भीमगोड़ा कुंड हरिद्वार, जानिए 5 रहस्य

उत्तराखंड का एक शहर हरिद्वार जहां लगता है विश्व प्रसिद्ध कुंभ मेला। गंगा के तट पर बसा यह नगर बहुत ही खूबसूरत और प्राकृतिक छटा से परिपूर्ण है। यहां पर शिवालिक पर्वत श्रृंखला से गुजरता राजाजी नेशनल पार्क बहुत ही सुंदर है। पक्षी और वन्य प्राणियों के सुंदर नजारों के साथ ही आप जंगल का आनंद ले सकते हैं। हरिद्वार में ही बहुत ही सुंदर भीमगोड़ा भी है। आओ जानते हैं इसके बारे में संक्षिप्त जानकारी।

1. हर-की-पौड़ी के नजदीक स्थित भीमगोड़ा टैंक हरिद्वार का एक मुख्य पर्यटक आकर्षण है।

2. इस कुंड के पास मंदिर भी बना है जो कि बहुत ही प्राचीन है। कहते हैं कि यहां पर पांडवों ने एक रुद्राक्ष रखकर ध्यान किया था और उस रुद्राक्ष में से 11 शिवलिंग निकले थे।

3. इस स्थान को भीमगोड़ा बैराज (भिमगोडा बैराज), भीमगोडा वेयर, भीभिमगोडा हेड वर्क्स या भीमगोड़ा टैंक भी कहते हैं। इसे गुप्त गंगा भी कहा जाता है।

4. हरिद्वार में भीम गोड़ा कुंड भी है। कहते हैं कि जब पांडव स्वर्ग जा रहे थे जब यहीं पर भीम ने श्रीकृष्‍ण के कहने पर अपना घुटना भूमि पर मार दिया था जिससे यह कुंड निर्मित हो गया था।

5. यह भी कहा जाता है कि द्रौपदी का प्यास लगी थी तो यही पर भीम ने अपना घुटना मारकर पानी निकाल दिया था।



और भी पढ़ें :