0

ईस्टर संडे क्यों मनाया जाता है, जानिए 5 खास बातें

शनिवार,अप्रैल 16, 2022
0
1
इस बार 15 अप्रैल को गुड फ्रायडे और 17 अप्रैल 2022 को ईस्टर संडे मनाया जाएगा। रविवार को यीशु ने येरुशलम में प्रवेश किया था। ज्यादातर विद्वानों के अनुसार सन 29 ई. को प्रभु ईसा गधे पर चढ़कर यरुशलम पहुंचे थे और लोगों ने खजूर की डालियां बताकर उनका स्वागत ...
1
2
मध्ययुग की एक अद्भुत कथा सलीब की लकड़ी को स्वर्ग के बाग से जोड़ती है। ईश्वर ने स्वर्ग के बाग में हर वह पेड़ उगाया है जो दिखने में सुंदर और खाने के लिए अच्छा था Story of great Friday
2
3
इस वर्ष शुक्रवार, 15 अप्रैल 2022 को गुड फ्राइडे मनाया जा रहा है। इसे गुड फ्रायडे, होली फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे या ग्रेट फ्राइडे भी कहा जाता है।
3
4
Good Friday 2022 in India वर्ष 2022 में 15 अप्रैल, दिन शुक्रवार को गुड फ्रायडे मनाया जा रहा है। हर वर्ष ईसाई समुदाय प्रभु यीशु की बलिदान की वर्षगांठ को ही गुड फ्राइडे के रूप में मनाता है।
4
4
5
वर्ष 2022 में 17 अप्रैल को ईस्टर संडे (Easter Sunday) आ रहा है। दुनियाभर में ईसाई समुदाय के लोग प्रभु यीशु के जी उठने की याद में ईस्टर संडे मनाते हैं। अत: ईस्टर खुशी का दिन होता है। यह दिन भाईचारा, स्नेह, क्षमा और प्यार का प्रतीक माना जाता है।
5
6
Good Friday 2022 यीशु का संपूर्ण जीवन एक ईश्वरीय योजना को पूरा करने के लिए था। उन्हें सलीब पर चढ़ाया जाना कोई अपवाद नहीं है। यीशु को तो पहले से ही ज्ञात था कि ईश्वर की इच्छा क्या है?
6
7
पाम संडे यानी खजूर रविवार (Palm Sunday 2022)। यह ईसाई धर्म के अनुयायियों के प्रमुख त्योहारों में से एक है। वर्ष 2022 में दिन रविवार, 10 अप्रैल 2022 को पाम संडे मनाया जा रहा है...
7
8
हर साल 25 दिसंबर को प्रभु यीशु के जन्मदिन के मौके पर क्रिसमस पर्व (Christmas 2021) मनाया जाता है। यह ईसाई समुदाय एक खास त्योहार है। इस अवसर पर खुशी Happy Christmas का इजहार करते हुए बधाइयां, शुभकामना संदेश देकर तरह-तरह के केक, मिठाइयां बनाते हैं
8
8
9
प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को क्रिसमस पर्व मनाया जाता है। यह प्रभु यीशु के जन्मदिन के मौके पर मनाया जाने वाला खास त्योहार होता है। इसे बड़ा दिन के नाम से भी जाना जाता है
9
10
कहते हैं कि ईसा मसीह का जन्म शरद ऋतु अर्थात ठंड में हुआ था। परंपरा के अनुसार 25 दिसंबर 6 ईसा पूर्व ईसा मसीह का जन्म हुआ था। प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को यीशु का जन्म कब से मनाया जाने लगा यह शोध का विषय हो सकता है। परंतु कुछ वर्ष पूर्व हुए शोधानुसार यह ...
10
11
परंपरा के अनुसार हर वर्ष 25 दिसंबर को ईसा मसीह के जन्मदिवस को क्रिसमस के रूप में मनाया जाता है। कहते हैं कि जीसस का जन्म 6 ईसा पूर्व हुआ था। ईसाई धर्म में क्रिसमस को सबसे बड़ा पर्व माना जाता है। क्रिसमस से जुड़े कई रस्मों रिवाज भी हैं, जो दुनियाभर ...
11
12
कई शोधकर्ता मानते हैं कि ईसाई धर्म को स्थापित करने में सेंट पॉल का नाम सबसे पहले लिया जाता है। यह भी कहा जाता है कि क्रिश्चियन कल्ट ज्यूस डायसपोरा में प्रारंभ हुआ था। यह क्रिश्चियन डायसपोरा रोम, एथेंस और अलेक्जेंड्रिया में था। यहां ग्रीक बोली जाती ...
12
13
ईस्टर के बाद यानि प्रभु यीशु की मृत्यु के चालीस दिन बाद पवित्र आत्माओं के आगमन को पेंटकोस्ट के नाम से जाना जाता है। इस उत्सव को शरद ऋतु में मनाया जाता है। यहूदी लोग इस दौरान भगवान से फसलों और खेती के लिए धन्यवाद देकर दावत में भाग लेते हैं। इस बार ...
13
14
रविवार, 4 अप्रैल 2021 को ईस्टर डे/ ईस्टर संडे मनाया जाएगा। दुनियाभर में ईसाई समुदाय के लोग प्रभु यीशु के जी उठने की याद में 'ईस्टर संडे' मनाते हैं। क्रिसमस के दिन यीशु ख्रीस्त का जन्म हुआ था।
14
15
इस बार 28 मार्च पाम संडे, 2 अप्रैल को गुड फ्रायडे और 4 अप्रैल 2021 को ईस्टर संडे मनाया जाएगा। रविवार को यीशु ने येरुशलम में प्रवेश किया था। ज्यादातर विद्वानों के अनुसार सन 29 ई. को प्रभु ईसा गधे पर चढ़कर यरुशलम पहुंचे थे और लोगों ने खजूर की डालियां ...
15
16
गुड फ्राइडे का ईसाई धर्म में काफी महत्व होता है। इस दिन को ईसाई धर्म के अनुयायी शोक दिवस के रूप में मनाते हैं।
16
17
ईसा मसीह के यरुशलम में विजयी प्रवेश को खजूर रविवार के नाम से मनाया जाता है। क्योंकि लोगों ने ईसा के स्वागत में खजूर की डालियां व वस्त्र उनके रास्ते में बिछा दिए थे।
17
18
गुड फ्रायडे के दिन प्रभु ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था। सूली पर चढ़ते वक्त प्रभु ने सात वाणियां कहीं थीं
18
19
इस बार 28 मार्च पाम संडे, 2 अप्रैल को गुड फ्रायडे और 4 अप्रैल 2021 को ईस्टर संडे मनाया जाएगा। रविवार को यीशु ने येरुशलम में प्रवेश किया था। ज्यादातर विद्वानों के अनुसार सन 29 ई. को प्रभु ईसा गधे पर चढ़कर यरुशलम पहुंचे थे और लोगों ने खजूर की डालियां ...
19
20
ईसाई धर्म को क्रिश्‍चियन धर्म भी कहते हैं। इस धर्म के संस्थापक प्रभु ईसा मसीह है। ईसा मसीह को पहले से चले आ रहे प्रॉफेट की परंपरा का एक प्रॉफेट माना जाता हैं। इब्रानी में उन्हें येशु, यीशु या येशुआ कहते थे परंतु अंग्रेजी उच्चारण में यह जेशुआ हो गया। ...
