शिवराज अभी नहीं लगवाएंगे कोरोना वैक्सीन, रोज 50 हजार हेल्थ वर्कर्स के वैक्सीनेशन का टारगेट

मध्यप्रदेश में आठ दिन में पूरा होगा पहले चरण के टीकाकरण का टारगेट

Author विकास सिंह| Last Updated: सोमवार, 4 जनवरी 2021 (15:29 IST)

भोपाल। कोरोना महामारी से जूझ रहे देश को की सौगात मिलने के बाद अब कभी भी देश में टीकाकरण का कार्यक्रम शुरु हो सकता है। इस बीच मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने बड़ा एलान करते हुए कहा है कि वह अभी वैक्सीन नहीं लगावाएंगे।

आज कलेक्टर कमिश्नर कॉफ्रेंस की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि “मैंने तय किया है कि जरूरी लोगों को पहले वैक्सीन लग जाए इसके बाद मैं खुद वैक्सीन लगवाऊंगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना की सभी तैयारियां हो गई और पहले ज्यादा जरूरी है उन्हें वैक्सीन लग जाए।

हेल्थ वर्कर्स के वैक्सीनेशन का प्लान-प्रदेश में कोरोना वैक्सीन के पहले चरण में 3.84 लाख किया जाएगा। इसमें सरकारी हेल्थ वर्कर्स के साथ प्राइवेट डॉक्टर और हेल्थ वर्कर्स का टीकाकरण किया जाएगा। टीकाकरण प्लान के मुताबिक प्रतिदिन 50 हजार के करीब हेल्थ वर्कर को टीका लगाया जाएगा। प्रदेश पहले चरण के वैक्सीनेशन के लिए जिला अस्पताल,सिविल अस्पताल, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के साथ आयुष संस्थाओं को भी वैक्सीनेशन बूथ के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा।


हेल्थ वर्कर्स के बाद फ्रंटलाइन वर्कर्स (पुलिस,नगर निगम, डिजास्टर मैनेजमेंट) के लोगों को वैक्सीनेशन होगा। वहीं इसके बाद 50 साल उपर वाले और हाईरिस्क की श्रेणी में आने वाले लोगों (कैंसर,डायबिटीज,हाइपरटेंशन बीमारी से पीड़ित) को लगाई जा सकती है।
ALSO READ:
और को मंजूरी मिलने के बाद वैक्सीनेशन से जुड़े आपके 10 सवाल
मध्यप्रदेश में वैक्सीनेशन की तैयारी-मध्यप्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन के अभियान के सफल संचालन के लिए लॉजिस्टिक तैयारियां पूरी कर ली गई है। कोरोना वैक्सीन रखने के लिए भोपाल, इंदौर,जबलपुर और ग्वालियर में चार रीजनल स्टोरेज सेंटर बनाए गए है। इसके साथ पूरे प्रदेश में कोरोना वैक्सीन सुरक्षित रखने के लिए 1214 कोल्ड चेन फोकल प्वाइंट (वैक्सीन रखने का स्थान) जिसमें 40 नए फोकल प्वाइंट बनाए गए है।
इसके साथ जिलों में ब्लॉक लेवल तक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) तक कोरोना वैक्सीन पहुंचाने के लिए 51 इन्सुलेटेंड वैक्सीन वैन को रखा गया है। इसके साथ ही वैक्सीन के संग्रहण और सुरक्षित रखने के लिए 411 डीप फ्रीजर, आठ वॉक इन फ्रीजर (walk-in-freezers) और आठ ही वॉक-इन-कूलर (walk-in-coolers) केंद्र से मगाएं गए है।



और भी पढ़ें :