इस्लामिक स्टेट का 'हिंदू जेहादी' पहचाना गया

Last Updated: बुधवार, 13 जनवरी 2016 (14:21 IST)
बीबीसी को मिली जानकारी के मुताबिक़ तथाकथित के ताज़ा प्रोपेगेंडा वीडियो में दिख रहा मुख्य संदिग्ध ब्रितानी नागरिक सिद्धार्थ धर है।
इस वीडियो में पाँच लोगों का क़त्ल दिखाया गया था। इस्लामिक स्टेट का कहना है कि ये लोग ब्रिटेन के लिए जासूसी कर रहे थे। इस वीडियो की जाँच के केंद्र में सिद्धार्थ धर ही है।
 
एक सूत्र ने बीबीसी से कहा है कि बहुत से लोगों का मानना है कि वीडियो में दिख रहे संदिग्ध सिदार्थ धर ही है। हालांकि अभी इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। धर पूर्वी लंदन के रहने वाला है और धर्म परिवर्तन करके अबू रुमायश के नाम से जाना जाता है। 
 
उसे 2014 में गिरफ़्तार भी किया गया था लेकिन वो ज़मानत की शर्त तोड़ कर सीरिया चला गया। धर मूल रूप से हिंदू है, लेकिन इस्लाम अपनाकर कट्टरपंथी संगठन अल मुहाजिरून से जुड़ गया था। 
 
उनसे जुड़े रहे एक व्यक्ति ने बीबीसी से कहा है कि इसमें कोई शक़ नहीं है कि वीडियो में सुनी जा रही आवाज़ धर की ही है।
 
धर की बहन ने बीबीसी से कहा है कि जब उसने पहली बार वीडियो की आवाज़ सुनी तो संदेह हुआ कि ये उनके भाई की ही आवाज़ है लेकिन वीडियो देखने के बाद अब वो इसे लेकर पूरी तरह मुतमईन नहीं हैं। उसकी बहन ने बीबीसी से कहा कि मुझे इससे धक्का लगा है।
 
उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि वीडियो की आवाज़ मेरे भाई की आवाज़ से मिलती-जुलती है, लेकिन वीडियो देखने के बाद मैं पूरे यकीन से ये नहीं कह सकती हूँ और इससे मुझे थोड़ी राहत मिली है।" इस्लामिक स्टेट के इस ताज़ा वीडियो की अभी स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं की जा सकी है।
 
इस वीडियो में एक नक़ाबपोश बंदूकधारी ब्रितानी प्रधानमंत्री को चेतावनी दे रहा है। ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन का कहना है कि नया वीडियो इस्लामिक स्टेट की बौखलाहट दिखा रहा है।
 
वो कहता है, "हम जिहाद करते रहेंगे, तुम्हारी सीमाओं को तोड़कर एक दिन तुम्हारी ज़मीन पर आक्रमण करेंगे और शरिया के मुताबिक़ शासन करेंगे।" वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए डेविड कैमरन ने कहा है कि ये अपनी ज़मीन खो रहे संगठन की अपने अंत से पहले की बौखलाहट है।
 
दस मिनट के इस वीडियो में ब्रितानी ज़बान में बोल रहा एक बच्चा भी है जो इस्लाम में आस्था न रखने वालों के क़त्ल की बात कर रहा है। चैनल 4 न्यूज़ की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ दक्षिण लंदन के एक व्यक्ति संडे डेयर ने बच्चे की पहचान अपने पोते ईसा डेयर के रूप में की है। उनका कहना है कि उनकी बेटी ग्रेस डेयर उसे अपने साथ सीरिया ले गई है।
 
हाल के दिनों में इस्लामिक स्टेट को इराक़ के रमादी शहर समेत कई मोर्चों पर पीछे हटना पड़ा है। संडे डेयर ने कहा, "ये मेरा पोता है, मैं इसे नकार नहीं सकता कि ये मेरा पोता ही है। मैं उसे बहुत अच्छे से जानता हूँ।"
 
उनका कहना है कि उनकी बेटी को वापस आकर क़ानून का सामना करना चाहिए। ब्रितानी-नाईजीरियाई मूल की ग्रेस डेयर ख़दीजा के नाम से जानी जाती हैं। उसने 18 साल की उम्र में इस्लाम अपना लिया था और 22 साल की उम्र में 2013 में वो सीरिया चली गई थी। 
 

और भी पढ़ें :