कैसे निपटाएं 24 घंटे में सभी कार्य, जानें समय से जुड़ी ये बेसिक बातेंं


अक्सर यह राग लोग गाते हैं मुझे टाइम नहीं मिलता है या फिर टाइम कम पड़ता है, काश भगवान ने 24 घंटे से अधिक टाइम दिया होता। लेकिन क्‍या आप जानते हैं आज जीवन में सफल और असफल दोनों ही लोगों के पास 24 घंटे हैं। अगर आप अपना कार्य समय पर नहीं पर पाते हैं तो आज आपको आसान टिप्‍स बताने जा रहे हैं जो ताकि अपनी उत्पादकता बढ़ाने के साथ ही आप समय से अपने सभी कार्य 24 घंटे में पूर्ण कर सकें।

नियमों का पालन करें - एक बार कोई भी कार्य शुरू करने के बाद उसे पूर्ण करके ही छोड़ें। समय तय कर लें, मार्जिन लेकर चलें, कभी कार्य में परेशानी आने पर कितना और अधिक समय लग सकता है। जब तक कार्य पूरा नहीं हो जाता अन्‍य कार्य के बारे में विचार नहीं करें। इस तरह नियमों का पालन करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध रहे।

काम की सूची तैयार कर लें - जी हां,
काम पर बैठने से पूर्व अपने कार्यों की सूची पहले ही तैयार कर लें। कैलेंडर और समय भी तय करें। उस अनुसार आप सभी कार्यों को प्‍लान कर सकते हैं। यह आपका समय बचाएगा। दरअसल, कार्यों की सूची बनाने से आपका दिमाग तेजी से कार्य करने लगता है। सूची बनाने के साथ ही आपकी प्राथमिकता भी तय हो जाती है कि आपको क्‍या कार्य करना पहले करना है। जिससे आप जो भी कार्य करते हैं तो पूरे फोकस के साथ उसे कर पाते हैं।

छोटे -छोटे लक्ष्य रखें -
कहते हैं हमेशा बड़ा सोचो तो कुछ बड़ा काम कर पाओंगे। यह बिल्कुल सत्य है। लेकिन उन बड़े-बड़े कामों को छोटे-छोटे लक्ष्य बनाकर पूरा करें। इससे आप तेजी से अपने लक्ष्य तक पहुंच पाएंगे। इससे तनाव और दबाव दोनों कम होगा। जब आपके छोटे-छोटे लक्ष्य पूरे हो जाते हैं तो आप खुद से ही मोटिवेट होते हैं। और जल्दी सही-गलत का चुनाव करने लगते हैं।

अगले दिन क्‍या करना है? -

कोशिश करे अगले दिन क्‍या कार्य करना है उसकी सूची पहले ही बना लें। प्राथमिकता से अपने कार्यों को करें। ताकि आप अपने सुबह अपने सभी कार्य से निवृत्त होने के बाद यह नहीं सोचे पड़े कि आज क्‍या करना है।

मन को स्थिर करें
-
बार-बार व्हाट्सएप चेक करना, सोशल मीडिया स्क्रोल करना, टेक्स्ट मैसेज देखना, ईमेल चेक करना आपकी प्रोडक्टिविटी को काम करता है साथ ही समय की भी बर्बादी होती है। कार्यों को निर्धारित समय पर पूर्ण करने के लिए कार्य के दौरान उन्हें दूर रखें। शायद इसलिए आपको भी 24 घंटे कम पड़ते हैं।



और भी पढ़ें :