विश्व कप 2019 : एक यॉर्कर से इंग्लैंड हारा, ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में

BBC Hindi| Last Updated: बुधवार, 26 जून 2019 (18:33 IST)
हमें फॉलो करें
क्रिकेट में चल रहे रोमांचक मुकाबलों में दो चिर प्रतिद्वंदी टीमें एक दूसरे के सामने थी। ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान पर ऑस्ट्रेलिया और के बीच खेले गए इस मैच को मौजूदा विश्व कप के सबसे बड़े मैचों में गिना जा रहा था। में पहुंचने के लिए संघर्ष कर रही दोनों ही टीमों के लिए इस मैच में जीत दर्ज करना बेहद अहम था और ऑस्ट्रेलियाई टीम इसमें कामयाब रही।


ऑस्ट्रेलिया ने मेजबान इंग्लैंड को 64 रनों से हराकर ना सिर्फ जीत हासिल की बल्कि सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की करने वाली पहली टीम भी बन गई। ऑस्ट्रेलिया के 7 मैचों में 12 अंक हो गए हैं।

वहीं दूसरी तरफ इंग्लैंड के लिए अब इस विश्व कप में आगे की राह मुश्किल हो गई है। इंग्लैंड के 7 मैचों में सिर्फ 8 अंक हैं। अंतिम 4 में जगह बनाने के लिए उसे अपने बचे हुए दोनों मैचों में जीत दर्ज करनी होगी। इंग्लैंड के बचे हुए दोनों मैच मजबूत टीमों के खिलाफ हैं जिसमें न्यूजीलैंड और भारत शामिल हैं।

स्टार्क की खतरनाक यॉर्कर : इस मैच में सबसे ज्यादा चर्चा हुई ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज की सटीक यॉर्कर गेंदों की। अपनी ऐसी ही एक यॉर्कर पर स्टार्क ने इंग्लैंड की आखिरी उम्मीद लग रहे बेन स्टोक्स को 89 रनों के निजी स्कोर पर चलता कर दिया और वही इस मैच का 'टर्निंग पॉइंट' बना।

क्रिकेट एक्सपर्ट हर्षा भोगले ने इस गेंद को निर्णायक मानते हुए ट्विटर पर लिखा, बेन स्टोक्स को फेंकी गई मिचेल स्टार्क की यह गेंद सबसे शानदार यॉर्कर में से एक है। ये वही गेंद है जिसने ऑस्ट्रेलिया की सेमीफाइनल में जगह पक्की कर दी है। दरअसल ऑस्ट्रेलिया की तरफ से मिले 286 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी मेजबान टीम की शुरुआत बेहद खराब रही। इंग्लैंड के शुरुआती 4 विकेट महज 53 रनों पर ही गिर गए थे।

इसके बाद ऑलराउंडर बेन स्टोक्स ने पारी को संभाला, स्टोक्स ने पहले टिककर और उसके बाद समय-समय पर बड़े शॉट लगाकर इंग्लैंड को मैच में बनाए रखा था। पारी के 37वें ओवर में जब स्टोक्स 89 रन पर खेल रहे थे और ऐसा लग रहा था कि यहां से वो ऑस्ट्रेलिया के पाले से जीत खींचकर इंग्लैंड की तरफ ले आएंगे, तभी मिचेल स्टार्क ने बेहद घातक यॉर्कर गेंद डाली।

ऑफ स्टंम्प को निशाना लेकर डाली गई इस तेज यॉर्कर की गति और स्विंग दोनों को परखने में बेन स्टोक्स मात खा बैठे और गेंद सीधे ऑफ स्टंम्प की जड़ से जा टकराई। स्टोक्स अपना विकेट खोने से इस कदर निराश हुए कि उन्होंने बल्ला हाथ से छोड़ दिया और खीझ में बल्ले को लात मार दी।

स्टोक्स के पैवेलियन लौटते ही इंग्लैंड की मैच में वापसी की उम्मीदें भी समाप्त हो गईं। इंग्लैंड की पूरी टीम 221 रनों पर ढेर हो गई, स्टार्क ने जबरदस्त गेंदबाजी करते हुए 4 विकेट हासिल किए। स्टार्क के अलावा ऑस्ट्रेलिया की जीत में दूसरे खब्बू तेज गेंदबाज जेपी बेहरेनडॉर्फ का भी अहम योगदान रहा, उन्होंने 10 ओवरों में 44 रन देकर 5 विकेट लिए जिसमें इंग्लैंड के दोनों सलामी बल्लेबाज शामिल थे।

बल्ले और गेंद दोनों में ऑस्ट्रेलिया शीर्ष पर : इससे पहले टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम को आरोन फिंच और डेविड वॉर्नर ने शानदार शुरुआत दी। दोनों ने मिलकर 123 रन जोड़े, फिंच ने शानदार शतक जमाया जबकि वॉर्नर ने अर्द्धशतकीय पारी खेली।

हालांकि बीच के ओवर में इंग्लैंड के गेंदबाजों ने कंगारू बल्लेबाजों पर कुछ लगाम जरूर लगाई। लेकिन स्टीव स्मिथ के 38 और एलेक्स कैरी के 27 गेंदों पर तेज 38 रनों की मदद से ऑस्ट्रेलिया 285 के स्कोर तक पहुंचने में कामयाब रहा।

फिलहाल मौजूदा विश्व कप में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में शीर्ष दो स्थानों पर ऑस्ट्रेलियाई ओपनर ही विराजमान हैं। वॉर्नर के खाते में जहां 500 रन हैं तो वहीं फिंच ने भी 496 रन बना लिए हैं। इतना ही नहीं सबसे अधिक विकेट लेने के मामले में भी ऑस्ट्रेलिया के मिचेल स्टार्क सबसे आगे हैं, उन्होंने अभी तक 19 विकेट अपने नाम कर लिए हैं।

पाकिस्तान के लिए खुशी : ऑस्ट्रेलिया की इस जीत से पाकिस्तान ने भी राहत की सांस ली है, इसकी वजह पाकिस्तान की इस समय अंकतालिका में मौजूदा स्थिति है। पाकिस्तान ने अभी तक कुल 6 मुकाबले खेले हैं जिसमें उसके 5 अंक हैं। अंतिम 4 में पहुंचने के लिए पाकिस्तान को अपने बचे हुए तीनों मैच जीतने होंगे।

ऐसा होने पर पाकिस्तान के कुल 11 अंक हो जाएंगे, इस स्थिति में पाकिस्तान चाहेगा कि अंकतालिका में उससे ऊपर रहने वाली टीमों को हार मिले जिसमें इंग्लैंड की हार उसके लिए अहम थी। पाकिस्तान को अपने बचे हुए दो मैच बांग्लादेश और अफगानिस्तान के ख़िलाफ़ खेलने हैं।




और भी पढ़ें :