0

Shravan 2020 : भगवान शिव के ये 35 राज, शर्तिया नहीं जानते हैं आप

सोमवार,जुलाई 13, 2020
Lord Shiva
0
1
सोमवार का स्वामी चंद्रमा है। चंद्रमा भगवान शिव की जटा व मस्तिष्क में विराजमान है इसलिए भगवान शिव को 'सोमनाथ' भी कहा जाता है। इसके अलावा चतुर्दशी का स्वामी भी चंद्रमा ही है। चंद्रमा मन का भी कारक है इसलिए मन से शिव की पूजा करनी चाहिए।
1
2
अंकों में 13 नंबर को अशुभ या मनहूस समझा जाता है लेकिन क्या कभी आपने इसका कारण जानने की कोशिश की है? आइए आज इन 14 बातों से जानें 13 के अंक का रहस्य ...
2
3
1 अगस्त 2020 को प्रात:काल 5:00 बजे, (पंचांग अनुसार 31 जुलाई) को शुक्र गोचरवश राशि परिवर्तन कर मिथुन राशि में प्रवेश करेंगे। शुक्र को नैसर्गिक भोग विलास व दाम्पत्य का कारक माना जाता है।
3
4
देवों के देव महादेव देवताओं में सबसे श्रेष्ठ देव हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि शिवलिंग की पूजा करना व उसे छूना कुंवारी नारियों के लिए निषेध है।
4
4
5
नागपंचमी, सावन माह की शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाई जाती है। इस वर्ष यह पर्व आज शनिवार को हस्त नक्षत्र के प्रथम चरण के दुर्लभ योग में है।
5
6
बारहवें भाव में शनि अशुभ फल दे रहा हो तो कभी झूठ नहीं बोलना चाहिए। मांस, मदिरा, अंडे का सेवन नहीं करना चाहिए। लाल किताब की इन बातों पर अमल कर शनि से प्राप्त परेशानियों को हम समाप्त कर सकते हैं।
6
7
मंत्रों की तरंगे सूक्ष्म होती हैं और हमारे चारों ओर फैल जाती हैं। अब यह हम पर निर्भर है कि हम खुद को उसे ग्रहण करने के कितने योग्य बना पाते हैं।
7
8
यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है देवताओं को नैवेद्य अर्पित करने के कुछ नियम, जिन्हें अपना कर आप भगवान की कृपा प्राप्त कर सकते है।
8
8
9
शुक्रवार के दिन उपवास रखना चाहिए, क्योंकि यह दिन ओज, तेजस्विता, शौर्य, सौन्दर्यवर्धक और शुक्रवर्धक होता है।
9
10
श्रावण मास में प्रत्येक सोमवार को मंदिर जाकर शिव परिवार की धूप, दीप, नेवैद्य, फल और फूलों आदि से पूजा करके सारा दिन उपवास करें। शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाकर उनका दूध से अभिषेक करें।
10
11
वे लोग जिनकी शनि की साढ़ेसाती है या फिर धनु, वृश्चिक और मकर राशि वाले शनि की साढ़ेसाती से परेशान हैं तो, ऐसे लोग हर श्रावण सोमवार को रुद्राभिषेक अवश्य करें ... आइए जानिए राशि के अनुसार कैसे करें पूजन...
11
12
इस वर्ष में मौना पंचमी शुक्रवार, 10 जुलाई 2020 को मनाई जाएगी। श्रावण महीने के कृष्ण पक्ष में आने वाली पंचमी को मौना पंचमी के रूप में मनाया जाता है।
12
13
मृत्युंजय महाकाल की आराधना का मृत्यु शैया पर पड़े व्यक्ति को बचाने में विशेष महत्व है। खासकर तब जब व्यक्ति अकाल मृत्यु का शिकार होने वाला हो। इस हेतु एक विशेष जाप से भगवान महाकाल का लक्षार्चन अभिषेक किया जाता है-
13
14
गुरु ग्रह 20 नवंबर की दोपहर 1 बजकर 23 मिनट तक इसी राशि में गोचर करेंगे। इसके बाद वे मकर राशि में प्रवेश करेंगे। गुरु के राशि परिवर्तन का किन राशि के लोगों के जीवन पर क्‍या प्रभाव हो रहा है आइए जानिए...
14
15
14 जुलाई की शाम को सौर परिवार का सबसे बड़ा ग्रह गुरु, पृथ्वी और सूर्य एक सीध में होगें। इस शाम जब सूर्य पश्चिम में अस्त हो रहा होगा तब पूर्व में गुरु ग्रह (जुपिटर) उदित हो रहा होगा।
15
16
शिव को पवित्र और सच्चे भाव से जो अर्पित किया जाता है वह ग्रहण करते हैं। आइए जानें कि श्रावण मास में 30 दिनों तक क्या चढ़ाएं भगवान भोलेनाथ को...
16
17
श्रावण मास में वेबदुनिया के पाठकों के लिए हम लाए हैं 20 फूलों की सूची, इन फूलों को भूलकर भी भगवान शिव को न चढ़ाएं... भगवान शिव हो सकते हैं नाराज...
17
18
जुलाई के प्रथम सप्ताह में अमेरिका, जापान, दुबई, दक्षिण अफ्रीका, उत्तर कोरिया व चीन की स्थिति कोरोना व आर्थिक दोनों में अच्छी नहीं रहेगी।
18
19
प्रतिमाह कृष्ण पक्ष में श्रीगणेश संकष्टी चतुर्थी व्रत किया जाता है। इस दिन भगवान श्रीगणेश को अपनी राशिनुसार प्रसाद चढ़ाने से समस्त कष्ट दूर होकर
19