कितने समय तक चलती है वैक्‍सीन की इम्‍यूनिटी, क्‍या बूस्‍टर शॉट है जरूरी

Last Updated: सोमवार, 27 सितम्बर 2021 (10:17 IST)

कोविड 19 के टीके को लेकर कई तरह की बातें चल रही है। क्‍या दोनों डोज लेने के बाद कोरोना का खतरा बना रहता है। या दो डोज लेने के बाद बूस्‍टर शॉट लेना भी जरूरी है। आइए जानते हैं क्‍या कहती है रिसर्च।
के टीके घातक वायरस के खिलाफ एक डिफेंसिव बुलेट के रूप में निकाले गए हैं, जो कोरोनावायरस की गंभीरता और मृत्यु दर को कम करते हैं। ये व्यक्ति में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और उन्हें वायरस से सुरक्षित रखता है।

लेकिन जैसे-जैसे वायरस के नए वर्जन दुनिया में लोगों को प्रभावित करते हैं, इसके टीकों का असर कम होता है। इससे लोगों को संदेह हुआ है कि क्या ये टीके उन्हें नए कोरोना से बचाएंगे या बूस्टर शॉट्स की जरूरत होगी?


नए रूपों में उनके ट्रांसमिशन और हाई इनफेक्टिविटी रेट के लिए आशंका है और माना जाता है कि ये शरीर में मौजूद प्रतिरक्षा रक्षा को पार कर जाता है, जिससे टीके के जरिए बढ़ाए गए संरक्षण और प्रभावकारिता को कम किया जाता है।

डेल्टा वैरिएंट की बात करें तो इससे वैक्सीन से चलने वाली प्रतिरोधक क्षमता कम हो सकती है। साथ ही, ऐसी भी खबरें आ रही हैं कि कई टीकाकरण वाले लोग एक नए वैरिएंट से संक्रमित हो गए हैं। हालांकि, ये कहना पूरी तरह से सही नहीं है। इसके लिए शोध चल रहे हैं।

अब तक, किसी भी टीके ने 100 प्रतिशत असर दर की गारंटी नहीं दी है, कुछ अन्य की तुलना में अधिक प्रभावी हो सकते हैं।

इसे साबित करने के लिए, वैज्ञानिक पत्रिका, नेचर में प्रकाशित एक छोटे पैमाने पर अध्ययन किया गया था, जिसमें कहा गया था कि मॉडर्न और फाइजर जैसे टीकों से अच्छी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया होने की संभावना है जो सालों तक चल सकती है। हालांकि, निष्कर्षों को खत्म करने के लिए और ज्यादा शोध की जरूरत है।

क्या बूस्टर शॉट की जरूरत है?

इसके लिए अभी शोध चल रहा है कि लोगों को नए वेरिएंट से खुद को बचाने के लिए बूस्टर शॉट्स की जरूरत है या नहीं। हाल ही में, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का बूस्टर शॉट शुरुआती शॉट्स के 10 महीने बाद दिया जाता है।

यह आलेख पूरी तरह से शोध और कई अध्ययनों के आधार पर है। इनमें से किसी भी तरह का पालन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह-परामर्श करना उचित है



और भी पढ़ें :