1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. कोरोना वायरस
  4. India is the first country in the world to give 100 crore vaccine doses
Written By
Last Updated: बुधवार, 20 अक्टूबर 2021 (13:11 IST)

100 करोड़ Vaccine डोज देने वाला भारत दुनिया का पहला देश : योगी

बस्ती। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि 100 करोड़ लोगों को वैक्सीन की डोज देने वाला भारत दुनिया का पहला देश बन चुका है। संचारी रोग पखवाड़े का शुभारंभ करते हुए योगी ने कहा कि कोरोना सदी की सबसे बड़ी महामारी थी और इस महामारी के प्रति बचाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश में जो काम हुआ है, आज उसका परिणाम है कि पहली बार किसी महामारी के लिए भारत ने स्वयं एक नहीं, 2-2 वैक्सीन विकसित किया। कल तक पूरे देश में 100 करोड़ लोगों को वैक्सीन की डोज दी जा चुकी होगी। 100 करोड़ लोगों को यह डोज देने वाला भारत दुनिया का पहला देश है।
 
उन्होंने कहा कि विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हुए भी हर नागरिक का जीवन बचाना हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। कोरोना प्रबंधन हमारा सबसे बेहतर तो है ही। देश में सबसे अधिक लोगों को वैक्सीन की डोज देने में भी हमें सफलता मिली है। प्रदेश में 12 करोड़ से अधिक लोगों को वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है। 1 सप्ताह में यह संख्या हम 13 करोड़ लोगों तक पहुंचा चुके होंगे। हमारे पास कोरोना की वैक्सीन भी है और हम एक दिन में 35 से 40 लाख लोगों को वैक्सीन देने में सक्षम हैं। इस प्रकार की हमारी तैयारी है। हमारा यह मानना है कि विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हुए भी हर नागरिक का जीवन बचाना हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।

 
योगी ने कहा कि कोरोना महामारी ने देश और दुनिया में बहुत बदलाव लाया है। एक तरफ बहुत सारे लोगों ने अपने प्रिय जनों को खोया है। उन सब के प्रति हमारी संवेदना है। सरकार ने तय किया है कि कोरोना से जो मौतें हुई हैं, वे दुखद हैं और उनके प्रति सरकार की पूरी संवेदना है। उन परिवारों को मुआवजे के रूप में 50 हजार रुपए देने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। साथ ही यह भी व्यवस्था की गई है कि आने वाले समय में इस प्रकार की महामारी से हम लोगों को बचा सकें। यह हम सबकी जिम्मेदारी बनती है, क्योंकि समाज में कहीं क्षति होती है, तो भौतिक रूप से क्षति एक परिवार की होती है।
 
उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना को सफलतापूर्वक नियंत्रित करने के बाद इस वर्ष का तीसरा संचारी रोग नियंत्रण का विशेष अभियान शुरू हो रहा है। आज से करीब साढ़े 4 वर्ष पहले पूर्वी उत्तरप्रदेश के जिस एक महामारी ने मासूमों को करीब 4 दशकों तक निगलने का कार्य किया था। उस महामारी के खिलाफ इस अभियान का शुभारंभ हमने किया था। उस समय अंतर विभागीय समन्वय और जनसंवाद का क्या महत्व होता है, हमने इस ताकत को पिछले 4 वर्षों में महसूस किया। यद्यपि पहले चरण में बस्ती और गोरखपुर के 7 जिले इस कार्यक्रम और इस प्रयोग के केंद्र स्थल रहे, लेकिन धीरे-धीरे कर जहां पर दिमागी बुखार से जुड़े मरीज दिखते थे और व्यापक पैमाने पर मौत होती थी, उन सभी स्थलों पर हमने इस अभियान को व्यापक रूप से शुरू किया।
ये भी पढ़ें
पंजाब में बड़ी मात्रा में हथियार बरामद, BSF और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई