शुक्रवार, 1 मार्च 2024
  • Webdunia Deals
  1. खेल-संसार
  2. क्रिकेट
  3. आलेख
  4. Decoding Suryakumar Yadav, Why surya is flop in odi but a best in t20 format IND vs AUS
Written By
Last Updated : शुक्रवार, 24 नवंबर 2023 (18:49 IST)

सूर्यकुमार यादव क्यों है T-20 में शेर लेकिन ODI में भीगी बिल्ली?

सूर्यकुमार यादव क्यों है T-20 में शेर लेकिन ODI में भीगी बिल्ली? - Decoding Suryakumar Yadav, Why surya is flop in odi but a best in t20 format IND vs AUS
कृति शर्मा
Decoding Suryakumar Yadav in T-20 and ODI : वर्ल्ड कप फाइनल में भारत की हार का गम तो भारतियों के दिल से जल्द जाने से रहा लेकिन 23 नवंबर को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई पांच मैचों की सीरीज के पहले मैच की शानदार जीत ने भारतीय फेन्स के जख्मों पर एक तरह से मरहम लगाने का काम ज़रूर किया है और Top Run Scorer कप्तान Suryakumar Yadav थे जो World Cup के दौरान फ्लॉप रहे थे, उनका स्कोर विश्व कप की 7 पारियों में 2, 49, 12, 22, 2, 1, 18 था,  लेकिन चार दिन बाद उसी टीम के सामने (ऑस्ट्रेलिया) टी-20 फॉर्मेट में उन्होंने 42 गेंदों पर 80 रन बनाए। 
 
अपने टी-20 करियर (Suryakumar Yadav in T20 Fomat) में उन्होंने सिर्फ 54 मैचों में 46.85 की औसत और 173.38 स्ट्राइक रेट से 1921 रन बनाए, जिसमें 108 छक्के और 175 चौके शामिल हैं। टी-20 प्रारूप में उनके आंकड़े उल्लेखनीय हैं लेकिन उनके वनडे आंकड़े बहुत खराब हैं, Suryakumar Yadav ने ODI Career में उन्होंने 37 मैच खेले और 25.77 के खराब औसत के साथ 773 रन बनाए।

वह टी-20 फॉर्मेट में एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं और जब आप उन्हें वनडे में खेलते हुए देखेंगे तो आप पहचान नहीं पाएंगे कि वह वही खिलाड़ी है जिसका सामना क्रिकेट के छोटे फॉर्मेट में गेंदबाज करने से डरते हैं। जब वह खिलाड़ी टी-20 खेलता है तो सब कुछ उसके नियंत्रण में लगता है, सब कुछ, चाहे कोई भी स्थिति हो, पिच की स्थिति या प्रतिद्वंद्वी।
सामने वाली टीम के कप्तान उनके लिए ऐसी फील्डिंग लगाने की पुरजोर कोशिश करते हैं जो सूर्या को उन पर प्रहार करने से रोक सके लेकिन सूर्यकुमार यादव हमेशा रन बनाने के लिए गैप ढूंढ ही लेते हैं। वह टी-20 में Poetry in Motion हैं और ODI में कुछ अलग हैं, कभी-कभी उन्हें ODI में खेलते हुए देखना भी uncomfortable होता है जैसा कि विश्व कप फाइनल में हुआ था जब वह कुछ रन बना सकते थे लेकिन उन्होंने 28 गेंदों में 18 रन बनाए।

23 नवंबर को शक्तिशाली आस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के खिलाफ उनकी शानदार टी20 पारी के बाद, लोगों ने सूर्यकुमार यादव की इस बात पर अधिक आलोचना की कि वर्ल्ड कप के फाइनल में उन्होंने ऐसी बल्लेबाज क्यों नहीं की, अगर वह ऐसी बल्लेबाजी फाइनल में करते तो शायद भारत जीत सकता था।
लेकिन उन्हें यह समझने की जरूरत है कि वह अलग-अलग प्रारूपों में अलग-अलग खिलाड़ी हो सकते हैं। जैसे Cheteshwar Pujara ने Test में भारत के लिए बहुत अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन केवल 5 ODI मैच खेले। हमारे पास ऐसे कई खिलाड़ी हैं जो एक प्रारूप के लिए बने थे और वह प्रारूप टेस्ट था लेकिन यहां बात कुछ अलग है, भारत के पास कभी भी कोई ऐसा खिलाड़ी नहीं रहा जो क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप टी -20 में मैच विजेता हो।

यह कुछ कारण हो सकते हैं कि सूर्या ओडीआई प्रारूप में संघर्ष कर रहे हैं 
(The reasons why suryakumar Yadav is flop in ODI but different breed in T20 format)
 
1. Conditions : क्रिकेट के टी-20 प्रारूप में, पिचें काफी हद तक बल्लेबाजी के अनुकूल होती हैं, गेंद ज्यादातर समय बल्ले पर अच्छी तरह से आती है और अतिरिक्त उछाल भी पैदा करती है, और अन्य भारतीय खिलाड़ियों के विपरीत बैकफुट खिलाड़ी होने के नाते इन परिस्थितियों में सूर्यकुमार बहुत अच्छे से खेलते हैं और बल्लेबाजी करते हैं। 
 
2. Ball : दोनों फॉर्मेट में गेंद भी अपनी भूमिका निभाती है. टी20ई में, सूर्या आम तौर पर तब क्रीज में आते हैं जब गेंद सख्त और नई होती है। वनडे में जब बल्लेबाजी की बारी आती है तो गेंद घिस जाती है, पुरानी हो जाती है और बल्ले पर अलग तरह से आती है। 
 
3. Backfoot : ऑस्ट्रेलिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज मैथ्यू हेडन (Matthew Hayden) ने कहा कि एक तकनीकी कारण भी है जो सूर्या को वनडे में सफल होने से रोकता है। "सूर्य को एकदिवसीय मैचों में समय-समय पर गेंद पर आने की जरूरत है। वह पीछे रहना और विकेट के पीछे के क्षेत्रों तक पहुंचना पसंद करते हैं। शांत पिचों और टी20ई में यह काम करता है, लेकिन एकदिवसीय मैचों में धीमी पिचों पर, उन्हें गति नहीं मिल पाती है।" यदि वह अपने अगले पैर का अधिक उपयोग करता है तो यह उनके लिए काम कर सकता है,"

ये भी पढ़ें
12,50,307 दर्शक! एकदिवसीय विश्व कप में दर्शक संख्या ने बनाए कीर्तिमान