Beauty Oils : त्वचा की चमक का खुशबू से क्या है संबंध, रोचक जानकारी


सुगंध का इतिहास बड़ा पुराना है। राजा-महाराजाओं के काल से विभिन्न प्रकार के इत्र-सुगंधादि के वर्णन पढ़ने को मिलते हैं। केसर, गुलाब, केवड़ा, मोगरा, चमेली, चंदन तथा लोभान आदि सुगंध न सिर्फ मन को बहलाने के लिए इस्तेमाल किए जाते थे बल्कि इनके द्वारा रोगों का उपचार भी संभव था।

इन्हीं प्राचीन उपचार पद्धतियों को आजकल फिर से अपनाया जा रहा है। प्रस्तुत है कुछ महत्त्वपूर्ण सुगंधित तेलों की उपयोगिता की जानकारी :
फेशियल आइल्स

सामान्य त्वचा- बेंजोनिन, गाजर, कुसुम, लोबान, सीप्रेस, जिरेनियम, चमेली, जूनिपर, लेवेण्डर, लेमन, मार्जोटम, ऑरेंज, पामारोज, पेचौली, पिपरमिंट, पेट्टी ग्रैन, रोजमैरी, यांग-यांग।

सूखी त्वचा- बेंजोनिन, गाजर, कुसुम, जिरेनियम, हीसोप, लेमन, नेरोली, पामारोज, पेचौली, गुलाब, रोजमेरी, चंदन।

शुष्क त्वचा- गाजर, जिरेनियम, लेवेण्डर।
नम त्वचा- गाजर, सीप्रैस, जिरेनियम, हीसोप, लेवेण्डर, लेमन, पामारोज, पेचौली, गुलाब, चंदन।

संवेदी त्वचा- गाजर, कुसुम, जिरेनियम, लेवेण्डर।

असामान्य त्वचा- गाजर, कुसुम, लोबान, जिरेनियम, हीसोप, जूनिपर, लेवेण्डर, लेमन, पेचौली, पामारोज, चंदन।

बॉडी आइल्स

सूखी त्वचा- बेंजोनिन, पामारोज, पेचौली, गाजर, जिरेनियम, पेट्टी ग्रैन, लेवेण्डर, कुसुम, गुलाब, चंदन।
चिपचिपी त्वचा- लेवेण्डर, ऑरेंज, लेमन, कपूर, नेरोली, यांग-यांग, बर्गामोट।

सामान्य त्वचा- पामारोज, गाजर, जिरेनियम, लेवेण्डर, कुसुम, चमेली, नेरोली, यांग-यांग, लोबान, चंदन, पेचौली।

असामान्य त्वचा- जिरेनियम, लेवेण्डर, कुसुम, कपूर, यूकेलिप्टस थाइम गंधरस।

संवेदी त्वचा- जिरेनियम, लेवेण्डर, कुसुम।

इन सभी खुशबूदार तेलों के सेहत और सौंदर्य के लिए बेमिसाल फायदे हैं....चमकती त्वचा का गहरा राज इनमें ही छुपा है...



और भी पढ़ें :