0

बासु चटर्जी का खट्टा-मीठा सिनेमा

गुरुवार,जून 4, 2020
0
1

नूतन : लंबी और सशक्त पारी

गुरुवार,जून 4, 2020
नूतन की सबसे बड़ी खूबी यह रही कि उन्हें कैसा भी रोल दे दिया जाए, अपने अभिनय से उसे असाधारण बनाने की क्षमता उनमें थीं। हल्के-फुल्के, चुलबुले अथवा धीर-गंभीर भूमिकाओं में नूतन ने साबित किया है कि बिना ग्लैमर के भी नंबर वन नायिका बना जा सकता है। सीमा, ...
1
2
भारतीय सिनेमा के स्वर्णयुगीन फिल्मकार राजकपूर को गुजरे हुए कई साल हो गए, लेनिक वे कभी अप्रासंगिक नहीं होंगे, क्योंकि उनका व्यक्तित्व और कृतित्व सार्वकालिक महत्व का है। राज कपूर की विरासत का लेखा-जोखा बहुत विस्तृत है। उनकी सबसे बड़ी विशेषता उनके सोच ...
2
3
कश्मीरा फिल्मों में हर तरह के रोल किया करती थीं। उन्हें रोल की लंबाई से कोई मतलब नहीं था। इसी समय उन्हें एक फिल्म ऑफर हुई जिसमें उनके साथ कृष्णा अभिषेक थे। कृष्णा के बारे में कश्मीरा बिलकुल नहीं जानती थीं। उन्हें बताया गया कि ये फिल्म स्टार गोविंदा ...
3
4
जया बच्चन ने फिल्म 'जंजीर' में महत्वहीन रोल इसीलिए स्वीकारा था ताकि अमिताभ की इस फिल्म को बड़ा सितारा मिल जाए। जंजीर के पहले रिलीज अमिताभ की अधिकांश फिल्में फ्लॉप रही थीं और जया उनसे बड़ा सितारा थीं। जया की यह मदद दर्शाती है कि वे अमिताभ को ...
4
4
5
नरगिस अभिनेत्री के बजाय डॉक्टर बनना चाहती थीं, लेकिन सुनहरे संसार के रूपहले परदे पर जब वह आ गई, तो उसने अभिनय के व्यवसाय को प्रतिष्ठा दिलाई। 1957 में 'मदर इंडिया' के समय जब वह अपने जीवन की सफलता के शीर्ष पर थीं, उसने सफेद साड़ी बदलकर दुल्हन की लाल ...
5
6
अक्षय कुमार को खिलाड़ी कुमार भी कहा जाता है क्योंकि एक दौर में उनकी 'खिलाड़ी' सीरिज की फिल्में बेहद सफल रही थी। यह खिलंदड़ किस्म का इंसान इश्क के मैदान का भी खिलाड़ी रहा है और हसीनाओं के दिल चुराया करता था।
6
7
बॉलीवुड में फिल्मकार ऐसा फॉर्मूला ढूंढते रहते हैं जिससे उनकी फिल्म सफलता के नए कीर्तिमान बनाए। ऐसा एक फॉर्मूला हाथ लग ही गया है। यदि सलमान खान की फिल्म ईद पर रिलीज की जाए तो फिल्म का सफल होना निश्चित होता है। पिछले कुछ वर्षों से ये फॉर्मूला धूम से ...
7
8
24 मई 1955 को जन्मे राजेश रोशन अपने संगीत में मेलोडी के साथ-साथ आधुनिकता का स्पर्श देना जरूरी मानते हैं व इस मामले में बर्मन (सीनियर) को अपना आदर्श मानते हैं। राजेश की सचिन दा के प्रति इस श्रद्धा का शायद देव आनंद को इलहाम हो गया और उन्होंने अपनी ...
8
8
9
ऋषिकेश मुखर्जी ने कुछ यादगार फिल्में बनाई हैं जो बार-बार देखी जा सकती हैं। इसमें से एक है 'चुपके चुपके'। इसे ऋषिदा ने 1975 में धर्मेन्द्र, शर्मिला टैगोर, अमिताभ बच्चन और जया बच्चन को लेकर बनाया था। यह ऐसी फिल्म है जो हर बार देखने में नई लगती है। ...
9
10
