रेल की सीटी...

WD|
रेल की सीटी में कैसी हिज्र की तम्हीद थी,
उसको रुख्‍़सत करके जब लौटे तो अंदाज़ा हुआ।

-परवीन शाकिर



और भी पढ़ें :