जल संरक्षण के लिए इसरो की पहल

बेंगलुरू (भाषा) | भाषा| पुनः संशोधित शुक्रवार, 26 जून 2009 (14:17 IST)
एक ऐसा राष्ट्रीय डाटाबेस तैयार करने की दिशा में काम कर रहा है जिससे वर्षा जल को संरक्षित करने और उसका अधिकतम इस्तेमाल सुनिश्चित करने के प्रयासों में मदद मिलेगी।

इसरो के अध्यक्ष जी. माधवन नायर ने बताया कि वेब आधारित इस डाटाबेस का इस्तेमाल सभी राज्य कर सकते हैं।

उन्होंने कृषि आय को बढ़ाने के लिए परंपरागत भूमि और जल संसाधनों पर आधारित विकास कार्यक्रमों के अलावा जैव औद्योगिक वाटरशेड विकास पर ध्यान दिए जाने की जरूरत पर जोर दिया।

माधवन ने कल कहा कि वर्षा सिंचित इलाकों के संरक्षण और प्रबंधन का एकमात्र वैज्ञानिक समाधान वाटरशेड अवधारणा है। उन्होंने कहा कि जैव औद्योगिक अवधारणा के साथ हम ग्रामीण लोगों की समृद्धि खाद्य और जीविका की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :