0

Motivation Speech: सोच को सकारात्मक बनाने की बहुत ही सरल ट्रिक्स

गुरुवार,जून 17, 2021
0
1
भारत में आमतौर पर युवा जीवन बीमा को पहले कम तरजीह देते थे। लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के बाद नजरिया बदला है। कम उम्र के नौजवानों की मौत ने युवाओं को जीवन बीमा की ओर आकर्षित किया है। भारत में 20 वर्ष की आयु से अधिक कई लोगों की तरह बेवरली कोटीनो जीवन ...
1
2
अरुणाचल प्रदेश में अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे लोअर सुबनसिरी जिले में 45 साल से ऊपर के लोग कोरोना की वैक्सीन लगवाने से हिचक रहे थे। उनकी हिचकिचाहट दूर करने के लिए राज्य सरकार ने 20 किलो चावल की पेशकश की।
2
3
तारीख़ थी पांच मई। समय रात के तकरीबन 12.30 बज रहे थे। पश्चिम बंगाल के मेदिनीपुर के एक गांव में रहने वाली बुज़ुर्ग महिला अपने नाती के साथ घर पर अकेली थीं।
3
4
पश्चिम बंगाल में जारी कथित हिंसा और दलबदल क़ानून के मुद्दे पर राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाक़ात करने के लिए विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी पार्टी के 50 विधायकों के साथ सोमवार शाम को राजभवन पहुँचे थे। लेकिन, उस प्रतिनिधिमंडल में बीजेपी के ...
4
4
5
दक्षिण एशिया में भारत के प्रमुख ताकत होने की 3 वजहें हैं, पड़ोसी देशों की मदद, राजनीतिक प्रभाव और क्षेत्र के देशों से ऐतिहासिक संबंध। लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के बाद इस इलाके में भारत का प्रभाव लगातार कम हो रहा है।
5
6
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने दूसरे कार्यकाल के 2 वर्ष पूरे कर चुके हैं लेकिन इन 2 सालों में वे अपने मंत्रिपरिषद को भी पूरी तरह आकार नहीं दे पाए हैं। उनकी सरकार का तीसरा साल शुरू हो चुका है लेकिन अभी भी आधी-अधूरी मंत्रिपरिषद से ही काम चल रहा है। ...
6
7
कोरोना महामारी के बाद की पत्रकारिता कैसी होगी? डॉयचे वेले की सालाना ग्लोबल मीडिया फोरम में जर्मन चासलर एंजेला मर्केल ने कहा कि डिजिटल आजादी और नागरिक अधिकारों की सुरक्षा में संतुलन जरूरी है।
7
8
साल 2017 की गर्मियों के बाद जब सिक्किम के पास डोकलाम में भारत और चीन की सेनाएं एक-दूसरे का सामना कर रही थीं तो उसी दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शी जिनपिंग की एक 'अनौपचारिक मुलाकात' हुई थी।
8
8
9
भारतीय राजनीतिक इतिहास को मुख्यत: 4 भागों में बांट सकते हैं- प्राचीन, मध्य, आधुनिक और वर्तमान। प्राचीन काल में हम वैदिक काल, रामायण काल, महाभारत का काल, सिंधुघाटी का काल, मौर्य साम्राज्य, विक्रमादित्य साम्राज्य, गुप्त वंश को लेते हैं। गुप्त वंश के ...
9
10
कोरोना की दूसरी लहर ने पिछले 2 महीनों में पहले से ही बोझिल स्वास्थ्य सेवा प्रणाली को पंगु बना दिया है। कैंसर, हृदय और गुर्दे की गैर-कोविड पुरानी बीमारियों से पीड़ित भारतीयों को बुरी तरह प्रभावित किया है।
10
11
शामली ज़िले में एक ग्राम प्रधान के कथित उत्पीड़न से दर्जनों घरों पर पिछले कुछ दिनों से 'मकान बिकाऊ है' के पोस्टर लगे हैं। पीड़ित ग्रामीणों का आरोप है कि बार-बार शिकायत के बावजूद पुलिस और प्रशासन उनकी बात नहीं सुन रहा है और उल्टे शिकायत करने वालों पर ...
11
12
अगर चीन ने ये सोचा था कि डोनाल्ड ट्रंप के जाने के बाद अमेरिका से रिश्ते सुधरेंगे, तो ये उसकी भूल थी। चीन हर क्षेत्र में पश्चिमी देशों को टक्कर दे रहा है और चीन और अमेरिका के बीच प्रतिस्पर्धा एक तल्खी भरा मोड़ ले चुकी है।
12
13
नवांग दोरजे ने भारत-चीन की लद्दाख सीमा स्थित ब्लैक टॉप पर्वत पर महीनों वक्त बिताया है। वे भारतीय सेना को रसद की सामग्री पहुंचाने के लिए वहां आते जाते रहे हैं।
13
14
अब यह स्पष्ट हो चुका है कि मौजूदा वक्त में हमारा सामना एक ऐसे वायरस से है जो एक से किसी दूसरे व्यक्ति में बहुत ही आसानी से, और शायद दोगुनी तेज़ी से फैलता है- और यह वुहान (चीन) में साल 2019 के अंत में पाये गए वायरस का नया रूप है।
14
15
महाराणा प्रताप उदयपुर, मेवाड़ में सिसोदिया राजवंश के राजा थे। उनके कुल देवता एकलिंग महादेव हैं। मेवाड़ के राणाओं के आराध्यदेव एकलिंग महादेव का मेवाड़ के इतिहास में बहुत महत्व है।
15
16
राजनीतिक रूप से भारत के सबसे बड़े कद वाले प्रांत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दिल्ली दौरे और पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाक़ात के बाद, एक बार फिर उत्तर प्रदेश की राजनीति में बदलाव की चर्चाओं को ...
16
17
अस्थायी दुष्प्रभाव जैसे सिरदर्द, थकान और बुखार टीकों के प्रति शरीर की सामान्य प्रतिक्रिया है और ये काफी आम हैं। लेकिन जरूरी नहीं कि ये तकलीफें भी सबको हों। जानिए क्या है कोरोना के टीके के साइड इफेक्ट का विज्ञान?
17
18
कोरोना वैक्सीन के असर को लेकर तमाम तरह की बातें हो रही है, कई लोगों को इसके बाद बुख़ार आता है, कई को नहीं, कई को कुछ और भी महसूस होता है, कई को कुछ भी अलग नहीं लगता। मगर वैक्सीन के असर को लेकर नासिक के शख़्स ने चौंकाने वाला दावा किया है। नासिक ...
18
19
शक, कुषाण और हूणों के पतन के बाद भारत का पश्‍चिमी छोर कमजोर पड़ गया, तब अफगानिस्तान और पाकिस्तान के कुछ हिस्से फारस साम्राज्य के अधीन थे तो बाकी भारतीय राजाओं के, जबकि बलूचिस्तान एक स्वतंत्र सत्ता थी। 7वीं सदी की शुरुआत के दौरान भारत के अफगानिस्तान ...
19