नवाजुद्दीन सिद्दीकी की गिनती आज बॉलीवुड के बेहतरीन अभिनेताओं में होती है। नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने यहां तक पहुंचने के लिए कड़ा संघर्ष किया है। आर्थिक परेशानियों का सामना किया है। काम पाने के लिए खूब चक्कर लगाए हैं। भूखे रहे हैं। यह कड़ा संघर्ष, ...
10
11
माधुरी दीक्षित जब अपने करियर के शिखर पर थी तब सनी देओल का नाम भी बॉलीवुड के टॉप स्टार में शुमार होता था। इसके बावजूद उन्होंने बतौर हीरो-हीरोइन मात्र एक फिल्म साथ में की। फिल्म का नाम था 'त्रिदेव' जो कि सुपरहिट रही थी। राजीव राय द्वारा निर्देशित ...
11
12
अबोध फिल्म से माधुरी दीक्षित ने बॉलीवुड में कदम रखा था। फिल्म बुरी तरह फ्लॉप रही थी। माधुरी की जगह कोई और हीरोइन होती तो यह उसकी पहली और आखिरी फिल्म साबित होती, लेकिन माधुरी का अभिनय पसंद किया गया और उन्हें कुछ फिल्में मिल गईं। स्वाति, आवारा बाप ...
12
13
अमिताभ बच्चन अभिनीत 'डॉन' उनकी बेहतरीन फिल्मों में गिनी जाती है। इस फिल्म के सभी गाने आज भी सुने जाते हैं। अमिताभ ने इस फिल्म में डबल रोल निभाया था और बॉक्स ऑफिस पर यह फिल्म बेहद कामयाब रही थी। 12 मई को इस फिल्म को रिलीज हुए 42 वर्ष हो गए। इस ...
13
14
बॉलीवुड के लंबे इतिहास पर नजर दौड़ाएंगे तो कई ऐसी फिल्में मिल जाएंगी जिनमें मां को बेहद सशक्त तरीके से पेश किया गया है। यहां तक कि कई बार वो हीरो पर भी भारी पड़ती नजर आती है। यूं तो कई यादगार किरदार और परफॉर्मेंस मिल जाएंगे। यहां चर्चा करते हैं उन ...
14
15
ओजस्वी और गंभीर आवाज के धनी पंकज कुमार मलिक एक ऐसे इंसान थे जिन्होंने धन और यश दोनों का डटकर मुकाबला किया। वे नि:संदेह एक उच्च कोटि के गायक थे और संगीत की बारीकियों का उन्हें समुचित ज्ञान था। ऐसे गीत जो स्वयं गा सकते थे वे भी उन्होंने सहगल से गवाए। ...
15
16
कुंदनलाल सहगल की तरह गायक-अभिनेता बनने की चाह तलत को हमेशा रही। शक्ल सूरत भी मालिक ने उन्हें दी। पर सफल अभिनेता वे कभी बन नहीं सके। दिले नादान, वारिस, डाक बाबू, एक गांव की कहानी, सोने की चिड़िया आदि उनकी भूमिकाओं वाली फिल्में बुरी तरह से पिटीं। ...
16
17
ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्म 'मिली' में भी अमिताभ एंग्री यंग मैन के रूप में दिखाई देते हैं, लेकिन यहां पर उनका किरदार उपरोक्त फिल्मों से अलग नजर आता है। वे रियल लाइफ के किरदार में हैं, लेकिन समाज से गुस्सा है। इसका एक कारण है। लोग उनके माता-पिता को ...
17
18
1) राजा हरिश्चन्द्र को भारत की पहली फीचर फिल्म माना जाता है। कुछ और फिल्मों के भी दावे थे, लेकिन भारत सरकार ने इसे पहली फिल्म माना। 2) राजा हरिश्चन्द्र फिल्म का प्रीमियर ओलम्पिया थिएटर मुंबई में 21 अप्रैल 1913 को हुआ, जिसमें समाज के गणमान्य ...
18
19
ऋषि कपूर का 30 अप्रैल को निधन हो गया और पूरा बॉलीवुड गमगीन हो गया। 67 वर्षीय ऋषि लगभग दो साल से कैंसर से जूझ रहे थे। अमेरिका में इलाज चला। ठीक होने के बाद भारत लौटे। एक-दो बार तबियत बिगड़ी, लेकिन संभल गई। 29 अप्रैल को उन्हें फिर मुंबई ...
19