PM Modi Nation Address : PM मोदी ने कहा- राज्य लॉकडाउन को अंतिम विकल्प रखें, देश को लॉकडाउन से बचाना है

Last Updated: मंगलवार, 20 अप्रैल 2021 (21:45 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि तूफान बनकर आई कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने देश के सामने बड़ी चुनौती पैदा कर दी है लेकिन धैर्य और अनुशासन तथा संकल्प के साथ जनभागीदारी की ताकत से देश इस तूफान को परास्त कर सकता है।
 
मोदी ने देशभर में कोरोना के संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच बिना पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अचानक मंगलावार रात पौने नौ बजे देश को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि देश एक बार फिर कोरोना से बड़ी लड़ाई लड़ रहा है पिछले वर्ष की स्थिति फिर भी संभली हुई थी लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर तूफान बन कर आई है जिससे बडी चुनौती उत्पन्न हो गई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अब देश कोरोना से लडने के लिए पहले की तुलना में कहीं अधिक तैयार है।
 
डॉक्टरों के पास विशेषज्ञता है और वे लोगों की जान बचा रहे हैं। टेस्ट बढ रहे हैं बहुत मजबूती और धैर्य से लड़ाई लड़ी है। उन्होंने कहा कि इसका श्रेय देशवासियों को जाता है वे अनुशासन और धैर्य के साथ लड़ते हुए देश को यहां तक लाए हैं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि हम इस बार भी जनभागीदारी की ताकत से कोरोना के तूफान को भी परास्त कर पाएंगे।
 
उन्होंने राज्यों का आह्वान किया कि वे मजदूरों तथा श्रमिकों और कामगारों में विश्वास और भरोसा पैदा करें कि वे जहां हैं वहीं रहें क्योंकि उन्हें वहां काम भी मिलेगा और वैक्सीन भी मिलेगी। उन्होंने राज्यों से कहा कि लॉकडाउन अंतिम विकल्प होना चाहिए और सभी की यह पूरी कोशिश होनी चाहिए कि इसकी नौबत न आए। हमें मिलकर देश की अर्थव्यवथा को भी संभालना है और अपने आपको भी बचाना है।

09:29PM, 20th Apr
मेरा राज्यों से आग्रह है कि वे श्रमिकों का भरोसा बनाए रखें, उनसे आग्रह करें कि वे जहां हैं, वहीं रहें। राज्यों द्वारा दिया गया यह भरोसा प्रवासी श्रमिकों की बहुत मदद करेगा कि वे जिस शहर में हैं वहीं पर उन्हें अगले कुछ दिनों में टीका भी लगेगा और उनका काम भी बंद नहीं होगा।
09:11PM, 20th Apr
- देश को लॉकडाउन से बचाना है।
- लोग कोरोना गाइडलाइंस का फॉलो करें।
- बिना जरूरत के घर से बाहर न निकलें। 
- राज्य लॉकडाउन को अंतिम विकल्प मानें। 
- माइक्रो कंटेनमेंट पर ध्यान दें राज्य सरकारें।
09:06PM, 20th Apr
पीएम मोदी ने लोगों से अपील की कि वे बेवजह घर से न निकलें। वे ये मानें कि लॉकडाउन अंतिम विकल्प है। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि राज्य लॉकडाउन को अंतिम विकल्प रखें। देश को लॉकडाउन से बचाना है।
09:03PM, 20th Apr
- हमारे पास मजबूत फार्मा सेक्टर है। 
- सरकार अस्पतालों में मुफ्त वैक्सीन मिलती रहेगी। 
- कोशिश है कि हर जरूरतमंद को जल्द वैक्सीन लगे।
09:02PM, 20th Apr
-आज हमारे पास बड़ी पीपीई किट्‍स हैं। लैब का बड़ा नेटवर्क है।
-देश ने अभी तक बहुत मजबूती से कोरोना की लड़ाई लड़ी है।
-अनुशासन और धैर्य के साथ कोरोना से लड़ते हुए आप देश को यहां तक लाए हैं।
-मुझे विश्वास है कि जनभागीदारी से कोरोना के इस तूफान को परास्त कर पाएंगे।
-कई सामाजिक संस्थाएं लोगों की मदद करने के लिए दिन-रात जुटी हुई हैं। इन सबके प्रयास को मैं नमन करता हूं।
09:00PM, 20th Apr
- कोरोना से लड़ाई में हमें हौसला मिलता है कि हमारे हेल्थ वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर एवं अन्य बड़े हिस्से को वैक्सीन का लाभ मिल चुका है।
- वैक्सीन को लेकर हमने एक और बड़ा फैसला किया है। 1 मई से 18 साल से ऊपर के किसी भी व्यक्ति को टीका लगाया जा सकेगा।
- 45 से ऊपर आयु वर्ग के लोगों के लिए भी वैक्सीनेशन कार्यक्रम चालू रहेगा।
- मुफ्त वैक्सीन कार्यक्रम सरकारी अस्पतालों में चलता रहेगा।
- हम सबका प्रयास जीवन बचाने का प्रयास है।
- प्रयास यह भी है कि लोगों की जीविका कम से कम प्रभावित हो।
08:56PM, 20th Apr
- कोरोना के चलते जो चुनौतियां आई हैं उन्हें मिलकर सामना करना है।
- चुनौती काफी बड़ी है और उसे हौसले से निपटना है।
- ऑक्सीजन की काफी मांग बढ़ गई है। ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ाने पर काम किया जा रहा है। सभी दवा कंपनियों की मदद ली जा रही है।
08:55PM, 20th Apr
- प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए दवाई कपंनियों की मदद ली जा रही है।
- हमारे पास बहुत बड़ा फार्मा सेक्टर है, जो बहुत तेजी से दवाइयां बनाता है।
- अस्पतालों में बेड की संख्‍या बढ़ाने का काम चल रहा है। 
-  कुछ शहरों में विशेष और बड़े कोविड सेंटर बनाए जा रहे हैं।
- दुनिया की सबसे सस्ती वैक्सीन भारत के पास है। 
- वैक्सीन की अप्रूवल को फास्टट्रैक पर रखकर मदद को बढ़ाया गया है।
08:47PM, 20th Apr
- कोरोना के खिलाफ देश बड़ी लड़ाई लड़ रहा है।
- कोरोना की दूसरी लहर देश में तूफान बनकर आ गई। 
- चुनौती बड़ी है लेकिन हमें मिलकर अपने हौंसले, संकल्प और तैयारी के साथ इसे पार करना है।



और भी पढ़ें :