पिरामिड का इतिहास

WD|
FILE

यूं तो मिस्र में 138 हैं, लेकिन काहिरा के उपनगर गीजा में ‘ग्रेट पिरामिड’ है।

जो प्राचीन विश्व के सात अजूबों की सूची में है। दुनिया के सात प्राचीन आश्चर्यों में शेष यही एकमात्र ऐसा स्मारक है जिसे काल प्रवाह भी खत्म नहीं कर सका।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह पिरामिड ढाई-ढाई टन के 23 लाख पत्थरों से बनाया गया है? यह कोई ढाई हजार वर्ष ईसा पूर्व बनाया गया था। यह पिरामिड 450 फुट ऊंचा है तथा 43 सदियों तक यह दुनिया की सबसे ऊंची संरचना रहा।
कहा जाता है कि मिस्र के पिरामिड वहां के तत्कालीन सम्राट (फैरो) गणों के लिए बनाए गए स्मारक स्थल हैं, जिनमें राजाओं के शवों को दफना कर सुरक्षित रखा गया है। इन शवों को ममी कहा जाता है।

उनके शवों के साथ खाद्य अन्न, पेय पदार्थ, वस्त्र, गहनें, बर्तन, वाद्य यंत्र, हथियार, जानवर एवं कभी-कभी तो सेवक-सेविकाओं को भी दफना दिया जाता था।



और भी पढ़ें :