20
21
पाम संडे दक्षिण भारत में प्रमुखता से मनाया जाता है। इसे 'पैसन संडे' भी कहा जाता है। पाम संडे यानी खजूर रविवार को ईसाई धर्म के अनुयायियों के प्रमुख त्योहारों में से एक त्योहार मनाया जाएगा
21
22
ईसाई धर्म को क्रिश्‍चियन धर्म भी कहते हैं। इस धर्म के संस्थापक प्रभु ईसा मसीह है। ईसा मसीह को पहले से चले आ रहे प्रॉफेट की परंपरा का एक प्रॉफेट माना जाता हैं। इब्रानी में उन्हें येशु, यीशु या येशुआ कहते थे परंतु अंग्रेजी उच्चारण में यह जेशुआ हो गया। ...
22
23
प्रभु ईसा मसीह का जन्म, जीवन और मृत्यु सभी कुछ रहस्यमयी है। उनके जीवन पर कई किताबें लिखी गई और कई लोगों ने बहुत कुछ कहा। उपरोक्त पूछा गया सवाल किसी का निजी नहीं है बल्कि यह सवाल दशकों से पूछा जाता रहा है। बहुत से लोग इसे सच मानते हैं कि वह ...
23
24
ईसाई धर्म (मसीही या क्रिश्चियन) समाज में होली (शूलपर्णी), मिसलटो (वांदा), लबलब (आइव) यह कुछ सदाबहार चीजें हैं, जिन्हें पवित्र माना जाता है। इन सभी का अपना एक अलग अर्थ है।
24
25
आखिर परमेश्वर के पुत्र को मनुष्य रूप में इस धरती पर आने की क्या आवश्यकता थी। परमेश्वर चाहते तो इतने वर्षों से जैसा चला आ रहा था वैसा ही रहने देते। लेकिन उन्होंने अपने इकलौते पुत्र को धरती पर भेजा।
25
26
जीवन में पूर्ण आस्था। जब तक स्वयं में और प्रकृति में विश्वास नहीं बनता है तब तक अस्तित्व को संकट से बाहर नहीं माना जाता है।
26
27
प्रभु यीशु मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाया जाने वाला सबसे खास त्योहार है 'क्रिसमस'। क्रिसमस की परंपराएं बहुत ही रोचक है, जानिए
27
28
ईसाई धर्म के संस्थापक ईसा मसीह को माना जाता है। दुनियाभर में ईसाई धर्म को मानने वालों की संख्या ज्यादा है। आओ जानते हैं ईसा मसीह के बार में 25 खास और दिल‍चस्प बातें।
28
29
ईसाई धर्म का धर्मग्रंथ बाइबिल है जिसे 'बाइबल' भी कहा जाता है। बाइबल को कब लिखा गया इस संबंध में मतभेद हैं। फिर भी ईसाई धर्म को स्थापित करने में सेंट पॉल का नाम सबसे पहले लिया जाता है। यह भी कहा जाता है कि क्रिश्चियन कल्ट ज्यूस डायसपोरा में प्रारंभ ...
29
30
ईसाई धर्म को क्रिश्‍चियन धर्म भी कहते हैं। इस धर्म के संस्थापक प्रभु ईसा मसीह को माना जाता है। ईसा मसीह को पहले से चले आ रहे प्रॉफेट की परंपरा का एक प्रॉफेट माना जाता हैं। इब्रानी में उन्हें येशु, यीशु या येशुआ कहते थे परंतु अंग्रेजी उच्चारण में यह ...
30
31
पाम संडे को ईसा मसीह का नगर प्रवेश हुआ था। गुड फ्राइडे को उन्हें सूली पर लटका दिया गया था और ईस्टर को वे पुन: जीवित हो गए थे। कुछ शोधकर्ताओं का मानना है कि भारत के कश्मीर में जिस बौद्ध मठ में उन्होंने 13 से 29 वर्ष की उम्र में शिक्षा ग्रहण की थी उसी ...
31
32
दुनियाभर में ईसाई समुदाय के लोग प्रभु यीशु के जी उठने की याद में ईस्टर संडे (Easter Sunday) मनाते हैं। यह दिन भाईचारा, स्नेह, क्षमा और प्यार का प्रतीक माना जाता है।
32