0

Independence Day : 15 अगस्त पर पढ़ें खास कविता

मंगलवार,अगस्त 11, 2020
Independence Day 15 August
0
1
आ जाओ कृष्ण...देखो अब बोल भी छूट चले, शब्दों को भी खोती हूं एक-एक प्रेम पुष्प को, भाव माल में पिरोती हूं
1
2
सौम्य सुदर्शन शामल सुंदर, नीलमणी सम रोचन उज्ज्वल, रणवीर धुरंधर वीर धनुर्धर, असुर निकंदन दशरथ नंदन
2
3
ढ़ीठ होती हैं यादें, बेबाक होती हैं यादें, बेवक्त की बारिश सी सनकी होती हैं यादें, दुआ मरहम से भी लाइलाज होती हैं, पुराने ज़ख्मों सी ज़िद्दी होती हैं यादें
3
4
एक लौ उम्मीद की रौशन कर लो
4
4
5
याद है पिछली छुट्टियों से भी पहले वाली छुट्टियों में हम जब बादलों को न्योता देने उनके घर गए थे....
5
6
कर्म की व्याख्या क्या करूं जो करवाते हो वह कर्म तुम्हीं को समर्पित मेरे कर्म यदि मेरे नहीं तो फल भी नहीं मेरे मेरे धर्म तुम्हारे तुम्हीं हो धर्मप्रवर्तक मेरे...
6
7
एक भीनी सी खुशबू हूं, हवाओं में घुल जाने दो मुझे।  आसमान को छूता परिंदा हूं उड़ जाने दो मुझे।।
7
8
चल आ यार थोड़ी बात कर लेते हैं, जो भी समस्या हो जीवन की उसे सुलझा लेते हैं
8
8
9
चलो-चलो कवि लिखों मेघों पर कविता, बरसेंगे आंगन-आंगन हरा-भरा ह्दय होगा
9
10
लेकिन आज भी, पिता के वात्सल्य के मायने नहीं बदले
10
11
भाई अपने तन से मन से, दूर कुरोग करें। आओ योग करें। आओ योग करें।। स्वास्थ्य हमारा अच्छा है तो, सारा कुछ है अच्‍छा।
11
12
न शिकवों की शिकन, न शिकायतों का आडंबर, दुनिया के इस बीहड़ वन में मेरे लिए पगडंडी बनाते हैं
12
13
poem on father - पापा मेरी नन्ही दुनिया, तुमसे मिल कर पली-बढ़ी, आज तेरी ये नन्ही बढ़कर, तुझसे इतनी दूर खड़ी
13
14
माना कि मौन रहकर सागर समाहित कर लेता है स्वयं में उसकी ओर आने वाली हर नदी को पर नदियों ने समझा है कभी दर्द सागर का?
14
15
जिंदगी पेन है, उसके रिफिल हो तुम, पेन की पाई जाती हैं किस्में बहुत
15
16
घटाएं आज बढ़ती जा रही हैं, दिखाने पर्बतों को रोब अपना हवाओं को भी साथ अपने लिया है।
16
17
संत कबीर दास के दोहे आज भी पथ प्रदर्शक के रूप में प्रासंगिक है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं कबीर के दोहे सर्वाधिक प्रसिद्ध व लोकप्रिय दोहे-
17
18
सदियों से प्रकृति के तमाम जीव-जंतुओं की दी जाती रही बलि, मनुष्य की जीभ की तुष्टि के लिए या
18
19
वर्षों से देखा सबने, सुंदर सफेद परिधानों से सज्जित, सदा अपने अधरों पर लिए, मधुर मुस्कान, वो तरुणाई।
19