मायावती का राज्य सरकारों पर प्रहार, कहा- पलायन करने वालों में 90 फीसदी दलित और अति पिछड़े

अवनीश कुमार| Last Updated: मंगलवार, 14 अप्रैल 2020 (16:47 IST)
लखनऊ। उत्तरप्रदेश के लखनऊ में मंगलवार को डॉक्टर बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की 129वीं जयंती पर बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने अपने आवास पर अंबेडकर जयंती के उपलक्ष्य पर डॉ. अंबेडकर को नमन करते हुए राज्य सरकारों पर हमला बोलते हुए कहा कि जातिवादी मानसिकता पूरी तरह से नहीं बदली है।
ALSO READ:
मायावती की बसपा कार्यकर्ताओं से अपील, लॉकडाउन का पालन करें, घरों में ही मनाएं आम्बेडकर जयंती
उन्होंने कहा कि आज यह बात मुझे बड़े दुख के साथ इसलिए भी कहनी पड़ रही है, क्योंकि के संक्रमण में लॉकडाउन के दौरान राज्य सरकारों ने दलितों और गरीबों की उपेक्षा की। इनके लिए कोई व्यवस्था नहीं की है। इस वजह से दलितों और अति पिछड़ों की स्थिति और दयनीय हो गई और देश के कई हिस्सों से लोग पलायन करने को मजबूर हुए हैं। अगर हम आंकड़ों पर नजर डालें तो पलायन करने वालों में 90 फीसदी दलित और अति पिछड़े थे।
उन्होंने कहा कि दिल्ली के विधानसभा चुनाव में भी ऐसा ही कुछ देखने को मिला, जहां आम आदमी पार्टी ने इन्हें प्रलोभन देकर वोट तो लिया लेकिन लॉकडाउन के दौरान पलायन करने से भी नहीं रोका बल्कि बसों से बॉर्डर तक छोड़ आए।

मायावती ने कहा कि मैं बताना चाहती हूं कि डॉ. बीआर अंबेडकर ने अपना सारा जीवन यह सुनिश्चित करने में बिताया कि दलित, आदिवासियों और अन्य हाशिए के समुदाय स्वाभिमान के साथ रहते हैं। सरकार को गरीबों, मजदूरों, किसानों और अन्य मजदूर वर्ग के हितों को ध्यान में रखना चाहिए और तालाबंदी के दौरान उन्हें मदद प्रदान करनी चाहिए।



और भी पढ़ें :