हरिद्वार कुंभ मेला 2021 : स्नान के लिए शामिल होते हैं इन 13 अखाड़ों के साधु-संत

मूलत: कुम्भ या अर्धकुम्भ में साधु-संतों के कुल तेरह अखाड़ों द्वारा भाग लिया जाता है। इन अखाड़ों की प्राचीन काल से ही स्नान पर्व की परंपरा चली आ रही है। इन अखाड़ों के नाम है: -

शिव संन्यासी संप्रदाय के 7 अखाड़े :
1. श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी- दारागंज प्रयाग (उत्तर प्रदेश)।
2. श्री पंच अटल अखाड़ा- चैक हनुमान, वाराणसी (उत्तर प्रदेश)।
3. श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी- दारागंज, प्रयाग (उत्तर प्रदेश)।
4. श्री तपोनिधि आनंद अखाड़ा पंचायती- त्रम्केश्वर, नासिक (महाराष्ट्र)।
5. श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा- बाबा हनुमान घाट, वाराणसी (उत्तर प्रदेश)।
6. श्री पंचदशनाम आवाहन अखाड़ा- दशस्मेव घाट, वाराणसी (उत्तर प्रदेश)।
7. श्री पंचदशनाम पंच अग्नि अखाड़ा- गिरीनगर, भवनाथ, जूनागढ़ (गुजरात)।
बैरागी वैष्णव संप्रदाय के 3 अखाड़े :
8. श्री दिगम्बर अनी अखाड़ा- शामलाजी खाकचौक मंदिर, सांभर कांथा (गुजरात)।
9. श्री निर्वानी आनी अखाड़ा- हनुमान गादी, अयोध्या (उत्तर प्रदेश)।
10. श्री पंच निर्मोही अनी अखाड़ा- धीर समीर मंदिर बंसीवट, वृंदावन, मथुरा (उत्तर प्रदेश)।

उदासीन संप्रदाय के 3 अखाड़े :
11. श्री पंचायती बड़ा उदासीन अखाड़ा- कृष्णनगर, कीटगंज, प्रयाग (उत्तर प्रदेश)।
12. श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन- कनखल, हरिद्वार (उत्तराखंड)।
13. श्री निर्मल पंचायती अखाड़ा- कनखल, हरिद्वार (उत्तराखंड)।
इसके अलावा भी सिख, वैष्णव और शैव साधु-संतों के और भी उप-अखाड़े हैं जो कुम्भ स्नान में भाग लेते हैं। अखाड़ों के अलावा भी स्वयंभू संतों के कई डेरे या आश्रम के कैप लगते हैं जो कुंभ में भाग लेते हैं। पिछले वर्ष प्रयाग कुंभ मेले में किन्नर अखाड़े को मान्यता दिए जाने के सवाल पर खूब बवाल मचा था, परंतु उन्हें मान्यता नहीं मिली। अखाड़ों का कहना है कि किन्नर अखाड़ा हो सकता है परंतु उसकी 13 अखाड़ों में कोई मान्यता नहीं है। स्वयंभू आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी ने इस अखाड़े का गठन किया है।



और भी पढ़ें :