0

श्रावण मास विशेष : भगवान श्री गणेश के 7 धन मंत्र देंगे अपार धन-संपदा

मंगलवार,जुलाई 27, 2021
0
1
मासिक शिवरात्रि पर शिवजी का पूजन किया जाता है। इस शुभ अवसर पर यहां प्रस्तुत है 15 ऐसे मंत्र जिनका जाप जीवन में हर तरह की अनुकूलता लाता है।
1
2
सुख-शांति की कामना से शिव का पूजन किया जाता है। इस दिन शिव पर पुष्प चढ़ाने तथा शिव के मंत्रों के जप का विशेष महत्व माना गया है। इस दिन पूरे विधि-विधान एवं मंत्र जाप से शिव की पूजा करने से मनुष्य
2
3
भगवान शिव की जो भी व्यक्ति आराधना करता है, वह अनन्य सुखों को भोगकर अंत में मोक्ष को प्राप्त करता है। भगवान शिव अपने भक्तों के कष्टों को हरते हैं। भगवान शिव की आराधना श्रावण मास में विशेष रूप की जाती है। इस माह की हुई आराधना विशेष फल देने वाली होती ...
3
4
गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु पादुका पूजन करें। गुरु दर्शन करें। नेवैद्य, वस्त्रादि भेंट प्रदान कर दक्षिणादि देकर उनकी आरती करें तथा उनके चरणों में बैठकर उनकी कृपा
4
4
5
भगवान विष्णु की पूजा और प्रार्थना करने के लिए हरिशयनी एकादशी मनाई जाती है। भगवान विष्णु के 1000 नामों की महिमा अवर्णनीय है। इन नामों का संस्कृत स्वरूप विष्णुसहस्रनाम के रूप में विद्यमान है।
5
6
देवशयनी एकादशी पर विष्णु की यह प्रिय स्तुति मंत्र पढ़ने से वे जीवन को खुशहाल बनाकर आशीष प्रदान करते है। आइए पढ़ें...
6
7
मंत्र' का अर्थ होता है मन को एक तंत्र में बांधना। संकट कालमें अनावश्यक और अत्यधिक विचार उत्पन्न हो रहे हैं और जिनके कारण चिंता पैदा हो रही है, तो मंत्र सबसे कारगर औषधि है। आप जिस भी ईष्ट की पूजा, प्रार्थना या ध्यान करते हैं उसके नाम का मंत्र जप सकते ...
7
8
कहते हैं कि यदि कर्ज नहीं उतर पा रहा है तो बारिश का पानी एक बाल्टी में एकत्रित कर लें और उसमें दूध डालकर भगवान स्मरण करके पूरे माह में इसी तरह स्नान कर लें। ऐसा करने से धीरे-धीरे आपका कर्ज उतरने लगेगा।
8
8
9
कुंडली में अच्छे स्थान में बैठा शनि व्यक्ति को रंक से राजा बना देने की क्षमता रखता है। एक बार किसी व्यक्ति पर शनि की विशेष कृपा हो जाए तो रंक से राजा बनाती है।
9
10
गायत्री मंत्र जप के लिए 3 समय बताए गए हैं, जप के समय को संध्याकाल भी कहा जाता है।
10
11
सभी हिन्दू शास्त्रों में लिखा है कि मंत्रों का मंत्र महामंत्र है गायत्री मंत्र। यह प्रथम इसलिए कि विश्व की प्रथम पुस्तक ऋग्वेद की शुरुआत ही इस मंत्र से होती है। कहते हैं कि ब्रह्मा ने चार वेदों की रचना के पूर्व 24 अक्षरों के गायत्री मंत्र की रचना की ...
11
12
कार्तिकेय जी के दिव्‍य नाम दिए जा रहे हैं। जो इनका पाठ करता है, वह धन, कीर्ति तथा स्‍वर्गलोक प्राप्‍त कर लेता है, इसमें संशय नहीं है। कार्तिकेय के प्रसिद्ध नामों की सूची इस प्रकार है। आइए जानें...
12
13
यदि किसी कारणवश आप श्री बजरंग बाण का नित्य पाठ करने में असमर्थ हो तो प्रत्येक मंगलवार को यह पाठ अवश्य पढ़ना चाहिए। अपने किसी भी इष्ट कार्य की सिद्धि के लिए मंगल अथवा शनिवार का दिन चुन लें।
13
14
समस्त योगिनियां अलौकिक शक्तिओं से सम्पन्न हैं तथा इंद्रजाल, जादू, वशीकरण, मारण, स्तंभन इत्यादि कर्म इन्हीं की कृपा द्वारा ही सफल हो पाते हैं। प्रमुख रूप से आठ योगिनियां हैं जिनके नाम इस प्रकार हैं:- 1.सुर-सुंदरी योगिनी, 2.मनोहरा योगिनी, 3. कनकवती ...
14
15
आज सूर्य ग्रहण है। भगवान सूर्य के इन 7 सरल मंत्रों में से किसी भी मंत्र का जाप करके आप अपने जीवन के हर संकट को दूर कर सकते हैं। आइए जानें-
15
16
गुरुवार को शनि जयंती है। शनि जयंती या प्रति शनिवार इन विशेष मंत्रों के जाप से यश, सुख, समृद्धि, कीर्ति, पराक्रम, वैभव, सफलता और अपार धन-धान्य के साथ प्रगति के द्वार खुलते हैं। किसी एक मंत्र का चयन करें और अवश्य जपें....
16
17
क्या आपको भी खुशियां मिलते-मिलते रह जाती हैं? अगर ऐसा है तो यह 8 बातें आपके काम की है, जिनको जीवन में अपना कर आप शनिदेव को खुश कर सकते हैं। आइए जानें-
17
18
शनिवार के दिन तथा शनि अमावस्या के अवसर पर इन उपायों को करने से कई गुना ज्यादा फल प्राप्त होते हैं। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं ऐसे 11 सरल उपाय
18
19
धन, सुंदरता और स्वास्थ्य के लिए चंद्र देव को प्रसन्न करना चाहिए। चंद्र ग्रहण में उनकी प्रसन्नता के लिए इन मंत्रों का उच्चारण करें, हर चंद्र मंत्र का जाप 11 बार करें। धन और आरोग्य का वरदान प्राप्त करने के लिए प्रस्तुत है चन्द्रमा के मंत्र -
19