0

राजेश खन्ना जब पूर्व प्रेमिका के घर के सामने से ले गए अपनी बारात

गुरुवार,फ़रवरी 25, 2021
0
1
श्रीदेवी से सनी देओल क्यों थे परेशान? सनी का जवाब सुन रह जाएंगे दंग...
1
2
श्रीदेवी का जन्म 13 अगस्त 1963 को शिवाकाशी, तमिलनाडु में हुआ था। जन्म के समय उनका नाम श्रीअम्मा यंगेर अय्यपन था। श्रीदेवी की मातृभाषा तमिल है।
2
3
मधुबाला! भारतीय रजतपट की वीनस! वीनस यानी शुक्र। आकाश का सबसे अद्वितीय सितारा। ज्योतिष शास्त्र कहता है कि शुक्र कलात्मक गतिविधियों, सौंदर्य और भौतिक सुख-समृद्धि का प्रतीक है।
3
4
कमनीय काया, ठिगना कद, गोल चेहरा, घुंघराले बाल, उनींदी-स्वप्निल आंखे, कमान की तरह तराशी गई भौंहें, पल-पल झपकती पलकें- ये सब सौंदर्य विशेषण गुजरे जमाने की अभिनेत्री निम्मी के लिए व्यक्त किए जा रहे हैं। इन विशेषताओं को देख कर हर दर्शक मासूम निम्मी को ...
4
4
5
बर्फी रणबीर कपूर और अनुराग बसु की बेहतरीन फिल्मों में से एक मानी जाती है। 2012 में प्रदर्शित यह फिल्म न केवल फिल्म समीक्षकों को पसंद आई थी बल्कि आम दर्शक ने भी इसे पसंद कर बॉक्स ऑफिस पर हिट बनाया था और ऐसा बहुत कम ही देखने को मिलता है। बर्फी एक ...
5
6
रोमांस हिन्दी सिनेमा का स्थाई भाव है। भारत में फिल्मों की शुरुआत से लेकर आज तक तमाम फिल्में प्रेम के इर्दगिर्द बनती आई हैं। दो लड़के, एक लड़की या फिर दो लड़की और एक लड़का पर सैकड़ों फिल्में बनी हैं। फिल्म का विषय कुछ भी हो, उसमें प्रेम जरूर दिखाया जाता ...
6
7
रोमांस के बिना हिंदी फिल्म की कल्पना नहीं की जा सकती। चाहे एक्शन हो या हॉरर, 99 प्रतिशत हिंदी फिल्मों में रोमांस देखने को मिलता है। ऐसे में वैलेंटाइन डे के प्यार भरे माहौल में 'मोस्ट रोमांटिक हिंदी मूवीज' को खोजना बहुत मुश्किल काम है। फिर भी चर्चा ...
7
8
फिल्मों में रूझान होना राजीव कपूर के लिए स्वाभाविक था क्योंकि वे उस खानदान से थे जिसने सबसे ज्यादा सितारे हिंदी फिल्मों को दिए और जो वर्षों से दर्शकों का मनोरंजन कर रहा है। पृथ्‍वीराज कपूर से यह सिलसिला शुरू हुआ और अभी भी रणबीर कपूर और करीना कपूर ...
8
8
9
महल, पाकीजा और रजिया सुल्तान जैसी भव्य कलात्मक फिल्मों से परदे पर काव्य की रचना करने वाले निर्माता-निर्देशक कमाल अमरोही का एक से बढ़कर एक अजीम शाहकारों से दर्शकों को रूबरू कराने का सिलसिला आखिरी समय तक जारी रहा था। अपने फिल्मी जीवन के आखिरी दौर में ...
