ये हैं नरेन्द्र मोदी के खास सिपहसालार

FILE
नरेन्द्र मोदी के सबसे करीबी और भरोसेमंद गुजरात के पूर्व गृहमंत्री अमित शाह उनकी इस चुनाव में सबसे बड़े रणनीतिकार रहे। उत्तरप्रदेश चुनाव की कमान अमित शाह को सौंपी गई। शाह का ही कमाल था कि उप्र में कांग्रेस के सफाए के साथ ही भाजपा ने वहां पर 80 में से 71 सीटें हासिल कीं।

पेशे से प्लास्टिक और प्रिटिंग का बिजनेस करने वाले शाह की मुलाकात 1980 में मोदी से हुई। तबसे यह जोड़ी साथ में है। गुजरात में राज्य चुनाव में रणनीति बनाने के अलावा शाह ने गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन और को-ऑपरेटिव सेक्टर पर भी भाजपा का कब्जा करवाया।

शाह की गुजरात में फर्जी मुठभेड़ को लेकर गिरफ्तारी भी हुई उन्हें गुजरात से बाहर होना पड़ा। जब मोदी भाजपा के प्रधानमंत्री उम्मीदवार बने तो उन्होंने अपने सबसे भरोसेमंद अमित शाह को यूपी के चुनावी कैंपेन की कमान सौंपी और उन्होंने अपनी काबिलियत साबित की। भाजपा के महासचिव अमित शाह को वडोदरा सीट से चुनाव लड़ा सकते हैं।

शाह की आगे की भूमिका : शाह को नजदीक से जानने वालों के मुताबिक शाह सरकार में शामिल नहीं होंगे और पार्टी में काम करना पसंद करेंगे। मोदी उन्हें अपने पसंदीदा प्रोजक्ट क्लीनअप गंगा में भी शामिल कर सकते हैं। शाह सरकार में शामिल हों या न हों, वे पार्टी में सुधार और राजनीतिक प्रबंधन में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।

अगले पन्ने पर... मोदी के दूसरे सिपहसालार...


नरेन्द्र मोदी ने लोकसभा चुनाव में सत्ता पर कब्जा जमाते हुए राजग को जहां 336 सीटें दिलवाईं, वहीं भाजपा को भी पहली बार अपने बूते पर पूर्ण बहुमत दिलाया।
मोदी की बड़ी सफलता में महत्वपूर्ण हाथ उनकी भरोसेमंद टीम का भी रहा, जिससे वे देश के सबसे बड़े नेता के रूप में उभरे। जानिए ‍टीम के बारे में-

अमित शाह : तुरुप का इक्का




और भी पढ़ें :