0

ईसा मसीह के जन्म से सूली तक की कहानी

गुरुवार,दिसंबर 24, 2020
0
1
प्रभु ईसा मसीह का जन्म, जीवन और मृत्यु सभी कुछ रहस्यमयी है। उनके जीवन पर कई किताबें लिखी गई और कई लोगों ने बहुत कुछ कहा। उपरोक्त पूछा गया सवाल किसी का निजी नहीं है बल्कि यह सवाल दशकों से पूछा जाता रहा है। बहुत से लोग इसे सच मानते हैं कि वह ...
1
2
क्रिसमस के अवसर पर पढ़ें पवित्र बाइबिल का संदेश
2
3
ईसाई धर्म में क्रिसमस को सबसे बड़ा पर्व माना जाता है। परंपरा से ईसा मसीह का जन्म समय 25 दिसंबर सन् 6 ईसा पूर्व माना जाता है। इसीलिए हर वर्ष 25 दिसंबर को क्रिसमस मनाया जाता है। क्रिसमस से जुड़े कई रस्मों रिवाज भी हैं, जो दुनियाभर में सदियों से मनाए ...
3
4
स्वर्गदूत ने सांत्वना देते हुए यह कहा कि वे ईश्वर की माता बनने के लिए चुनी गई हैं। तब मरिया ने उत्तर दिया, 'देखिए, मैं प्रभु की दासी हूं, आपका वचन मुझमें पूरा हो।' और उसी क्षण से वह ईश्वर की माता बन गई।
4
4
5
इस बार ये जो लाल रंग का गरम कपड़े का बना कोट जो पहने हो न, वो खतरे का रंग नजर आ रहा है। इस खतरे की कीमत अब बच्चों को पीढ़ियों तक चुकानी होगी। तुम तो फिनलैंड में अपने उस गांव में जहां 6 महीने दिन और 6 महीने रात वाले देश, जो 12 महीने बर्फ की चादर से ...
5
6
ईसाई धर्म के संस्थापक ईसा मसीह हैं। ईसाइ धर्म मुख्ययतः तीन प्रभुख संप्रदाय में विभाजित हैं- कैथोलिक, प्रोटेस्टेंट और ऑर्थोडॉक्स तथा इनका धर्मग्रंथ बाइबिल है। ईसा मसीह को पहले से चला रहे प्रॉफेट की परंपरा का एक प्रॉफेट माना जाता हैं। उन्होंने दुनिया ...
6
7
ईसा मसीह के जन्म दिन क्रिसमस पर पहले लोग चर्च में एकत्रित होकर विशेष प्रार्थना करते थे। हालांकि आज भी करते हैं परंतु प्रार्थना का यह त्योहार कब धीरे-धीरे जिंगल बेल, बच्चों और सैंटा का त्योहार बन गया यह किसी को पता ही नहीं चला। उपभोक्तावाद के चलते अब ...
7
8
क्रिसमस का इंतेजार हर कोई बहुत ही बेसब्री से करता है, और इस दिन को खास बनाने के लिए इसकी तैयारियां भी कई दिनों पहले से ही शुरू कर देते है। वहीं करीबियों को गिफ्ट देने के बारे में सोच रहे है? तो हम इस लेख में आपको कुछ टिप्स बता रहे है जिन्हें अपनाकर ...
8
8
9
ईसाई धर्म (मसीही या क्रिश्चियन) समाज में होली (शूलपर्णी), मिसलटो (वांदा), लबलब (आइव) यह कुछ सदाबहार चीजें हैं, जिन्हें पवित्र माना जाता है। इन सभी का अपना एक अलग अर्थ है।
9
10
आखिर परमेश्वर के पुत्र को मनुष्य रूप में इस धरती पर आने की क्या आवश्यकता थी। परमेश्वर चाहते तो इतने वर्षों से जैसा चला आ रहा था वैसा ही रहने देते। लेकिन उन्होंने अपने इकलौते पुत्र को धरती पर भेजा।
10
11
आइए हम बनाते हैं जायकेदार क्रिसमस केक, जो आपके फेस्टिवल का उत्साह कई गुणा बढ़ा देंगे। यहां आपके लिए प्रस्तुत है कुछ खास तरह के लाजवाब
11
12
जीवन में पूर्ण आस्था। जब तक स्वयं में और प्रकृति में विश्वास नहीं बनता है तब तक अस्तित्व को संकट से बाहर नहीं माना जाता है।
12
13
तीसरी शताब्दी में ईसा मसीह के जन्मदिन का समारोह करने पर गंभीरता से विचार किया जाने लगा मगर अधिकांश धर्माधिकारियों ने उस समय उस चर्चा में भाग लेने से ही मना कर दिया।
13
14
ईसा मसीह के जन्मदिन 25 दिसंबर को क्रिसमस कहा जाता है। इस पर्व पर सांता क्लॉज़ नामक एक वृद्ध बच्चों के लिए उपहार टॉफियां आदि बहुतसी वस्तुएं लाते हैं। आओ जानते हैं सैंटा क्लॉज के बारे में 25 दिलचस्प जानकारियां।
14
15
क्रिश्चियन समुदाय के लोग हर साल 25 दिसंबर के दिन क्रिसमस का त्योहार मनाते हैं। क्रिसमस का त्योहार ईसा मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है।
15
16
प्रभु यीशु मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाया जाने वाला सबसे खास त्योहार है 'क्रिसमस'। क्रिसमस की परंपराएं बहुत ही रोचक है, जानिए
16
17
ईसाई धर्म के संस्थापक ईसा मसीह को माना जाता है। दुनियाभर में ईसाई धर्म को मानने वालों की संख्या ज्यादा है। आओ जानते हैं ईसा मसीह के बार में 25 खास और दिल‍चस्प बातें।
17
18
ईसा मसीह के जन्मदिवस क्रिसमय पर सैंटा क्लॉज़, जिंगल बेल के साथ ही क्रिसमस ट्री का बहुत ही ज्यादा महत्व है। इन तीनों को मिलाकर ही क्रिसमय का त्योहार मजेदार बन जाता है। चर्च या घरों में क्रिसमस ट्री को फूलों और बिजली की लड़ियों से सजाया जाता है। ...
18
19
मैदा, कोको पावडर, बेकिंग पावडर तथा सोडा एक परात में छानकर उसमें अंडे व चीनी डालकर एक साथ फेंटें।
19