जब सोने के बाद कोरोना सो जाता है तो मरने के बाद मर भी जाता है...

Last Updated: सोमवार, 22 जून 2020 (13:16 IST)
नई दिल्ली। का कोरोनावायरस (Coronavirus) ज्ञान जानकर आप भी दांतों तले अंगुली दबा लेंगे। दरअसल, जमात उलेमा-ए-पाकिस्तान के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान ने कहा है कि जब सोने के बाद कोरोना सो जाता है तो व्यक्ति के मरने के बाद वह मर भी जाता है।


मौलाना फजल ने कहा कि कोरोना को लेकर खौफ पैदा किया जा रहा है। खौफ से व्यक्ति का इम्यून सिस्टम कमजोर पड़ जाता है, ऐसे में वह इससे कैसे लड़ पाएगा। उन्होंने कहा कि डॉक्टर कहते हैं कि व्यक्ति के सोने के बाद कोरोना भी सो जाता है तो फिर मरने के मर भी जाता है। अत: इसका खौफ पैदा नहीं किया जाना चाहिए। उनका कहना था कोरोना से मरने वाले व्यक्ति की मैयत घर वालों को नहीं सौंपी जाती। उसका सुपुर्दे खाक भी शरीर के अनुसार नहीं किया जाता।

उल्लेखनीय है कि इन मौलाना ने आजादी मार्च का ऐलान किया था और उसे तब तक जारी रखने का ऐलान किया था जब तक इमरान सरकार को उखाड़ नहीं फेंकते।
जलवायु परिवर्तन मंत्री ने समझाया कोविड-19 का मतलब : पाकिस्तान जलवायु परिवर्तन मंत्री जरताज गुल वजीर भी कोविड-19 की परिभाषा को लेकर सुर्खियों में हैं। उन्होंने एक न्यूज चैनल पर कोविड-19 के पूछे गए सवाल का जवाब दिया। उन्होंने कोविड-19 की परिभाषा को समझाया।
कोविड-19 का मतलब इसमें 19 पॉइंट होते हैं, जो किसी भी देश में किसी भी तरीके से अप्लाई हो सकता है और अपनी इम्यूनिटी को डेवलप करें। उनका यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।



और भी पढ़ें :