व्यतीत किया। उन्होंने होल्कर के आगमन के बाद भी एक हाथी, निशान, डंका और गाडी सहित रॉयल्टी की अपनी संपत्ति को बनाए रखा। उन्होंने दशहरा (शमी पूजन) की पहली पूजा करने का अधिकार भी बरकरार रखा। मुगल शासन के दौरान, परिवारों को सम्राट औरंगज़ेब, आलमगीर और फ़ारुक्शायार ने अपने जागीर के अधिकारों की पुष्टि करते हुए, सनद दी।
मध्य प्रदेश के पश्चिमी क्षेत्र पर स्थित इंदौर, राज्य के सबसे महत्वपूर्ण वाणिज्यिक केंद्रों में से एक है। इंदौर का समृद्ध कालानुक्रमिक इतिहास गौर करने लायक है। यह एक महत्वपूर्ण व्यापारिक केंद्र था। लेकिन आज कॉर्पोरेट फर्मों और संस्थानों के प्रवेश के साथ, इसने देश के वाणिज्यिक क्षेत्र में एक बड़ा नाम कमाया है। जैसे ही कहानी आगे बढ़ती है, होलकर कबीले के मल्हारी होल्कर ने 1733 में मालवा की विजय में अपनी लूट के हिस्से के रूप में इंदौर को प्राप्त किया।
उनके वंशज, जिन्होंने मराठा संघ के मुख्य भाग का गठन किया, पेशवाओं और सिंधियों के साथ संघर्ष में आए और जारी रखा गोर की लड़ाई। ईस्ट इंडिया कंपनी के आगमन के साथ इंदौर के इतिहास में एक तीव्र मोड़ आया। इंदौर के होलकरों ने 1803 में अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई में भाग लिया था। (यह जानकारी एनआईसी और अन्य स्रोतों पर आधारित है)



और भी पढ़ें :