9
10
जैकी श्रॉफ दिल से सोचने वाले आदमी हैं इसलिए वे बॉलीवुड में लोकप्रिय हैं। कई फिल्में उन्होंने निर्माताओं के मदद के तौर पर की, ये जानते हुए भी इससे उनके करियर पर बुरा असर पड़ सकता है। उनका तकिया कलाम 'भिड़ू' है।
10
11
जीतेन्द्र-श्रीदेवी की जोड़ी को लेकर सफलता का एक नुस्खा तैयार हो गया। हीरो-हीरोइन की थोड़ी चुहलबाजी, कादर-शक्ति की फूहड़ कॉमेडी और संवाद, आइस्क्रीम खाओगी-साथ मेरे आओगी, लडकी नहीं है तू लकड़ी का खंबा है बक-बक मत कर नाक तेरा लंबा है, बाप की कसम मां की ...
11
12
हिंदी फिल्मों में सफेद झक सूट, तितलीनुमा 'बो टाई' और कीमती पाइप से धुआं उड़ाते अंग्रेजी-हिंदी के चुटीले, एक पंक्ति वाले संवाद सपाट चेहरे और विकृत दृश्य बोध के साथ उगलते अजीत उर्फ हमीद अली खान ने खलनायकी को एक नए अंदाज में पेश किया था। सत्तर के दशक ...
12
13
डिम्पल कपाड़िया और अनिल कपूर ने जांबाज नामक फिल्म में साथ काम किया है, जिसे फिरोज खान ने निर्देशित किया था। इस फिल्म में फिरोज खान ने भी अभिनय किया था। एक गाने में रेखा नजर आई थी और श्रीदेवी ने भी छोटा-सा रोल अदा किया था। जांबाज सफल तो रही, लेकिन ...
13
14
रितिक रोशन को बॉलीवुड के मोस्ट हैंडसम हीरो में से एक माना जाता है। वे कम फिल्में करते हैं और उनके पास इस बात के लिए तर्क है कि वे क्वाटिंटी के बजाय क्वालिटी को महत्व देते हैं। दिलीप कुमार भी ऐसा ही करते थे और लंबे करियर में उन्होंने बहुत कम फिल्में ...
14
15
सलमान खान की 'मैंने प्यार किया' को ज़ीनत अमान ने इसलिए कहा था बचकानी फिल्म : सूरज बड़जात्या ने सलमान खान को 'मैंने प्यार किया' के स्क्रीन टेस्ट के लिए बुलाया तो सलमान चाह रहे थे कि सूरज उन्हें इस टेस्ट में फेल कर दे क्योंकि तब तक उनकी मूवी 'बीवी हो ...
15
16
टारजन पर खूब फिल्में बनी हैं और 1985 में फिल्म निर्माता-निर्देशक बी. सुभाष ने भी 'टारजन' फिल्म बनाई। उन्होंने टारजन के किरदार के लिए पहलवाननुमा हीरो हेमंत बिरजे को चुना। हीरोइन के किरदार के लिए किमी काटकर को प्रस्तुत किया। किमी ने भी बॉलीवुड में कदम ...
16
17
रितिक रोशन बतौर बाल कलाकार अपने पिता राकेश रोशन की कुछ फिल्में कर चुके थे। थोड़े बड़े हुए तो राकेश ने उन्हें अपना सहायक बना लिया। जब लगा कि उम्र हीरो बनने लायक हो गई है तो 1998 में राकेश रोशन ने उनको लेकर फिल्म 'कहो ना प्यार है' की प्लानिंग बनाई। नए ...
17
18
ऋतिक रोशन कितने बड़े स्टार और कितने उम्दा कलाकार हैं यह कहने की जरूरत नहीं है। कहो ना प्यार है से अपना करियर शुरू करने वाले ऋतिक कम लेकिन उम्दा फिल्में करते हैं। पेश है उनकी टॉप 12 फिल्में जो आप बार-बार देखना चाहेंगे।
18
19
बात 1999 के आखिरी महीने की है। राकेश रोशन की फिल्म ‘कहो ना प्यार है’ बन कर तैयार थी। इस फिल्म के जरिये वे अपने पुत्र रितिक रोशन को बॉलीवुड में लांच कर रहे थे। हीरोइन अमीषा पटेल की भी यह पहली फिल्म थी। फिल्म की रिलीज डेट की प्लानिंग की जा रही थी। ...
19